क्यों मनाते है।  शिवरात्रि ?

क्यों मनाते है। शिवरात्रि ?  

क्यों मनाते हैं शिवरात्रि? पं. ब्रजकिशोर ‘ब्रजवासी’ महाशिव रात्रि व्रत प्रतिवर्ष भूतभावन सदाशिव महाकालेश्वर भगवान शंकर के प्रसन्नार्थ और स्वलाभार्थ फाल्गुन, कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को किया जाता है। इसको प्रतिवर्ष ‘नित्य’ और कामना से करने से यह ‘काम्य’ होता है। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को, अर्धरात्रि के समय, शिवलिंगतयोद्भूतः कोटिसूर्यसमप्रभः। इस दिन शिव लिंग का प्रादुर्भाव हुआ था। इस कारण यह महाशिव रात्रि मानी जाती है। इस व्रत को वर्ण और वर्णेतर सभी समान रूप से कर सकते हैं। नहीं करने वाला दोष का भागीदार होता है। इस वर्ष महाशिव रात्रि का पावन पर्व 6.3.2008 गुरुवार को निश्चित है। महाशिव रात्रि व्रत निर्णय शिव लिंग के प्रकट होने के समयानुसार फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि महाशिव रात्रि के नाम से जानी जाती है तथा अन्य मासों की कृष्ण चतुर्दशी शिव रात्रि के नाम से। सिद्धांत रूप में सूर्योदय से सूर्योदय पर्यंत रहने वाली चतुर्दशी शुद्धा निशीथ (अर्धरात्रि) व्यापिनी ग्राह्य होती है। यदि यह शिव रात्रि त्रिस्पृशा (त्रयोदशी-चतुर्दशी- अमावस्या के स्पर्श की) हो, तो परमोत्तम मानी गयी ह।ै मासिक शिव रात्रि म,ंे कछु विद्वानांे के मतानुसार, त्रयोदशी विद्धा बहुत रात तक रहने वाली चतुर्दशी ली जाती है। इसमें जया त्रयोदशी का योग अधिक फलदायी होता है। स्मृत्यंतरेऽपि प्रदोषव्यापिनी ग्राह्या शिवरात्रिः चतुर्दशी। रात्रौ जागरणं यस्मांतस्मांतां समुपोषयेत्।। अत्र प्रदोषो रात्रिः । उत्तरार्ध े तस्या ं हते त्ु वाक्े तःे । स्मत्ृ यतं र मंे भी कहा गया है, कि शिव रात्रि में चतदु शर्् ाी पद्र ाष्े ाव्यापिनी गह्र ण कर।ंे रात्रि में जागरण करें। अतः उसमें उपवास करें। यहां पर प्रदोष शब्द से मतलब रात्रि का ग्रहण है। उत्तरार्ध में उसका कारण बताया गया है: कामकेऽपि- आदित्यास्तमये काले अस्ति चेद्या चतुर्दशी। तद्रात्रिः शिवरात्रिः स्यात्सा भवेदंुतमोत्तमा।। कामिक में भी कहा गया है कि सूर्य के अस्त समय में यदि चतुर्दशी हो, तो उस रात्रि को शिव रात्रि कहते हैं। वह उत्तमोत्तम होती है। आधी रात के पहले और आधी रात के बाद जहां चतुर्दशी युक्त हो, उसी तिथि में ही व्रती शिव रात्रि व्रत करें। आधी रात के पहले और आधी रात के बाद यदि चतुर्दशी युक्त न हो, तो व्रत को न करें, क्योंकि व्रत करने से आयु, ऐश्वर्य की हानि होती है। माधव मत से ईशान संहिता में कहा गया है, कि जिस तिथि में आधी रात को प्राप्त कर चतुर्दशी की प्राप्ति होती है, उसी तिथि में ही मेरी प्रसन्नता से मनुष्य अपनी कामनाओं के लिए व्रत करें। आधी रात के बाद चतुर्दशी को सदा वत्र करन े वाल े व्रत कर।ंे निशीथ के पहले दिन और प्रदोष में दूसरे दिन एकदेश की व्याप्ति में तो पूर्वा ही ग्रहण करें, क्योंकि जया योग की प्रशंसा है। अन्यान्य विद्वानों का भी यही मत प्रशंसनीय है। शिव पूजन विधान क्योंकि यह व्रत सभी वर्णों (ब्राह्मण, क्षत्रीय,वैश्य,शूद्र) और अछूत समुदाय के स्त्री-पुरुष और बाल, युवा, वृद्ध के लिए मान्य है, अतः आवश्यक नहीं कि प्रत्येक व्यक्ति मंत्रों और पूजा विधि का ज्ञान रखता हो। अतः अपने भक्ति भाव और श्रद्धा के अनुसार ही शिव पूजन करें। धन का सामथ्र्य हो, तो विद्वान् ब्राह्मणों से विधि-विधान से पूजन संपन्न कराएं। रुद्राभिषेक, रुद्री पाठ, पंचाक्षर मंत्र का जाप आदि कराएं। साधारणतया व्रती को चाहिए कि व्रत के दिन प्रातः स्नानादि के बाद दिन भर शिव स्मरण करें और सांय काल में फिर स्नान कर के भस्म का त्रिपुंड्र तिलक और रुद्राक्ष की माला धारण कर के, गंध पुष्पादि सभी प्रकार की पूजन सामग्री सहित, शिव के समीप पूर्व या उत्तर मुख बैठ कर शिव जी का यथाविधि पूजन करें। रात्रि के प्रथम प्रहर में संकल्प कर के दूध से स्नान तथा ‘¬ ह्रौं ईशानाय नमः’ का जाप करें। द्वितीय प्रहर में दधि स्नान कर ंे एव ं मत्रं ‘¬ हा्र ंै अघारे ाय नमः’ का जाप करें। तृतीय प्रहर में घृत स्नान एवं मंत्र ‘¬ ह्रौं वामदेवाय नमः’ तथा चतुर्थ प्रहर में मधु स्नान एवं ‘¬ँ ह्रौं सद्योजाताय नमः’ मंत्र से पूजन और जप करें। ऊँ नमः शिवाय एवं शिवाय नमः मंत्र से भी संपूर्ण पूजा विधि तथा ध्यान, आसन, पाद्य, अघ्र्य, आचमन, स्नान, पयः स्नान, दधि स्नान, घृत स्नान, मधु स्नान, शर्करा स्नान, पंचामृत स्नान, गंधोदक स्नान, शुद्धोदक स्नान, अभिषेक, वस्त्र, यज्ञोपवीत, उपवस्त्र, गंध, सुगंधित द्रव्य, अक्षत, पुष्पमाला, बिल्व पत्र, नाना परिमल द्रव्य, धूप, दीप, नैवेद्य, करोद्वर्तन (चंदन का लेप), ऋतुफल, तांबूल-पुंगीफल, दक्षिणा- ¬ भूर्भुवः स्वः श्री नर्मदेश्वर सांबसदाशिवाय नमः- उपर्युक्त उपचारों का, जैसे ध्यानं नाम ले कर ‘समर्पयामि’ कह कर पजू ा सपं न्न कर।ंे पनु: आरती कपूर आदि से पूर्ण कर प्रदक्षिणा, पुष्पाजंलि, शाष्टांग प्रणाम कर पूजन कर्म शिवार्पण करें। चारों प्रहर का पूजन करें। शिव रात्रि व्रत पारणा विचार पारणा के लिए ‘व्रतांते पारणम्’,‘तिथ्यंते पारणम्’ आदि वाक्यों के अनुसार व्रत की समाप्ति में पारण किया जाता है। किंतु शिव रात्रि के व्रत में यह विशेषताहै, कि ‘तिथि नामेव सर्वासामुपवासव्रतादिषु। तिथ्यंते पारणं कुर्याद्विना शिव चतुर्दशीम्’।। (स्मृत्यंतर) शिव रात्रि के व्रत का पारण चतुर्दशी में ही करना चाहिए और यह पूर्वविद्धा (प्रदोषनिशीथो भयव्यापिनी) चतुर्दशी होने से ही हो सकता है। महाशिव व्रत सारांश कथा एक समय नैमिषारण्य तीर्थ में शौनकादि ऋषियों ने सूत जी को प्रणाम कर शिव रात्रि व्रत के संबंध में प्रश्न किया कि हे सूत जी ! पूर्व काल में किसने इस उत्तम शिव रात्रि व्रत का पालन किया था और अनजान में भी इस व्रत का पालन कर के किसने कौन सा फल प्राप्त किया था ? इसका उत्तर उन्हें ऐसे मिला: एक बार एक धनवान् मनुष्य कुसंगवश शिव रात्रि के दिन शिव मंदिर में गया। एक सौभाग्यवती स्त्री वहां भक्तिपूर्वक पूजन में लीन थी। तब धनिक ने उसके आभूषण चुरा लिये। वहां उपस्थित जनों ने उसके कृत्य से क्षुब्ध हो कर उसे मार डाला। किंतु चोरी के लिए वह आठ प्रहर भूखा-प्यासा रह कर जागता रहा था, इसी कारण स्वतः व्रत हो जाने से शिवजी ने उसको सद्गति दी। शिव रात्रि व्रत का लाभ अनेक विद्वानों ने इस व्रत से होने वाले लाभों पर प्रकाश डाला है, यथा: ‘मम भक्तस्तु यो देवी शिवरात्रि मुपोषकः। गणत्वमक्षयं दिव्यमक्षयं शिवशासनम्। सर्वान् भुक्त्वा महाभोगान् ततो मोक्षमवाप्नुयात्।। इति स्कंद पुराणे। स्कंद पुराण में कहा है कि हे देवी, जो मेरा भक्त शिव रात्रि में उपवास करता है, उसे क्षय न होने वाला दिव्य गण बनाता हूं। यह शिव की शिक्षा है। वह सब महाभोगों को भोग कर अंत में मोक्ष को प्राप्त करता है। ‘द्वादशा द्विकमेतस्माच्चतु र्विंशाद्विकं तु वा। इति तत्रैवेशानसंहिता वचनात् काम्यता। ईशान संहिता का वचन है कि यह बारह वर्ष या चैबीस वर्ष के पापों का नाश करता ह।ै इसस े इसम ंे काम्यता है। ‘तत्रैव- शिवरात्रि व्रतं नाम सर्वपाप विनाशनम्। आचंडाल मनुष्याणां भुक्ति मुक्ति प्रदायकम्।’ शिव रात्रि नाम वाला व्रत सब पापों का शमन करने वाला है। आचांडालांत (चांडाल पर्यंत) मनुष्यों को भुक्ति तथा मुक्ति को देने वाला है। ‘तथा अखंडित व्रतो यो हि शिवरात्रि मुपोषयेत्। सर्वान् कामानवाप्नोति शिवेन सह मोदते।’ जो मनुष्य अखंडित व्रत को, व्रती हो कर, शिव रात्रि में उपवास करता है, उसकी सारी इच्छाएं पूर्ण हाते ी है ं तथा शिव के साथ वह आनदं करता है। ‘कश्चित् पुण्यविशेषेण व्रतहीनोऽपि यः पुमान्। जागरं कुरुते तत्र स रुद्र समतां व्रजेत्।। जो पुरुष व्रत से हीन भी कभी पुण्य विशेष से शिव रात्रि में जागरण करता हैं, वह रुद्र के बराबर होता है। इत्यादि स्कंद पुराण का वचन है, वह अनुकूल होने से, अशक्त विषयक है। संपूर्ण शास्त्रों तथा अनेक प्रकार के धर्मों के विषय में भली भांति विचार कर के इस शिव रात्रि व्रत को सबसे उत्तम बताया गया है। इस लोक में अनेकानेक प्रकार के व्रत, विविध तीर्थ, नाना प्रकारेण दान, अनेक प्रकार के यज्ञ, तरह-तरह के तप तथा जप आदि भी इस व्रत की समानता नहीं कर सकते। अतः अपने हित साधनार्थ सभी को इस व्रत का अवश्य पालन करना चाहिए। यह शिव रात्रि व्रत परम मंगलमय और दिव्यतापूर्ण है। इससे सदा सर्वदा भोग और मोक्ष की प्राप्ति होती है। यह शुभ शिव रात्रि व्रत व्रतराज के नाम से विख्यात है एवं चारों पुरुषार्थों को देने वाला है। हो सके तो उक्त व्रत को जीवन पर्यंत करें ; नहीं तो चैदह वर्ष के बाद, पूर्ण विधि-विधान के साथ, उद्यापन कर दें।



बगलामुखी विशेषांक   मार्च 2008

बगलामुखी का रहस्य एवं परिचय, बगलामुखी देवी का महात्म्य, बगलामुखी तंत्र मंत्र एवं यंत्र का महत्व एवं उपयोग, बगलामुखी की उपासना विधि, बगलामुखी उपासना में सामग्रियों का महत्व इस विशेषांक से जाना जा सकता है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.