कुछ नित्य उपयोगी मुहूर्तों की सारणी

कुछ नित्य उपयोगी मुहूर्तों की सारणी  

क्र. नक्षत्र अश्विनी,रो.,मृ.,आ.,पुन.,पुष्य, अश्ले., पू.फा., उ.फा.,हस्त, चित्रा, स्वाति, अनु., मू., पू.आ.,उ.षा.,श्र.,ध,रे,पू.भा.,उ.भा., वार रवि,बुध, गुरु तिथि 13-15 शु.प. दोनों पक्षों की 2- 3-5 6-10 -11-12 मास उŸारायण या मल रहित शुद्ध मासों में विशेष 5 वर्ष की आयु में बालक का गुरु, देवता व श्री सरस्वती जी का पूजन कर शिक्षारंभ करना शुभ रहता है। 2. रवि, बुध 8-15-30 कृष्णपक्ष की 13 व शुक्ल पक्ष की 1 को छोड़कर शुद्ध या शुभ मास अश्वि., रो., मृ., पु., तीनों उŸारा, हस्त, चि. अनु. रेवती 3. सभी शुभ 8-15-30 कृष्णपक्ष, 13 शुक्ल पक्ष की 1 को छोड़कर तीना ंे पर्वू ा, विशाखा, कृत्तिका, शुभ/कुयोगरहित अश्लेषा, भरणी नाम मुहूर्त विद्यारंभ मुहूर्त 1. क्रय मुहूर्त विक्रय मुहूर्त 4. शु.गु.बुसोरो., उ.,आषा.,उ.भा.,हस्त,पुष्य,चि., रे., अनु., मृ., व अश्विनी दुकान मुहूर्त कृष्ण1, शु.प. शुभ/कुयोगरहित 13,15, दोनों पक्षों की 2-3 -5-7-10-12 5. चं.बु.गु. शु. वर कृ.,रा.े , तीना ंे पर्वू ा, तीना ंे उŸारा वरण मुहूर्त कृ.प.1 शु.प. शुभ/कुयोगरहित 13-15 व दोनों पक्षों की 2-3-5-7-10 -11 व 12 ’’ 6. चं.बु.गु. शु. कृ., तीनों पूर्वा, स्वाति, अनु., उ.आषा.,श्र.,धनिष्ठा कन्या वरण मुहूर्त -वही- शुभ/कुयोगरहित 7. सू.बुगु.श् ाुअश्वि., हस्त, चि., स्वा., वि., अनु., ध., रे., चूड़ा पहनने का मुहूर्त कृ.प.1 शु.प. शुभ/कुयोगरहित 13-15 दोनों पक्षों की 2-3 -5-7-10-11 8. पस्र व क े एक मास उपरातं म.ृ ,चं.बु.गुपुन., पुष्य, हस्त, अनु. मूल, श्रवण जलवा पूजन -वही- शुभ/कुयोगरहित 9. शिशु जन्म स े एक सप्ताह सू.मं.गुबाद अश्वि., रो., मृ., तीनों उŸारा, हस्त, स्वाति, अनु., रे., सूतिका स्नान -वही- शुभ/कुयोगरहित


मुहूर्त विशेषांक  नवेम्बर 2009

मानव जीवन में मुहूर्त की उपयोगिता, क्या मुहूर्त द्वारा भाग्य बदला जा सकता है, मुहूर्त निकालने की शास्त्रसम्मत विधि, विवाह में मुहूर्त का महत्व, श्राद्ध, चातुर्मास, मलमास, धनु या मीन का सूर्य अशुभ क्यों तथा अस्त ग्रह काल कैसे अशुभ ? की जानकारी प्राप्ति की जा सकती है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.