अंक विज्ञान के अनुसार धन संबंधी कार्य कब करें

अंक विज्ञान के अनुसार धन संबंधी कार्य कब करें  

अंक विज्ञान के अनुसार धन संबंधी कार्य कब करें? डाॅ. भगवान सहाय श्रीवास्तव भा ग्यांक द्वारा आप अपनी आर्थिक स्थितियों एवं गतिविधियों को सुनियोजित कर सकते हैं अर्थात् धन संबंधी कार्य उस दिन या उस समय करें जो भाग्यांक के अनुकूल हो। धन संबंधी कार्यों के लिए भाग्यांक निकालने के लिए जन्म दिन और जन्म समय को जानना आवश्यक है। इस विधि में जन्म समय में केवल जन्म के घंटे के ज्ञान की आवश्यकता होती है, मिनट आदि का कोई महत्व नहीं होता। उदाहरण के लिए, यदि किसी का जन्म प्रातः काल 6ः30 पर हुआ है तो यह समझा जाएगा कि जन्म 6ः00 और 7ः00 बजे के बीच हुआ। सायंकाल 7ः30 बजे जन्म हुआ हो तो 19ः00 और 20ः00 बजे के बीच का समझा जाएगा। इस संदर्भ में एक तालिका यहां प्रस्तुत है। इसके अनुसार जो अंक जातक के जन्म समय के घंटे के सामने होगा, वही उसका भाग्यांक होगा और वही समय उसके धन-संबंधी कार्यों के लिए शुभ होगा। तालिका में कुछ अंकों की छाप गहरी है और कुछ की हल्की। गहरी छाप वाले अंक सकारात्मक समय और हल्की छाप वाले नकारात्मक समय के द्योतक हैं। सकारात्मक घंटे अंकों को सौभाग्य सूचक व शक्तिशाली बनाते हैं, अतः वे जातक के लिए नकारात्मक घंटों से अधिक शुभ होंगे। वैसे जातक का जन्म सकारात्मक घंटे में हुआ हो या नकारात्मक घंटे में, उस घंटे से संबंधित अंक ही उस जातक का भाग्यांक होगा। उदाहरण के लिए, यदि जातक का जन्म सोमवार को प्रातः काल 6 और 7 बजे के बीच हुआ हो तो उसका भाग्यांक 5 होगा। इस प्रकार, उसका 5 अंक के अवधिकाल में कोई विशेष कार्य करना फलदायक सिद्ध होगा। सकारात्मक अवधि स्वाभाविक तौर पर धन संबंधी या अन्य रचनात्मक कार्यों के लिए सर्वोंŸाम होती है। नकारात्मक अवधि अध्ययन और शोधकार्य आरंभ करने तथा घोड़ों की रेस जैसे कार्यों के लिए शुभ होती है। यह अवधि अतःप्रेरणा शक्ति के लिए अधिक बली होती है। सकारात्मक अवधि रचनात्मक और सक्रियता के कार्यों के लिए अधिक उपयुक्त होती है। ऊपर वर्णित उदाहरण का भाग्यांक 5 है। इस भाग्यांक वाले जातक के लिए शुभ अवधि है सोमवार को सुबह 6ः00 से 17ः00 तक और रविवार को सुबह 2ः00 से 3ः00 तक सकारात्मक और रात्रि 9ः00 से 10ः00 तक नकारात्मक। सोमवार को ही 8ः00 से 9ः00 तक सकारात्मक, मंगलवार को सुबह 3ः00 से 4ः00 तक सकारात्मक, रात्रि 10ः00 से 11ः00 तक नकारात्मक, बुधवार को रात के 12 से 1ः00 तक सकारात्मक, सुबह 7ः00 से 8ः00 तक नकारात्मक, दोपहर 2ः 00 से 3ः00 तक सकारात्मक और रात 9ः00 से 10ः00 तक नकारात्मक, बृहस्पतिवार को सायं 6ः00 से 7ः00 तक सकारात्मक, शुक्रवार को सुबह 1ः00 से 2ः00 तक नकारात्मक, 8ः00 से 9ः00 तक सकारात्मक दोपहर 3ः00 से 4ः00 तक नकारात्मक, रात 10ः00 से 11ः00 तक सकारात्मक, शनिवार को सुबह 5ः00 से 6ः00 तक नकारात्मक और शाम 7ः00 से 8ः00 तक नकारात्मक। इसी विधि का प्रयोग अन्य भाग्यांकों के लिए भी करना चाहिए। इस प्रकार, उपयुक्त समय का चयन कर आप भी धन संबधी कार्यों में शुभता लाकर धनी व सफल हो सकते हैं।



अंक शास्त्र विशेषांक   सितम्बर 2008

अंक शास्त्र में प्रचलित विभिन्न पद्वतियों का विस्तृत विवरण, अंक शास्त्र में मूलांक, नामांक व भाग्यांक का महत्व, अंक शास्त्र में मूलांक, भाग्यांक व नामांक के आधार पर भविष्य कथन की विधि, अंक शास्त्र के आधार पर पीड़ा निवारक उपाय, नामांक परिवर्तन की विधि एवं प्रभाव

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.