मोती को चंद्र रत्न माना गया है। विभन्न भाषाओं में इसके विभिन्न नाम मिलते हैं यथा- मोती, मुक्ता, शशि रत्न तथा अंग्रेजी में इसे पर्ल कहते हैं। यह मुख्यतया सफेद रंग का ही होता है किंतु हल्का पीलापन लिये तथा हल्का गुलाबीपन लिये मोती भी मिलते हैं। मोती खनिज रत्न न होकर जैविक रत्न होता है। मूंगे की भांति ही मोती का निर्माण भी समुद्र के गर्भ में घोंघों के द्वारा किया जाता है। मोती का जन्म: समुद्र में एक विशेष प्रकार का कीट होता है। जिसे घोंघा कहते हैं। यह घोंघे नामक जीव सीप के अंदर रहता है। वस्तुतः सीप एक प्रकार से घांेघे का घर होता है। मोती के विषय में कहा जाता है कि स्वाति नक्षत्र में टपकने वाली बूंद जब घोंघे के खुले हुए मुंह में पड़ती है तब मोती का जन्म होता है। मोती के जन्म के विषय में वैज्ञानिक धारणा यह है कि जब कोई विजातीय कण घोंघे के भीतर प्रविष्ट हो जाता है तब वह उस पर अपने शरीर से निकलने वाले मुक्ता पदार्थ का आवरण चढ़ाना शुरू कर देता है और इस प्रकार कुछ समय पश्चात् यह मोती का रूप धारण कर लेता है। मोती फारस की खाड़ी, श्रीलंका बेनेजुएला, मैक्सिको, आस्ट्रेलिया तथा बंगाल की खाड़ी में पाए जाते हैं। भारत में मोती दक्षिण भारत के तमिलनाडु राज्य के तूतीकोरन तथा बिहार के दरभंगा जिले में भी प्राप्त होते हैं। वर्तमान समय में सबसे अधिक मोती चीन तथा जापान में उत्पन्न होते हैं। चीन तथा जापान में मोती को विशेष प्रकार से उत्पन्न किया जाता है। फारस की खाड़ी में उत्पन्न होने वाले मोती को ही ‘‘बसरे का मोती’’ कहा जाता है। यह सर्वोŸाम प्रकार का मोती होता है। विशेषता एवं धारण करने से लाभ: मोती की प्रमुख विशेषता है कि यह हमें सर्वथा अपने प्राकृतिक रूप में ही प्राप्त होता है। गोल, अण्डाकार अथवा टेढ़ा-मेढ़ा जैसा भी घोंघे के पेट में बनता है, अपने उसी रूप में यह उपलब्ध होता है। अन्य रत्नों की भांति इसकी कटिंग तथा पाॅलिस आदि नहीं की जाती और न ही इसे आकार दिया जाता है। अधिक से अधिक माला में पिरोए जाने के लिए इनमें छिद्र ही किये जाते हैं। मोती शीतवीर्य होता है। अतः इसके धारण करने से क्रोध शांत रहता है तथा मानसिक तनाव भी दूर होता है। मोती की पहचान: असली मोती की पहचान निम्नलिखित हैं- मोती में विशेष प्रकार की चमक अथवा प्राच्य आभा होती है। इसकी चमक स्थाई होती है। मोती के आकार से भी उसकी परख की जा सकती है क्योंकि यह गोल, बेडौल तथा टेढ़ा-मेढ़ा भी होता है। इसकी कोई कटिंग आदि नहीं की जाती। अतः यह अपने प्राकृतिक रूप में ही उपलब्ध होता है। मोती को किसी कपड़े पर रगड़ने से उसकी चमक में वृद्धि होती है। Û मोती तारे के समान प्रकाशमान, स्वच्छ, श्वेत तथा चिकना होता है। मोती धारण विधि: मोती सोने या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर धारण करना चाहिए। इनमें भी चांदी में धारण करना अधिक श्रेष्ठ है। सोमवार के दिन प्रातःकाल नित्य कर्म आदि से निवृŸा होकर मोती की अंगूठी को कच्चे दूध और गंगाजल से धोकर निम्नलिखित मंत्र का उच्चारण करते हुए दाएं हाथ की कनिष्ठा उंगली में धारण करना चाहिए- ‘‘श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः’
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
moti ko chandra ratn mana gaya hai. vibhann bhashaon men iske vibhinn nam milte hain yatha- moti, mukta, shashi ratna tatha angreji men ise parla kahte hain. yah mukhyatya safed rang ka hi hota hai kintu halka pilapan liye tatha halka gulabipan liye moti bhi milte hain. moti khanij ratn n hokar jaivik ratn hota hai. munge ki bhanti hi moti ka nirman bhi samudra ke garbh men ghonghon ke dvara kiya jata hai. moti ka janma: samudra men ek vishesh prakar ka kit hota hai. jise ghongha kahte hain. yah ghonghe namak jiv sip ke andar rahta hai. vastutah sip ek prakar se ghaneghe ka ghar hota hai. moti ke vishay men kaha jata hai ki svati nakshatra men tapkne vali bund jab ghonghe ke khule hue munh men parti hai tab moti ka janma hota hai. moti ke janm ke vishay men vaigyanik dharna yah hai ki jab koi vijatiya kan ghonghe ke bhitar pravisht ho jata hai tab vah us par apne sharir se niklne vale mukta padarth ka avaran charhana shuru kar deta hai aur is prakar kuch samay pashchat yah moti ka rup dharn kar leta hai. moti faras ki khari, shrilanka benejuela, maiksiko, astreliya tatha bangal ki khari men pae jate hain. bhart men moti dakshin bharat ke tamilnadu rajya ke tutikoran tatha bihar ke darbhanga jile men bhi prapt hote hain. vartaman samay men sabse adhik moti chin tatha japan men utpann hote hain. chin tatha japan men moti ko vishesh prakar se utpann kiya jata hai. faras ki khari men utpanna hone vale moti ko hi ‘‘basre ka moti’’ kaha jata hai. yah sarvoÿam prakar ka moti hota hai. visheshta evan dharan karne se labh: moti ki pramukh visheshta hai ki yah hamen sarvatha apne prakritik rup men hi prapt hota hai. gol, andakar athva terha-merha jaisa bhi ghonghe ke pet men banta hai, apne usi rup men yah upalabdh hota hai. anya ratnon ki bhanti iski kating tatha paelis adi nahin ki jati aur na hi ise akar diya jata hai. adhik se adhik mala men piroe jane ke lie inmen chidra hi kiye jate hain. moti shitvirya hota hai. atah iske dharan karne se krodh shant rahta hai tatha mansik tanav bhi dur hota hai. moti ki pahchan: asli moti ki pahchan nimnalikhit hain- moti men vishesh prakar ki chamak athva prachya abha hoti hai. iski chamak sthai hoti hai. moti ke akar se bhi uski parakh ki ja sakti hai kyonki yah gol, bedaul tatha terha-merha bhi hota hai. iski koi kating adi nahin ki jati. atah yah apne prakritik rup men hi upalabdha hota hai. moti ko kisi kapre par ragrne se uski chamak men vriddhi hoti hai. û moti tare ke saman prakashman, svachch, shvet tatha chikna hota hai. moti dharan vidhi: moti sone ya chandi ki anguthi men jarvakar dharan karna chahie. inmen bhi chandi men dharan karna adhik shreshth hai. somvar ke din pratahkal nitya karm adi se nivriÿa hokar moti ki anguthi ko kachche dudh aur gangajal se dhokar nimnalikhit mantra ka uchcharan karte hue daen hath ki kanishtha ungli men dharan karna chahie- ‘‘shran shrin shraun sah chandramse namah’
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


रत्न विशेषांक  जून 2009

रत्न विशेषांक में जीवन में रत्नों की उपयोगिता: एक ज्योतिषीय विश्लेषण, विभिन्न लग्नों एवं राशियों के लिए लाभदायक रत्नों का चयन, सुख-समृद्धि की वृद्धि में रत्नों की भूमिका. विभिन्न रत्नों की पहचान एवं उनका महत्व, शुद्धि करण एवं प्राण प्रतिष्ठा तथा रोग निवारण में रत्नों की उपयोगिता आदि के विषय में जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.