क्रांति : तानाशाही या लोकतांत्रिक

क्रांति : तानाशाही या लोकतांत्रिक  

अर्जुन कुमार गर्ग
व्यूस : 5589 | जुलाई 2010

मनुष्य की जन्मकुंडली में स्थित ग्रहों के विभिन्न प्रकार के संयोग और बलाबल के अध् ययन से व्यक्ति विशेष के आचरण, आदर्श और सिद्धांत का तथा उनसे किसी देश या राज्य पर पड़ने वाले प्रभाव का बोध हो सकता है, आइए, जन्मकुंडली के माध्यम से पता लगाएं कि कौन से ग्रह योग शासक को क्रांतिकारी तानाशाह और कौन सुहृदय लोकतांत्रिक बनाते हैं। धार्मिक, राजनैतिक और सामाजिक क्षेत्र में मनुष्य के चिंतन, दर्शन और कार्यशैली पर आकाशीय ग्रहों की रश्मियों के रुप में कुछ अदृश्य प्रेरणाओं का नियंत्रण होता है, जिससे अनेक प्रकार की विचारधाराओं जैसे - व्यक्तिवाद, आदर्शवाद, समाजवाद, माक्र्सवाद, गांधीवाद और उपयोगितावाद इत्यादि का प्रस्फुटन होता है। मनुष्य की जन्मकुंडली में स्थित ग्रहों के विभिन्न प्रकार के संयोग और बलाबल के अध्ययन से व्यक्ति विशेष के आचरण, आदर्श और सिद्धांत का तथा उनसे किसी देश या राज्य पर पड़ने वाले प्रभाव का बोध हो सकता है, जिससे उस व्यक्ति के सकारात्मक या नकारात्मक दृष्टिकोण में से सार्थकता की उपज की आशा की जा सकती है। ज्योतिषीय ग्रंथों के अनुसार दशम भाव, दशमेश, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु और शनि की बलवान अवस्था में राजनीतिज्ञों का जन्म होता है। इनमें सर्वप्रथम दशम भाव और इसके स्वामी का बल महत्वपूर्ण होता है, तत्पश्चात अन्य ग्रहों का।

सूर्य और चंद्र दोनों शाही ग्रह हैं, जो बली अवस्था में नेतृत्व, अधिकार और सत्ता के कारक होते हैं। सूर्य स्वयं राजा है, जो प्राणियों को अन्न, जल और प्रकाश के रुप में ऊर्जा प्रदान करता है। चंद्र मन का कारक होने के कारण किसी कार्य हेतु व्यक्ति के मन को एकाग्र करता है। मनुष्य का मन अनेक भावनाओं का समुद्र है, जिसमें उसकी अपनी प्रवृत्तियां और इच्छाएं होती हैं, जिनके अनुसार उसकी मानसिकता, व्यवहारिकता और कार्य प्रणाली नियंत्रित होती है। इसलिए चंद्र के माध्यम से मनुष्य के मन का ज्योतिषीय अध्ययन करके उसकी मानसिक शक्ति, प्रवृŸिा और कार्यशैली का बोध हो सकता है तथा किसी कार्य हेतु उसकी विगुणता, न्यूनता या कमियों को दूर करने के उपाय बताये जा सकते हैं। निर्बल चंद्र से मनुष्य का व्यक्तित्व अनेक मानसिक विकृतियों जैसे चिंता, भय, तनाव, द्वेष, ईष्र्या के कारण श्रीहीन होता है, जिसका सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था में कोई स्थान नहीं हैं। राजनीतिज्ञ और खिलाड़ियों के लिए मंगल और राहु की ऊर्जा से विरोध, दबाव और तनाव सहने की क्षमता उत्पन्न होती है। मंगल क्रूर, क्षत्रिय और युद्धप्रिय स्वभाव का होता है जिसके संग अत्याचारी, उच्छृंखल और अचानक घटनाओं को उत्पन्न करने वाला, राहु उद्दीपन का कार्य करता है। जब इन दोनों में से किसी एक या दोनों का संयोग मन-कारक किसी ग्रह से होता है तो मनुष्य की वैचारिकता का विध्वंसक रुप मुखरित होने लगता है। अतः जब किसी व्यक्ति की कुंडली के केंद्र भावों में सूर्य, मंगल, शनि और राहु में से दो या तीन का समूह हो, तो ऐसी युति से क्रांतिकारी वैचारिकता का जन्म होता है, जो लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए एक अभिशाप है, क्योंकि ऐसे व्यक्ति उग्र, उष्ण, उद्विग्न, क्रोधी, अभिमानी, कलहकारी और महत्वाकांक्षी स्वभाव के होते हैं, जिसके कारण वे राजनैतिक क्षेत्र में तानाशाही सिद्ध होते हैं।

अर्द्धशताब्दी पूर्व इटली में मुसोलिनी और जर्मनी में हिटलर ऐसे दो घृणास्पद तानाशाही शासक थे, जिनके लिए संपूर्ण विश्व में कोई सम्मान नहीं है। इनकी कुंडलियों का ज्योतिषीय विश्लेषण करने पर ज्ञात होता है कि इनके लग्न, लग्नेश और चंद्र पर पाप ग्रहों के प्रभाव होने के कारण इन दोनों का स्वभाव क्रांतिकारी मगर ईष्र्यालु, प्रतिकारी, कलहकारी और युद्धप्रिय था, जिसके कारण वे मानवीय सहृदयता के प्रतिकूल कार्य करते थे। वास्तविकता यह है कि कुंडली में उपर्युक्त ग्रह विन्यास से मनुष्य के अंदर असीम शक्ति का संचार होता है। असीमित शक्ति से मनुष्य के आचरण की शालीनता, सात्विकता, सहिष्णुता, विनम्रता और आत्मीयता का क्षरण होने लगता है, जिसके कारण उसकी राक्षसी प्रवृŸिा प्रभावी होने लगती है। परिणामस्वरुप मनुष्य इस शक्ति का सदुपयोग अपने अन्तःकरण की आवाज अर्थात् अपनी प्रज्ञा और अपने विवेक के अनुसार नहीं कर पाता। 31 वर्ष पूर्व हमें इस तथ्य का आभास हुआ था जब श्रीमति इंदिरा गांधी ने अपनी सŸाा को बचाये रखने के लिए 25 जून 1975 की रात्रि में भारतीय प्रजातांत्रिक प्रणाली का गला घोंट कर आपातकाल की घोषणा की। अनेक लोग गिरफ्तार किए गए, अखबारों की स्वतंत्रता पर पाबंदियां लग गई और विरोधियों को अनेक प्रकार से प्रताड़ित किया गया। इंदिरा गांधी की कुंडली में उस समय शनि-केतु की दशा चल रही थी। इस कुंडली में सूर्य और मंगल तथा चंद्र और शनि के मध्य राशि परिवर्तन योग जहां राजयोग कारक है वहीं हठ योग कारक भी है। किंतु, पंचम भावगत सूर्य-बुध का बृहस्पति से दृष्टि संबंध कुंठित चेतना और संकुचित मानसिकता का निषेध करता है तथा सर्वसमावेशी चरित्र का निर्माण भी करता है। अतः कुछ समय पश्चात शनि-शुक्र की दशा में उन्होंने अपनी भूल सुधार कर फिर लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास स्थापित किया। सर्वार्थ चिंतामणि, अध्याय 8, श्लोक 16 में वर्णन है- आज्ञास्थानगते सूर्येभूमिपुत्रेण वा युते।

केन्द्रान्विते तदीशेपि क्रूरामाज्ञां करोति सः।। ”यदि दशम भाव में सूर्य और मंगल की युति हो तथा दशमेश केंद्र में हो, तो ऐसा मनुष्य क्रूर आज्ञा देता है।“ हमारे विचार से किसी भी केंद्र भाव - लग्न, चतुर्थ, सप्तम और दशम भावगत सूर्य के संग यदि कोई पाप ग्रह हो, तो मनुष्य क्रूर आज्ञा देने वाला अर्थात् तानाशाही व्यवहार करने वाला होता है। पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ की कुंडली 1 में दशम भावगत स्वगृही मंगल (रुचक योग) और लग्न भावगत सूर्य व राहु तानाशाही प्रवृŸिा के कारक हैं। ये ग्रह उनके फौजी, नेता और शासक होने के लिए पर्याप्त ऊर्जा प्रदान कर रहे हैं। कारगिल युद्ध उन्हीं के कारण हुआ था और उन्होंने ही लोकतंत्र की हत्या करके प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से लोकतांत्रिक सत्ता छीन ली थी। बुध, गुरु और शुक्र राजनीति के कारक नहीं हैं, बल्कि राजनीति में सफलता हेतु बुद्धि, ज्ञान और व्यवहारिकता से परिपूर्ण भूमिका तैयार करते हैं। हिटलर की कुंडली 2 में सप्तम भावगत सूर्य, मंगल मेष राशि में विद्यमान है। मेष राशिस्थ मंगल के कारण हिटलर की कुंडली भी रुचक योग हेतु एक उत्कृष्ट उदाहरण है, किंतु सूर्य, मंगल और मेष राशि के क्षत्रिय एवं अग्नि तत्व के गुणों का लग्न पर प्रभाव तानाशाही प्रवृŸिा का द्योतक है। यद्यपि हिटलर की कुंडली में दशम भावगत शनि योगकारक और लोकतांत्रिक है, जो राज्य प्रदाता तो है, किंतु इसका मंगल से दृष्टि संबंध क्रूर और विध्वंसक है। जड़-चेतन, चराचर और परमेश्वर का दर्शन करने वाली सृष्टि में तानाशाही प्रवृŸिा का आभास संतापकारी है। प्राचीन काल में लोग राजा को ईश्वर तुल्य मानकर उसकी आज्ञा को शिरोधार्य करते थे। अवज्ञा पाप मानी जाती थी।

आजकल राज्य की सत्ता का अंतिम स्रोत जनता है, जिसके मत से किसी व्यक्ति विशेष को राज्य या देश की सŸाा सौंपी जाती है। आज एकाधिकारवाद नहीं है, बल्कि बाहुल्यवाद है, जिसे लोकतंत्र कहते हैं। इस व्यवस्था में जो व्यक्ति जनता में अपना आकर्षण रखता है, प्रभाव रखता है, व्यवहारकुशल है और लोकहितकारी है, वही एक दिन राज्य या देश का शासक बनता है। ऐसी व्यवस्था में शनि लोकतांत्रिक होने के कारण जनता व समाज का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए बलवान शनि या शश योग से लब्ध कुंडलियों के व्यक्तियों को देश, राज्य और समाज के संरक्षण, संवर्घन और संगठन से संबंधित समस्याओं और कार्य क्षेत्र का सहज ज्ञान होता है, जिससे वे समाज की अंतःचेतना में एकरस, एकात्मता और समादर का भाव प्रस्फुटित करने के निमिŸा हो जाते हैं। अतः ज्योतिषीय और राजनैतिक दृष्टिकोण से लोकतांत्रिक देशों में किसी राजनितिज्ञ के लिए शुभ शनि का बलाबल बहुत महत्वपूर्ण होता है। जब किसी व्यक्ति का स्वगृही या उच्च क्षेत्री शनि शश योग के रुप में या शुभ ग्रहों से युक्त या दृष्ट होकर बलवान होता है, तो वह व्यक्ति वसुधैव कुटुंबकम् अर्थात् समस्त संसार को कुटुंबवत् मानते हुए लोकतांत्रिक व्यवस्था की अवधारणाओं, निष्ठाओं और मौलिक अधिकारों की रक्षा हेतु चेतन होता है। ऐसे व्यक्ति के शासनकाल में जनता को राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक, अध्यात्मिक और साहित्यिक क्षेत्रों में स्वतंत्रतापूर्वक कार्य करने के अवसर प्राप्त होते हैं। अतः शुभ शनि वैध राजनीतिक व्यवस्था का कारक है -ऐसी व्यवस्था जिसे मानने की भावना लोगों के मन में हो। बृहतजातक अध्याय 20, श्लोक 9 के अनुसार- गुरुस्वक्र्षोच्चस्थे नृपति सदृशो ग्रामपुरपः सुविद्वानः चार्वांगो दिनकर समोऽन्यत्र कथितः।। ”जब शनि स्व, उच्च या गुरु की राशि में हो, तो जातक अनेक गांवों पर शासन करने वाला राजा या राजा के समान विद्वान और सुंदर अंगों वाला होता है।

“इसी प्रकार फलदीपिका अध्याय 8, श्लोक 24 में कहा गया है - दशम भावगत शनि से जातक मंत्री या राजा या उसके समान धनी, शूरवीर और प्रसिद्ध होता है। किसी देश या राज्य के शासक का उद्देश्य अपनी जनता का सामाजिक, भौतिक और आर्थिक कल्याण होता है, जिसमें सर्वसाधारण का जीवन स्तर उच्च हो। ये सभी शुक्र प्रधान गुण हैं। मनुष्य में मन, बुद्धि और आत्मा का वास होता है, जो उसे नैतिक और आध्यात्मिक सुख की ओर प्रेरित करते हैं। पाप ग्रहों से मुक्त और बृहस्पति जैसे शुभ ग्रह से युक्त या दृष्ट शनि की प्रेरणा से सत्तासीन व्यक्ति की अन्तःचेतना, दूरदर्शिता और समादर की भावना जाग्रत होती है, जिससे समाज का धार्मिक, चारित्रिक और नैतिक रुप से पोषण होता है। शनि कल-कारखाने और उद्योगों का प्रतीक है, इसलिए शनि प्रधान शासक देश के उद्योगों के संवर्धन हेतु प्रेरित होता है। इस प्रकार शनि किसी देश में ऐसा वातावरण पैदा करता है, जिसमें लोगों की आधारभूत आवश्यकताओं की पूर्ति हो, सर्वांगीण विकास हो, अमीर-गरीब का भेद और अस्पृश्यता की भावना समाप्त हो तथा देश की शक्ति का विकंेद्रीकरण हो। यही सच्चा लोकतंत्र है। बंगलादेश के जन्मदाता शेख मुजीबुर्रहमान ने पाकिस्तानी तानाशाहों के विरुद्ध लोकतंत्रवादी आवाज बुलंद की। उन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए राष्ट्रपति याहया खां की तानाशाही फौज का भारतीय फौज के साथ मिलकर मुकाबला किया, जिससे एक लोकतांत्रिक देश का उद्गम हुआ। उनकी कुंडली 3 के दशम भावगत बलवान शनि है, जिसकी दृष्टि स्वगृही चतुर्थ भाव पर है। चतुर्थ भाव जनता का है और दशम भाव शासन का। दोनों के संबंध से जनता का शासन स्थापित हो गया।

बंगला देश आज भी लोकतांत्रिक है, जबकि पाकिस्तान तानाशाहों की गिरफ्त में है। मोरारजी देसाई की कुंडली में नवमेश शनि और दशमेश गुरु उच्च राशिस्थ हैं तथा पाप ग्रहों से मुक्त हैं। ये दोनों ग्रह धैर्य, दृढ़ संकल्प और लोकतंत्र के प्रतीक हैं। सन् 1975 के आपातकालीन समय की तानाशाही सहने के पश्चात उन्होंने प्रधानमंत्री के रुप में ;24 मार्च 1977 - 15 जुलाई 1979द्ध लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत किया। वे सत्यवादी, शाकाहारी, ईमानदार, कर्मठ और धार्मिक व्यक्ति थे। इसी प्रकार पं. जवाहरलाल नेहरु की कुंडली में द्वितीय भावगत शनि पर गुरु की दृष्टि है। स्वतंत्र लोकतंत्र की स्थापना के लिए उन्होंने जीवन भर कार्य किया। कार्ल माक्र्स की कुंडली 5 में लग्न भावगत स्वगृही शनि से बलवान शश योग बन रहा है। केंद्र में दो शुभ ग्रह- बुध और शुक्र विद्यमान है, जिनसे माक्र्स एक लेखक, पत्रकार, संपादक, सामाजिक और राजनैतिक चिंतक के रुप में प्रसिद्ध हुए। उनके विचारों को समाजवादी और लोकतांत्रिक दिशा मिली, जिससे उन्होंने एकाधिकारवाद और पूंजीवाद के विरुद्ध बिगुल बजाकर मजदूरों और किसानों के हितार्थ वृहद् प्रयास किए। इसके परिणाम स्वरुप संपूर्ण विश्व में मजदूरों और किसानों की भलाई के लिए अनेक कानून बने। अब्राहम् लिंकन की कुंडली 6 में लग्नेश शनि दशम भाव में बलवान है। उनका जन्म बहुत गरीब घर में हुआ था। पिता अशिक्षित थे। लग्न भावगत सूर्य-बुध की उपस्थिति से उन्हें पठन-पाठन में बहुत रुचि थी शायद इसीलिए कष्टों से भरपूर वातावरण में भी उन्होंने अपनी पढाई-लिखाई पूर्ण की। यह ग्रहों की ही अदृश्य शक्ति थी, जो उन्हें निरंतर आदर्श चिंतन और विचारों से अभिभूत करके राजनैतिक क्षेत्र की ओर प्रेरित कर रही थी। अंततः उन्होंने अमेरिका के 16 वें राष्ट्रपति के रुप में 4 मार्च 1861 को पद भार ग्रहण किया और गुलाम प्रथा को समाप्त कर समाज के पिछड़े वर्ग को लोकतांत्रिक रुप से जीने का अधिकार दिया।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

फलादेश तकनीक विशेषांक  जुलाई 2010

futuresamachar-magazine

शोध पत्रिका रिसर्च जर्नल आॅफ एस्ट्राॅलाजी के इस अंक में भविष्यकथन की विभिन्न ज्योतिषीय तकनीकों पर अनेक ज्योतिषीय आलेख हैं।

सब्सक्राइब


.