दिशा ज्ञान

दिशा ज्ञान  

व्यूस : 769 | दिसम्बर 2004

वास्तु में दिशा ज्ञान अत्यंत महत्वपूर्ण है। दिशासूचक यंत्र से दिशा ज्ञान मिलता है। लेकिन क्या इसके द्वारा दिखायी गयी दिशा सही होती है? यदि दिशासूचक यंत्र नहीं है, तो क्या किसी अन्य माध्यम द्वारा दिशा ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं?

आइए जानें

पृथ्वी एक बहुत बड़े चुंबक की भांति कार्य करती है। इस चुंबक का दक्षिण ध्रुव पृथ्वी के उत्तर ध्रुव की ओर रहता है। लेकिन चुंबकीय ध्रुव और पृथ्वी के भौगोलिक ध्रुव में अंतर रहता है। पृथ्वी का भौगोलिक ध्रुव हमेशा स्थिर रहता है, जबकि चुंबकीय धु्रव लगभग 40 किमी. प्रति किमी की गति से वायव्य कोण की ओर, गतिशील है। चंुबकीय उत्तरी धुव्र कनाडा के पास लगभग 960 पश्चिम तथा 70.50 उत्तर पर पड़ता है। चुंबकीय भूमध्य रेखा भारत में मध्यप्रदेश के पास से गुजरती है। चुंबकीय उत्तर में एवं भौगोलिक उत्तर में एक कोण रहता है, जिसे ‘मैग्नेटिक डिक्लनेशन’ कहते हैं। क्योंकि भारत के ऊपर से चुंबकीय भूमध्य रेखा गुजरती है, इसलिए:‘मैग्नेटिक डिक्लनेशन’ भारत में काफी कम है।

यह एक अंश से भी कम है। इसलिए दिशासूचक यंत्र द्वारा दर्शायी गयी दिशा लगभग सटीक होती है। ऐसा अन्य देशों में नहीं है। अमेरिका में यह ‘मैगनेटिक डिक्लनेशन’ 100, कनाडा में 140, दक्षिण अफ्रीका में 230, चीन में 60, जापान में 70 इत्यादि हंै। अतः सही दिशा जानने के लिए इस ‘डिक्लनेशन’ का ज्ञान होना अति आवश्यक है।

लेकिन यह ‘डिक्लनेशन’ भी समयानुसार बदलता रहता है। अतः दिशासूचक यंत्र द्वारा बिल्कुल सही दिशा ज्ञान करने के लिए सूक्ष्म गणनाओं की जरूरत पड़ती है। दिशासूचक यंत्र से दिशा का ज्ञान करने के लिए और भी कुछ सावधानियां बरतनी आवश्यक है, जैसे दिशासूचक के आसपास चुंबकीय पदार्थ, या चुंबक नहीं होना चाहिए। उनके बीच कम से कम एक फुट की दूरी अवश्य होनी चाहिए। बिना दिशा सूचक यंत्र के भी कई प्रकार से दिशा का ज्ञान कर सकते हैं:

  • एक छड़ी लंे। उसे सीधा जमीन में गाड़ दें। जहां उसकी छाया की नोंक पड़े, वहां पर निशान लगा दें। 15 मिनट बाद छाया की नोंक पर दोबारा निशान लगा लें। दोनों निशानों के बीच में रेखा खींच कर उन्हें जोड़ दे। यह रेखा पूर्व से पश्चिम की ओर दिशा ज्ञान कराती है और पहला निशान पश्चिम की ओर और दूसरा निशान पूर्व की ओर होगा।
  • यदि बिल्कुल सही दिशा ज्ञान करना चाहते हैं, तो सुबह उपर्युक्त विधि द्वारा निशान लगाएं और, छड़ी को केंद्रबिंदु मानते हुए, निशान के बराबर त्रिज्या लेते हुए, एक वृत्त बना दें। शाम को जबभी छड़ी की छाया इस वृत्त को जहां भी छुए, वहां पर भी निशान लगा दें और दोनों बिंदुओं को जोड़ दें। यह रेखा पश्चिम से पूर्व की ओर बिल्कुल सही दिशा दर्शाती है।

अपनी कुंडली में राजयोगों की जानकारी पाएं बृहत कुंडली रिपोर्ट में


घड़ी से दिशा ज्ञान

यदि कोई उत्तरी अक्ष में है, तो अपनी घड़ी के घंटे की सुईं को सूर्य की ओर घुमा कर खड़े जो जाएं। घंटे और 12 बजे के बीच के कोण को अर्ध विभक्त कर जो रेखा आएगी, वह ठीक दक्षिण की ओर इशारा करेगी। यदि कोई दक्षिण अक्ष में है, तो घड़ी के 12 को सूर्य की ओर घुमा लें एवं घंटे की सुईं और 12 के बीच के कोण को विभाजित करें, तो यह रेखा उत्तर की दिशा बताएगी।

सुईं द्वारा दिशा ज्ञान

एक सुईं लें। इसको किसी धागे से लटका दें और एक चुंबक, या रेशम के कपड़े के ऊपर इसकी नोक को एक दिशा में घिसें। इससे यह एक चुंबक की भांति हो जाएगी और दिशासूचक यंत्र की तरह दिशा का ज्ञान कराएगी।

चंद्रमा द्वारा दिशा ज्ञान

यदि चंद्रमा सूर्यास्त से पहले उदय हो चुका है, तो चंद्रमा का प्रकाशयुक्त भाग पश्चिम की ओर होता है और यदि अर्द्ध रात्रि के बाद चंद्रमा उदय हुआ है, तो पूर्व की ओर होता है। इस प्रकार से रात्रि में भी पूर्व और पश्चिम दिशा का आकलन किया जा सकता है।

तारों द्वारा दिशा ज्ञान

सप्तर्षि मंडल द्वारा ध्रुव तारे को पहचान सकते हैं। यह हमेशा उत्तरी ध्रुव में दिखाई देता है और हमेशा उत्तर की ओर का दिशा ज्ञान कराता है। दक्षिणी ध्रुव में दक्षिणी क्राॅस को पहचानें। उस क्राॅस से लगभग साढ़े चार गुना लंबी एक कल्पना रेखा बना लें। वही दक्षिण दिशा है।

ओरियन तारा द्वारा दिशा ज्ञान

ओरियन तारा की पहचान के लिए आकाश में तीन चमकते हुए तारों से डमरू बना हुआ देखें। यह उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव दोनों से देखा जा सकता है। क्योंकि यह सर्वदा भूमध्य रेखा के ऊपर रहता है, इसलिए यह सर्वदा पूर्व से उदय होता है और पश्चिम में छुपता है। व्यक्ति चाहे पृथ्वी पर कहीं पर भी हो, इसके उदय होने से पूर्व दिशा का ज्ञान हो जाता है।

पेड़ों द्वारा दिशा ज्ञान

पेड़ों को ध्यान से देखने पर पता चलेगा कि उनकी उत्तरी दिशा दक्षिणी दिशा से ज्यादा गीली होती है और वहां पर ज्यादा काई भी पायी जाती है। दक्षिण की ओर उनकी अधिक शाखाएं होती हैं। यह इसलिए, क्योंकि उत्तरी अक्ष में सूर्य दक्षिण दिशा में रहता है। यदि ध्यान से देखें, तो पाएंगे कि चीटियां भी अपने बिल दक्षिण दिशा की ओर बनाती हैं। यदि कोई पहाड़ी इलाके में हो, तो वह पाएगा कि दक्षिण दिशा में अधिक हरियाली और घनी घास होती है। फल भी दक्षिण दिशा में जल्दी पकते हैं। उपर्युक्त विधि द्वारा दिशा का केवल अनुमान लगा सकते हैं, लेकिन पूर्ण ज्ञान नहीं मिलता, क्योंकि कभी-कभी, वायु के कारण, उपर्युक्त तथ्यों में अंतर आ जाता है।


To Get Your Personalized Solutions, Talk To An Astrologer Now!


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

सितंबर 2020 विशेषांक  सितम्बर 2020

फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में - श्राद्ध, गोल्ड में उतार-चढ़ाव, बहु विवाह के ज्योतिषीय योग, रुद्राक्ष भगवान शिव का आशीर्वाद आदि सम्मिलित हैं ।

सब्सक्राइब


.