brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer
इंजिनियर बनने के ग्रह योग

इंजिनियर बनने के ग्रह योग  

इंजीनियर बनने के ग्रह योग जय निरंजन यदि किसी जातक की कुंडली में इंजीनियर बनने के दो या दो से अधिक अच्छे योग हों तो जातक इंजीनियरिंग की शिक्षा प्राप्त कर तकनीकी क्षेत्र में कैरियर प्राप्त करता है। ज्योतिष में इंजीनियर बनने के निम्नलिखित योग पाए जाते हैं। दशम भाव या दशमेश पर मंगल या शनि का प्रभाव हो। चतुर्थ भाव या चतुर्थेश पर मंगल या शनि का प्रभाव हो। दशम भाव या दशमेश अथवा चतुर्थ भाव या चतुर्थेश पर राहु का प्रभाव हो। केंद्र या त्रिकोण में मंगल-शनि की युति या सप्तम दृष्टि संबंध हो तथा नवमेश-दशमेश की युति या दृष्टि संबंध से धर्मकर्माधिपति योग बन रहा हो। मंगल कर्मेश होकर लाभ भाव में बुध से युति कर रहा हो। मंगल और पराक्रमेश की युति हो तथा मंगल-शनि का दृष्टि संबंध हो। दशमेश पर मंगल-शनि एवं लाभेश का शुभ प्रभाव हो। उपर्युक्त योगों में से कोई दो या दो से अधिक योग चंद्र या नवांश कुंडली में भी हों। इन ग्रह योगों को निम्नलिखित उदाहरणों में देखना समीचीन होगा। प्रस्तुत कुंडली भारत-रत्न महान इंजीनियर डॉ. एम. विश्वेशरैया की है। इनकी कुंडली में इंजीनियर बनने के निम्नलिखित योग है- नवम भाव में मंगल-शनि (पराक्रमेश) की युति लग्नेश व चतुर्थेश गुरु से है तथा दशम भाव में दशमेश बुध और नवमेश सूर्य की युति से शुभ धर्म कर्माधिपति योग निर्मित है। नवम भाव स्थित मंगल व शनि और चतुर्थेश गुरु पर राहु की नवम दृष्टि है। चंद्र कुंडली के चतुर्थेश मंगल की पराक्रमेश गुरु तथा लग्नेश शनि के साथ युति है। चंद्र कुंडली के दशमेश शुक्र पर शनि की दृष्टि है। प्रस्तुत जन्मकुंडली एक सेवानिवृत्त सिविल इंजीनियर की है जो वर्तमान में एक बड़ी निर्माण कंपनी में 1 लाख प्रतिमाह वेतन पर कार्यरत हैं। इनकी कुंडली में इंजीनियर बनने के निम्न योग है- पराक्रमेश शनि की मंगल एवं राहु से सप्तम भाव में युति है। मंगल की दशम भाव पर तथा शनि की चतुर्थ भाव पर तथा राहु की चतुर्थेश गुरु पर दृष्टि है। पराक्रम भाव में नवमेश सूर्य तथा दशमेश बुध की युति से धर्म कर्माधिपति योग निर्मित है जिस पर राहु की नवम दृष्टि है। चंद्र कुंडली का दशमेश शुक्र, पराक्रमेश भी है तथा राहु से दृष्ट है। चंद्र कुंडली का चतुर्थेश मंगल, शनि-राहु से युति कर रहा है।


पुनर्जन्म विशेषांक  सितम्बर 2011

पुनर्जन्म की अवधारणा और उसकी प्राचीनता का इतिहास पुनर्जन्म के बारे में विविध धर्म ग्रंथों के विचार पुनर्जन्म की वास्तविकता व् सिद्धान्त परामामोविज्ञान की भूमिका पुनर्जन्म की पुष्टि करने वाली भारत तथा विदेशों में घटी सत्य घटनाएं पितृदोष की स्थिति एवं पुनर्जन्म, श्रादकर्म तथा पुनर्जन्म का पारस्परिक संबंध

सब्सक्राइब

.