शनि शान्ति के अचूक उपाय

शनि शान्ति के अचूक उपाय  

शनि शांति के अचूक उपाय पं. किशोर घिल्डियाल शनि ग्रह 4 अगस्त 2012 को मार्गी होकर पुनः कन्या से तुला राशि में प्रवेश करेगें। अतः इस राशि संक्रमण से प्रभावित होने वाले जातक शनि शांति के लिए जो प्रभावी उपाय कर सकते हैं वे इस लेख में दिये जा रहे हैं। सर्वप्रथम भोजन जमीन में बैठकर ही करें। मासांहार व मदिरापान ना करें। यदि करते हैं तो छोड़ दें। अपना अधिकतर कार्य (सफाई, जूते पाॅलिश व जूठे बर्तन, कपड़े धोना) स्वयं करें। बुजुर्गों, अपाहिजों व असहाय व्यक्तियों की यथासंभव सहायता करें। पीपल वृक्ष पर जल चढ़ाकर उसके चारो ओर चक्कर लगाएं परिक्रमा करें। शनिवार का व्रत करें तथा सायंकाल में शनि पत्नियों के नाम जपें। किसी भी प्रकार का कोई नया कार्य जिसमें पूंजी निवेश होना हो, उससे बचने का प्रयास करें। किसी भी शनि मंत्र का जाप कम से कम 1 माला (108 बार) अवश्य करें। उड़द की दाल के पकौड़े सरसों के तेल में बनाकर कुत्तों को खिलाएं। मछली, भैंसा, कौआ, काली गाय को यथाशक्ति भोजन कराएं, उनकी सेवा करें। आत्मचिंतन करें, विवादों से बचें कम से कम बोलने का प्रयास करें, धैर्य धारण करें। अमावस्या के दिन कच्चा दूध दान करें। शिव पूजा, हनुमान पूजा कर सके तो अवश्य करें। शनिवार को हनुमान चालीसा एवं सुंदरकांड का पाठ करें। शनिवार के दिन शनि की वस्तुएं दान करें। स्नान करने के जल में दूध डालकर स्नान करें। शनिवार के दिन बंदरों को केले खिलाएं। रात को दूध व दुग्ध पदार्थ ना खाएं पिएं। चीटियों को कीडी नागरा/ कराए। नारियल या बादाम बांटे अथवा जल प्रवाह करें। यदि शनि शुभ हो तो शनि- मुद्रिका, नीलम रत्न आदि धारण करें। माथे पर दूध/दही का तिलक लगाएं। काले व नीले वस्त्र कम प्रयोग करें। शिव लिंग पर दूध चढ़ाएं। बुजुर्ग व्यक्तियों से आशीर्वाद लें। मजदूरों को प्रसन्न रखें। कुष्ठ आश्रम में भोजन सामग्री दान करें। शुक्रवार की रात काले तिल व काले चने भिगोकर शनिवार के दिन घोड़े को खिलाएं। तिल के तेल का दीपक शनि यंत्र के सम्मुख जलाकर शनि चालीसा प्रतिदिन पढ़ें। शनि होरा में निर्जल रहें, वैसे खूब जल ग्रहण करें। 11 शनिवार 1 मुट्ठी उडद दाल जल प्रवाह करें। अपने पहने हुए जूते, चप्पल (काले) किसी चैराहे पर छोड़ आएं। सूर्योदय के समय 21 बार निम्न श्लोक पढ़ते हुए सूर्य दर्शन करें। सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालक्षायः शिवप्रियः मन्दचारः प्रसन्नात्मा पीड़ां दहतु मे शनिः। काले कुत्ते को तेल चुपडी रोटी मिष्ठान्न रखकर खिलाएं। घर से कबाड़ व बेकार समान हटाएं। छायापात्र का दान किया करें। कच्चे कोयले, रांगाधातु, जौ, कीलंे सर से उतारा कर शनिवार को बहाएं। उन्नीस हाथ लंबा काला धागा गूंथकर माला बनाएं, 1 सप्ताह तक धारण कर जल प्रवाह कर दें। भैरव मंदिर में मदिरा एवं इमरती का भोग लगाएं। ऊँ शं शनेश्चराय नमः का यथाशक्ति जप करें।



कांवरिया विशेषांक  आगस्त 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के कावंरिया विशेषांक में शिव पूजन और कावंर यात्रा की पौराणिकता, पूजाभिषेक यात्रा, कावंर की परंपरा, विदेशों में शिवलिंग पूजा, क्या कहता है चातुर्मास मंथन, कावंरियों का अतिप्रिय वैद्यनाथ धाम, शनि शांति के अचूक उपाय, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, रोजगार प्राप्त करने के उपाय, आदि लेखों को शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, नंदा देवी राज जात, क्यों होता है अधिकमास, रोग एवं उपाय, श्रीगंगा नवमी, रक्षा बंधन, कृष्ण जन्माष्टमी व्रत, धार्मिक क्रिया कलापों का वैज्ञानिक आधार, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, पिरामिड एवं वास्तु, सत्यकथा, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.