वास्तु में दिशा ज्ञान

वास्तु में दिशा ज्ञान  

प्र.: भवन में पूर्व दिशा का क्या महत्व है ? उ.: वास्तु शास्त्र का मुख्य आधार ज्योतिष शास्त्र है। जिस प्रकार ग्रहों के अनुकूल और प्रतिकूल प्रभाव मानव जीवन पर पड़ते हंै उसी प्रकार ग्रह अपने शुभ और अशुभ प्रभाव से वास्तु की दिशाओं को प्रभावित कर उस मकान में रहने वाले के तत्संबंधी प्रभाव में कमी या वृद्धि करते हैं। पूर्व दिषा का स्वामी इंद्र एवं प्रतिनिधि ग्रह सूर्य है। सृष्टि के सृजन में सूर्य का विशेष महत्व है। इनसे ही समस्त सृष्टि में प्राणियों और वनस्पतियों की उत्पत्ति, पोषण, प्रलय होते हैं। सूर्य ही ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश की एकीकृत मूर्ति त्रिमूर्ति का प्रतीक है। जिस घर का मुख्य द्वार बड़ा हो, उसमें बड़ी-बड़ी खिड़कियों एवं झरोखांे से सूर्य का प्रकाश आता हो तथा पूर्व की दिशा में किसी प्रकार का दोष नहीं हो तो उसमें वास करने वाले को अच्छे स्वास्थ्य, पराक्रम, तेजस्विता, सुख-समृद्धि एवं गौरवपूर्ण जीवन की प्राप्ति होती है। प्र.: भवन के पूर्व दिशा में दोष रहने पर क्या प्रभाव होता है ? उ.: घर के पूर्वी भाग में कूड़ा-कचरा, पत्थर और मिट्टी के ढेर हों तो संतान की होनी होती है। साथ ही इस दिषा मंे दोष होने पर व्यक्ति के सांसारिक एवं आध्यात्मिक विकास में कमी आ जाती है। पिता के सुख में कमी, पुत्र संतान की कमी, विकलांग संतान का जन्म एवं यश और प्रतिष्ठा में कमी आती है। इसके अतिरिक्त इस दिशा के दोषपूर्ण होने पर धन का अपव्यय, ऋण, मानसिक अषांति, नेत्र विकार, लकवा, रक्तचाप, सिर दर्द या सिर से संबंधित रोग, हड्डी के टूटने आदि रोग की संभावना बनती है। प्र.: भवन के पूर्व दिशा में दोष रहने पर क्या उपाय करना चाहिए? उ.: पूर्व दिशा में दोष रहने पर निम्न उपाय करना लाभप्रद होता है: 1. दिषा दोष निवारणार्थ पूर्व दिशा में सूर्य यंत्र की स्थापना करें। 2. सूर्य को अघ्र्य दंे एवं उनकी उपासना करंे। 3. पूर्व दिशा का प्रतिनिधि ग्रह सूर्य है। यह काल पुरूष का मुख है। अतः पूर्वी द्वार पर सूर्य यंत्र स्थापित करें और वास्तु मंगलकारी तोरण लगाएं। 4. आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें। 5. पूर्व में पानी का जलकुंड बनाएं और उसमें लाल कमल लगायें। प्र.: भवन में पश्चिम दिशा का क्या महत्व है ? उ.: पष्चिम दिषा का स्वामी वरुण, आयुध पाष एवं प्रतिनिधि ग्रह षनि है। शनि काल है, शनि अवधि है। शनि दुर्भाग्य एवं सौभाग्य दोनों का प्रतिनिधित्व करता है। शनि को अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए कोई व्यग्रता या घबराहट नहीं होती है। वह निश्चयपूर्वक निर्मोही की तरह काल चक्र मंे अपने शिष्यों को डाल कर उनके अहं, उनकी आसक्तियों तथा उनकी दुर्बलताओं को शनैः शनैः हटा कर उन्हें आध्यात्मिक विकास के लिए सक्षम बनाता है। पष्चिम दिषा कालपुरुष के अनुसार सप्तम स्थान से जुड़ी हुई है। पत्नी सुख, वैवाहिक सुख, व्यवसाय में प्रगति, साझेदारी का व्यवसाय, कोर्ट कचहरी के मामले, गुप्तांग एवं जननांग का विचार इसी स्थान से किया जाता है। प्र.: भवन के पश्चिम दिशा में दोष रहने पर क्या प्रभाव होता है ? उ.: भवन में घर या वर्षा जल पश्चिम से होकर बाहर जा रही हो तो पुरूष लम्बी बीमारियों के शिकार होते हंै। इस दिशा में दोष रहने पर नपुंसकता, पैरांे में तकलीफ, कुष्ठ रोग, रीढ़ की हड्डी में कष्ट, गठिया, स्नायु एवं वात संबंधी रोगों की संभावना रहती है। यदि घर की पष्चिम दिषा में दरारें हों तो गृहस्वामी के गुप्तांग में बीमारी होती है तथा आमदनी अव्यवस्थित रहती है। पश्चिम दिशा में अग्नि स्थान हो तो गर्मी, पित्त और मस्से की शिकायतें होगी। प्र.: भवन के पश्चिम दिशा में दोष रहने पर क्या उपाय करना चाहिए? उ.: पश्चिम में दिशा दोष रहने पर निम्न उपाय करना लाभप्रद होता हैः- 1. पष्चिम दिषा जनित दोष निवारण हेतु घर में वरुण यंत्र की स्थापना करें। 2. यदि पश्चिम दिशा बढ़ी हुई हो तो उसे काटकर वर्गाकार या आयताकार बनाएं। 3. षनिवार को खेजड़ी के वृक्ष को पानी से सींचें। 4. शनि व्रत करें तथा शनि यंत्र के समक्ष शनि स्तोत्र का पाठ करें। 5. पश्चिम की चारदीवारी को ऊँचा करें तथा पश्चिम में भारी वृक्ष लगायें। प्र.: भवन में उत्तर दिशा का क्या महत्व है ? उ.: उत्तर दिषा का स्वामी कुबेर, आयुध गदा एवं प्रतिनिधि ग्रह बुध है। बुध उत्तर दिशा का स्वामी माना गया है। बुध जिस ग्रह के साथ होता है उसी के अनुसार अपना फल देता है अर्थात शुभ ग्रहों के साथ हो तो शुभ और अशुभ ग्रहों के साथ हो तो अशुभ होता है। उत्तर दिषा से काल पुरुष के हृदय एवं सीने का विचार किया जाता है। जन्म कुंडली का चैथा भाव इसका कारक स्थान है। यह दिषा मां का स्थान है। इस दिषा में खाली जगह छोड़ने से ननिहाल पक्ष लाभान्वित होता है। यह दिशा शुभ होने पर व्यक्ति को विद्या तथा बुद्धि की प्राप्ति और उसमें कवित्व शक्ति तथा विभिन्न प्रकार के आविष्कारांे की क्षमता का विकास होता है। साथ ही नौकर-चाकर, मित्र, घर एवं विभिन्न प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। प्र.: भवन के उत्तर दिशा में दोष रहने पर क्या प्रभाव पड़ता है ? उ.: उत्तर दिषा दोषपूर्ण हो तो गृहस्वामी की कंुडली का चैथा भाव निष्चित बिगड़ा हुआ होगा। ऐसे जातक के मातृ सुख, नौकर-चाकर के सुख, भौतिक सुख आदि की कमी रहती है। साथ ही हर्निया, हृदय तथा चर्मरोग, गाॅल ब्लाडर की बीमारी,पागलपन, हैजे, फेफड़े एवं रक्त से संबंधित बीमारियों की संभावना रहती है। प्र.: भवन के उत्तर दिशा में दोष रहने पर क्या उपाय करना चाहिए? उ.: उत्तर दिशा में दोष रहने पर निम्न उपाय करना लाभप्रद होता हैः 1. दिषा दोष निवारणार्थ पूजा स्थल में बुध यंत्र कुबेर यंत्र के साथ लगाए। 2. यदि उतर दिशा का भाग कटा हो तो उतरी दीवार पर एक बड़ा दर्पण लगाएं। 3. घर की दीवारों को हरा रंग करें तथा घर के उत्तर दिशा की तरफ तोते का चित्र लगाए। 4. मरगज श्री यंत्र के समक्ष श्री सूक्त का नित्य पाठ करें।


वक्री ग्रह विशेषांक  अप्रैल 2015

फ्यूचर समाचार के वक्री ग्रह विषेषांक में वक्री, अस्त व नीच ग्रहों के शुभाषुभ प्रभाव के बारे में चर्चा की गई है। बहुत समय से पाठकों को ऐसे विशेषांक का इंतजार था जो उन्हें ज्योतिष के इन जटिल रहस्यों को उद्घाटित करे। ज्ञानवर्धक और रोचक लेखों के समावेष से यह अंक पाठकों में अत्यन्त लोकप्रिय हुआ। इस अंक के सम्पादकीय लेख में वक्री ग्रहों के प्रभाव की सोदाहरण व्याख्या की गई है। इस अंक में वक्र ग्रहों का शुभाषुभ प्रभाव, अस्त ग्रहों का प्रभाव एवं उनका फल, वक्री ग्रहों का प्रभाव, नीच ग्रह भी देते हैं शुभफल, क्या और कैसे होते हैं उच्च-नीच, वक्री एवं अस्तग्रह, कैसे बनाया नीच ग्रहों ने अकबर को महान आदि महत्वपूर्ण लेखों को शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त बी. चन्द्रकला की जीवनी, पंचपक्षी के रहस्य, लाल किताब, फलित विचार, टैरो कार्ड, वास्तु, भागवत कथा, संस्कार, हैल्थ कैप्सूल, विचार गोष्ठी, वास्तु परामर्ष, ज्योतिष और महिलाएं, व्रत पर्व, क्या आप जानते हैं? आदि लेखों व स्तम्भों के अन्तर्गत बेहतर जानकारी को साझा किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.