आप और आपका सामाजिक जीवन

आप और आपका सामाजिक जीवन  

आइए जानते हैं विभिन्न राशि /लग्न के अनुसार उनका सामाजिक मेल-जोल और व्यवहार मेष: मेष लग्न की महिलाएं व्यवहार कुशल होती हैं तथा दूसरों के कार्यों को अंजाम तक पहुंचाने की पूर्ण कोशिश करती हैं। लेकिन इनका किसी से भी कोई विशेष लगाव नहीं होता। जब इनका मन करे तो ये अपनी सामाजिक गतिविधियों में भाग लेती हैं। रिश्तेदार, संबंधी और मित्रों से मिल लेेती हैं लेकिन जब इनका मन नहीं होता है तो ये अपने में ही खोई रहती हैं और ज्यादा लोगों से मेल मिलाप नहीं रखतीं। जब इनके पास समय होता है तो ये अधिकांश समय सामाजिक गतिविधियों में ही बिताती हैं। ऐसे सामाजिक आयोजनों में ये अवश्य भाग लेती हैं जिससे इनकी मान-प्रतिष्ठा बढ़ती हो। वृष: आप व्यवहार कुशल और स्पष्ट वक्ता होती हैं। आप स्नेह तथा प्रेम भाव से भरी होती हैं। इसलिए अपने संबंधियों, मित्रों या रिश्तेदारों से मिलकर आप भावुक हो जाती हैं और अपने सभी रिश्तों की अहमियत को समझते हुए जितना महत्व देना चाहिए उतना अवश्य देती हैं। यदि आप परिवार में बड़ी हंै तो बच्चों और अपने से कम उम्र के लोगों के साथ बहुत अच्छा व्यवहार करती हैं। जब कोई मुसीबत में होता है तो उसे विशेष सपोर्ट देती हैं। पार्टी, उत्सव या अन्य किसी भी सामाजिक आयोजन में आप अपने मधुर और मिलनसार स्वभाव के कारण शीघ्र ही आकर्षण का केंद्र बन जाती हैं। मिथुन: बातूनी स्वभाव की होने के कारण मिलना-जुलना, बात करना आपको अच्छा लगता है। अपने विनोदी स्वभाव से आप सबका मनोरंजन करती हैं तथा सामने वाले को बोरियत नहीं महसूस होने देतीं। प्रभावशाली लोगों से संबंध बनाने की पूर्ण कोशिश करती हैं। आपके मित्रों की संख्या बहुत अधिक होती है। किसी सलाह के लिए पूछे जाने पर झट से अपनी राय देने के लिए तैयार हो जाती हैं। आप विश्लेषणात्मक बौद्धिक क्षमता वाली होने के कारण सामाजिक आयोजनों के प्रबंधन में कुशल मैनेजर की तरह कार्य संपादन करती हैं। कर्क: इनके व्यक्तित्व में कुछ ऐसा आकर्षण होता है कि सब लोग इनकी ओर खींचे चले आते हैं इसलिए घर, परिवार, संबंधी, बंधु, जाति, समाज में ये विशेष प्रतिष्ठित होती हैं। ऐसा लगता है जैसे बहुत से लोग इनके साथ खड़े हैं। इनका सामाजिक रूतबा देखते ही बनता है। शायद अपने इसी गुण के कारण ये महिलाएं सामाजिक व राजनैतिक क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ पदों पर आसीन होती देखी गई हंै। सामाजिक व राजनैतिक आयोजनों पर इस प्रकार की महिलाओं को विशेष रूप से आमंत्रित किया जाता है क्योंकि इनके सम्मिलित होने से इस प्रकार के उत्सवों की शोभा बढ़ जाती है। सिंह: आप राजसिक स्वभाव की होती हैं। आपको स्वयं की प्रशंसा सुनना अच्छा लगता है इसलिए आप अपने मित्रों, संबंधियों का चुनाव सोच समझकर करती हैं क्योंकि आपको सुलझे हुए तथा संतुलित विचारों वाले लोगों की संगति में रहना अच्छा लगता है। इसलिए ऐसा देखा गया है कि इनकी आर्टिस्ट टाइप के लोगों से अच्छी मित्रता निभ पाती है क्योंकि यहां इन्हें प्रतिष्ठा, सम्मान व यश आदि की प्राप्ति होती है। सामाजिक उत्सवों में इनका विशेष सम्मान इसलिए होता है क्योंकि ये सभी का ख्याल रखती हैं, सबको सम्मान व आदर तो देती ही हैं साथ ही अमर्यादित व्यवहार बिल्कुल नहीं करतीं। कन्या: कन्या लग्न की स्त्री भी बहुत विनोदी स्वभाव की होती हैं। इसलिए बात-बात पर मजाक करती हैं, सभाचतुर होती हैं और द्विअर्थी बातंे करती हैं। यद्यपि सामाजिक आयोजनों में बढ़-चढ़कर भाग लेती हैं। जब कभी इन्हंे मित्रों के साथ पार्टी में जाने का अवसर मिलता है तो अपनी वाक्पटुता और काॅमन सेंस आदि गुणों के कारण प्रसिद्ध हो जाती हैं। इनके पास हर समस्या का समाधान होने के कारण मित्र अधिक होते हैं तथा ये मित्रों में लोकप्रिय होती हैं। इन महिलाओं में भी विशेष प्रबंधन योग्यता रहती है तथा पार्टी, उत्सव, सामाजिक उत्सव के प्रबंधन की बारीकियों की इन्हें अच्छी समझ होती है। तुला: तुला लग्न की महिलाएं कामुक, भावुक किस्म की होेती हैं। आप किसी भी पार्टी की जान होती हैं। आपकी मुस्कान पर सभी फिदा हो जाते हैं और इसलिए सभी आपको सबसे ज्यादा महत्व देते हैं। ऐसा लगता है कि आपके बिना कोई पार्टी ही नहीं हो सकती। लेकिन स्वयं ये संतुलित और सुलझी हुई तथा परंपरावादी स्वभाव की होती हैं। इसलिए ये सभी लोगों से नहीं मिलती-जुलतीं। बहुत अधिक आध्यात्मिक, धार्मिक, साफ दिल, ऊर्जावान और उदार हृदय होती हैं तथा अपने किस्म के लोगों से इनकी विशेष बनती है। वृश्चिक: आप ऐसे लोगों को बेहद पसंद करती हैं जिनका जीवन में निश्चित उद्देश्य होता है। इसलिए किसी सामाजिक आयोजन, मित्र मंडली, पार्टी में जब भी जाती हैं तो वहां पर तभी सहज दिखाई देती हैं अगर आप आत्मिक रूप से संतुष्ट हांे। आप में आतिथ्य भाव होने के कारण मित्रों और संबंधियांे की खूब खातिर करती हैं। अतिथि देवो भव आपका मूल मंत्र है। इसलिए अतिथियों की सेवा और उन्हें हर प्रकार से सहज महसूस करवाने में कोई कमी नहीं रखतीं। धनु: आप सबसे अधिक तेजस्वी होती हैं और किसी भी पार्टी और सामाजिक आयोजन में जान फूंकने में सक्षम, बेहद जिंदादिल, उमंगों तरंगों से भरी तथा सर्वाधिक आकर्षण से पूर्ण होती हैं इसीलिए लोकप्रिय तथा प्रसिद्ध होती हैं। आप किसी का भी हौसला गिरने नहीं देती हैं तथा स्वयं भी उन्नति करती हैं और दूसरों की उन्नति की भावना भी आपके दिल में रहती है। आप बहुत से लोगों का हौसला बढ़ाती हैं और इसी कारण लोग आपको अपना आदर्श मानने लगते हैं। आप विशेष ऊर्जावान तथा समाजिक व राजनैतिक उत्सवों, पार्टी तथा मिलने-जुलने वाले कार्यक्रमों में विशेष ऊर्जावान होने के कारण शीघ्रता से कार्य संपादन करने के लिए जानी जाती हैं। मकर: आप पार्टी करना, सामाजिक उत्सवों में भाग लेना पसंद करती हैं। आपको मित्रों, संबंधियों से मिलने में आनंद आता है। मुख्य उद्देश्य यह होता है कि ऐसे किसी मित्र अथवा संबंधी से संपर्क हो जाए जो आपके काम आ सके। आप सदा सर्वदा अपना हित साधने में लगी रहती हैं। आप सर्वाधिक व्यवहार कुशल होती हैं। आपका व्यवहार कौशल ही आपको सामाजिक आयोजनों में प्रसिद्धि दिलाता है। आप सभी के प्रति प्रेम का भाव रखती हैं। कुंभ: घर में भले ही आपका व्यवहार कैसा भी हो किंतु समाज में मित्रों, संबंधियों के बीच तथा सामाजिक उत्सवों में आपकी सभ्यता, शालीनता व मानवता आदि विचारधारा के चलते आपको विशेष पसंद किया जाता है। आपको समाज में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है चाहे आपके आदर्श खोखले ही क्यों न हों। समाज में आपको सिद्धांतवादी, ईमानदार तथा उसूलों की पक्की परंतु कुछ मामलों में अड़ियल रवैया रखने वाली महिला के रूप में जाना जाता है। मीन: आप मस्तमौला, चंचल और इमोशनल किस्म की होती हैं। जिस पर दया आ जाए, जिसने आपको खुश कर दिया उसी से मित्रता हो गई, जल्दी लोगों के झांसे में भी आती हैं, लेकिन अच्छे मित्रों की चाह बनी रहती है। ऐसी महिलाएं सभी से सहानुभूति रखने वाली, कोमल स्वभाव की व अति संवेदनशील होने से सभी के दुःख को समझती हैं व सबको सहारा भी देती हैं। मेहनतकश, सहनशील और शक्तिशाली, ऊर्जावान लोग आपको बेहद पसंद होते हैं। इन महिलाओं के विचार व इनका दृष्टिकोण इनकी आयु के अनुपात में अधिक परिपक्व देखा गया है। इन महिलाओं की बौद्धिक व आध्यात्मिक परिपक्वता ही इनकी छवि को समाज में सहनशील प्राणी के रूप में स्थापित करती है।


फेस रीडिंग विशेषांक  मार्च 2016

भविष्य कथन की महत्वपूर्ण पद्धतियां श्रष्टि के प्रारम्भ से ही इस धरा के विभिन्न हिस्सों में मौजूद रही हैं। प्रत्येक सभ्यता में किसी न किसी रूप में भविष्यवक्ता अथवा अन्तर्द्रष्टा भूत एवं भविष्य के विषय में किसी न किसी प्रकार से लोगों को अवगत कराते रहे हैं। भारत में भी इन विधाओं की समृद्ध विरासत रही है जहां हर काल में ज्योतिष, हस्तरेखा शास्त्र, अंक शास्त्र, मुखाकृति विज्ञान आदि पुष्पित-पल्लवित होते रहे हैं तथा इन्होंने लोगों के भविष्य को आकार देने में महती भूमिका अदा की है। फ्यूचर समाचार के इस वर्तमान विशेषांक में मुखाकृति विज्ञान पर विशेष जोर दिया गया है। इस विषय पर अनेक महत्वपूर्ण आलेख समाविष्ट किये गये हैं जिनमें से कुछ अति महत्वपूर्ण आलेख हैं: नैन अन्तःकरण के झरोखे हैं, बनावट के अनुसार भौहें तथा उनके फल, आंखे व्यक्तित्व का आईना, नाक की आकृति स्वभाव एवं भविष्य आदि। इन विशिष्ट आलेखों के अतिरिक्त पूर्व की भांति सभी स्थायी स्तम्भ मौजूद हैं जिनमें विज्ञ ज्योतिर्विदों के आलेखों को स्थान दिया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.