नवरात्र रहस्य एवं वंदना मंत्र

नवरात्र रहस्य एवं वंदना मंत्र  

हिन्दुओं के धार्मिक उत्सवों में नवरात्रों का उत्सव अत्यंत श्रद्धा और भक्ति भाव से मनाया जाता है। घर-घर से उठने वाली हवन सामग्री और धूप-अगरबत्ती से प्रत्येक नगर महक उठता है। नाम से स्पष्ट है नवरात्र नौ दिनों के भगवती जगदंबा की विशेष पूजा आयोजन का नाम है। अधिकांश व्यक्तियों को यही ज्ञात है कि नवरात्र वर्ष में दो ही बार होते हैं। जिन्हें बासंती और शारदीय कहा जाता है। परंतु धर्म शास्त्रों के अनुसार वर्ष में चार नवरात्र होते हैं। चार नवरात्र: भारतीय वर्ष का प्रारंभ चैत्र मास की प्रतिपदा से होता है। इसका अर्थ है कि हमारा नववर्ष चैत्र मास की प्रथम तिथि से प्रारंभ होता है और इसी दिन पहले नवरात्र शुरू होते हैं। द्वितीय नवरात्र चैथे मास अर्थात आषाढ़ में, तृतीय आश्विन में तथा चैथे माघ में होते हैं। आश्विन मास के नवरात्र को सर्वश्रेष्ठ पद दिया गया है। इसे वार्षिकी नवरात्र भी कहते हैं। दूसरे महत्वपूर्ण नवरात्र बसंत ऋतु में चैत्र मास के माने जाते हैं। इन दोनों नवरात्रों से तो सभी गृहस्थ जन परिचित हैं। चारों नवरात्रों का प्रारंभ संबंधित मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को और समाप्ति नवमी को होती है। नव दुर्गा के वंदना मंत्र इस प्रकार हैं। 1. शैल पुत्री: वंदे वान्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम। वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्री यशास्विनीम्।। 2. ब्रह्मचारिणी: दधाना करपदमाम्यामक्षमालाकमण्डलु। देवी प्रसीदतु मणि ब्रह्मचारिणी यदुत्तमा।। नवरात्र रहस्य एवं वंदना मंत्र सत्यपाल ठाकुर 3. चंद्रघंटा: पिंडजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।। प्रसादं तनुते मह्यं चंद्र घण्टेति विश्रुता।। 4. कूष्मांडा: सूरासम्पूर्णकलशं रूधिराप्लुतमेव च। दधानां हस्तपदमयां कूष्मांडा शुभदास्तु मे। 5. स्कन्दमाता: सिंहासनागता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी।। 6. कात्यायनी: चंद्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवर वाहना। कात्यायनी शुभ दद्यादेवी दानव घातिनि।। 7. कालरात्रि: एक वेणी जपकिर्णपूरा नग्ना खरास्थित। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी।। वाम पादोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा। वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रि भयङकरी।। 8. महागौरी: श्वेते वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बरधराशुचिः। महागौरी शुभं दयान्महादेव प्रमोददा।। 9. सिद्धिदात्री: सिद्धगन्धर्वयज्ञद्यैर सुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।


पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  अप्रैल 2006

सभ्यता के आरम्भिक काल से ही फलकथन की विभिन्न पद्धतियां विश्व के विभिन्न हिस्सों में प्रचलित रही हैं। इन पद्धतियों में से अंक ज्योतिष का अपना अलग महत्व रहा है यहां तक कि अंक ज्योतिष भी विश्व के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग रूपों में प्रचलित है तथा इन सब में आपस में ही विभिन्नता देखने को मिलती है। हालांकि सभी प्रकार के अंक ज्योतिष के उद्देश्य वही हैं तथा इनका मूल उद्देश्य मनुष्य को मार्गदर्शन देकर उनका भविष्य बेहतर करना तथा वर्तमान दशा को सुधारना है। फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में अंक ज्योतिष के आधार पर फलकथन को वरीयता दी गयी है। इसमें मुख्यतः कीरो की पद्धति का अनुशरण किया गया है। इसके अन्तर्गत समाविष्ट महत्वपूर्ण आलेखों में- अंक ज्योतिष का परिचय एवं महत्व, अंक फलित के त्रिकोण प्रेम, बुद्धि एवं धन, मूलांक से जानिए भाग्योदय का समय, नाम बदलकर भाग्य बदलिए, हिन्दी के नामाक्षरों द्वारा व्यवसाय का चयन, अंक ज्योतिष का महत्वपूर्ण पहलू स्तूप, अंक एवं आॅपरेशन दुर्योधन, मूलांक, रोग और उपाय, अंक विद्या द्वारा जन्मकुण्डली का विश्लेषण आदि। इन आलेखों के अतिरिक्त दूसरे भी अनेक महत्वपूर्ण आलेख अन्य विषयों से सम्बन्धित हैं। इसके अतिरिक्त पूर्व की भांति स्थायी स्तम्भ भी संलग्न हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.