श्री यंत्र की साधना

श्री यंत्र की साधना  

श्री यंत्र की साधना विजय कुमार शास्त्राी श्रीयंत्र शिव व शिवा का विग्रह यंत्र है। विद्या व धन की प्राप्ति के लिए श्री यंत्र की साधना की जाती है। श्री यंत्र ताम्र पत्र पर सपाट व रजत स्वर्ण आदि पर कूर्माकार या सुमेरु पर्वत के समान ऊपर से उठे हुए आकार का मिलता है। इस यंत्र में, मुख्य रूप से 18 शक्तियों का अर्चन होता है। ये शक्तियां ही संपूर्ण ब्रह्मांड को नियंत्रित करती हैं। साधक इन शक्तियों के अर्चन पूजन से अपने शरीर, मन, बुद्धि, चित, अहंकार व दसों इंद्रियों के साथ-साथ, समस्त ब्रह्मांड अथवा ब्रह्म जगत को अपने वश में कर लेता है। श्री यंत्र की कृपा से उसके सब पाप नष्ट हो जाते हैं और चमत्कारी सिद्धियों, धन-धान्य व सुख की प्राप्ति होती है। श्री यंत्र के दर्शन मात्र से सब पाप, श्राप और ताप का शमन हो जाता है और धन-धान्य व स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। इस की साधना वाम व दक्षिण दोनों मार्गों से की जाती है। बौद्ध काल में इस वाम मार्गी साधना का दुरुपयोग किया गया। अतः आदि शंकराचार्य द्वारा परिष्कृत दक्षिण मार्गी श्री यंत्र के स्वरूप की साधना की परंपरा आज भी प्रचलित है। श्री यंत्र को दुकान में रखने से बिक्री, पूजा घर में रखने से धन धान्यादि और कारखाने या अन्य किसी व्यवसाय क्षेत्र में रखने से व्यवसाय में उन्नति व वृद्धि होती है। इसका सवेरे उठकर दर्शन मात्र करने से ही हर प्रकार का लाभ मिलने लगता है। विनियोग मंत्र अस्य श्रीं श्रीं यंत्र-मंत्रस्य हिरण्य गर्भ-ऋषि अनुष्टुप छन्द श्री महात्रिपुर संुदरी श्री महा-लक्ष्मी देवता श्री बीजम मम दुःख दारिद्र्य विनाशाय श्री सिद्धि श्री यंत्र श्री महा त्रिपुर सुंदर्ये श्री महालक्ष्म्यै मंत्र जपे विनियोगः। (साधक अपना नाम ले) ऋष्यादिन्यास- 1. हिरण्यगर्भ ऋषये नमः शिरसे। 2. अनुष्टुप ऋषये नमः शिरसे। 3. अनुष्टुप छंद से नमः मुखे। 4. श्री महात्रिपुर सुंदर्ये श्री महालक्ष्म्यै देवताभ्यो नमः मुखे। 5. सोः बीजाय नमः पादयो। 6. विनियोगायः नमः सर्वांगे। करन्यास 1. ¬ सोः अंगुष्ठाभ्याम् नमः। 2. श्री तर्जनीभ्याम् नमः। 3. श्री मध्यमाभ्याम् नमः। 4. श्री ललिता महात्रिपुर संुदर्ये अनामिकाभ्यां नमः। 5. श्री महालक्ष्म्यै कनिष्ठाभ्याम् नमः। 6. नमः करतल कर पृष्ठाभ्याम् नमः। षड्गन्यास 1. ¬ सोः हृदयाय नमः (हृदय का स्पर्श) 2. श्रीं शिर से स्वाहा (सिर का स्पर्श ) 3. श्री शिखाये वषट। (चोटी-बोदी-सिर के मध्य से पीछे के भाग का स्पर्श) 4. ललिता महा त्रिपुर संुदर्ये कवचाये हूं। (छाती का स्पर्श) 5. श्री महालक्ष्म्यै कनिष्ठाभ्याम् नमः (हाथ की पीठ) षडगन्यास- 1. ‘¬ सोः हृदयाय नमः (हृदय का स्पर्श) 2. श्रीं शिर से स्वाहा (सिर से स्पर्श करें) 3. श्री शिखाये वषट। (चोटी-बोदी-सिर के मध्य पीछे के भाग का स्पर्श) 4. ललिता महा त्रिपुर सुंदर्ये कचवाये हूं (छाती का स्पर्श) 5. श्री महालल्म्यै नेत्र त्रयायै बौषट। (आंखें का स्पर्श) 6. नमः अस्त्राय फट्’ (दोनों कंधों का दोंनों हाथों से स्पर्श) श्रीः मंत्र ‘‘¬ सोः श्रीं श्रीं ललिता महात्रिपुरा सुंदर्ये श्री महालक्ष्म्यै नमः।’’ विधि- साधक स्वच्छ निर्मल लाल रंग के वस्त्र धारण करके, किसी शुभ मुहूर्त में श्री यंत्र को स्थापित करके संकल्प, विनियोग, न्यासादि करें। फिर ध्यान, पूजन आदि कर के श्री विद्या मंत्र का कमलगट्टे अथवा रुद्राक्ष की माला से पांच माला जप नियमित रूप से करें, यंत्र सिद्ध हो जाएगा।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
shri yantra ki sadhnavijay kumar shastraishriyantra shiv v shiva kavigrah yantra hai. vidya v dhanki prapti ke lie shri yantraki sadhna ki jati hai. shri yantra tamrapatra par sapat v rajat svarn adi parkurmakar ya sumeru parvat ke samanaupar se uthe hue akar ka miltahai. is yantra men, mukhya rup se 18shaktiyon ka archan hota hai. ye shaktiyanhi sanpurn brahmand ko niyantrit kartihain. sadhak in shaktiyon ke archanapujan se apne sharir, man, buddhi, chit,ahankar v dason indriyon ke sath-sath,samast brahmand athva brahm jagat koapne vash men kar leta hai. shri yantra kikripa se uske sab pap nasht ho jate hainaur chamatkari siddhiyon, dhan-dhanya vasukh ki prapti hoti hai.shri yantra ke darshan matra se sabpap, shrap aur tap ka shaman hojata hai aur dhan-dhanya v svasthyaki prapti hoti hai. is ki sadhnavam v dakshin donon margon se ki jatihai. bauddh kal men is vam margi sadhnaka durupyog kiya gaya. atah adishankracharya dvara parishkrit dakshin margishri yantra ke svarup ki sadhna kipranpra aj bhi prachlit hai.shri yantra ko dukan men rakhne sebikri, puja ghar men rakhne se dhandhanyadi aur karkhane ya anya kisivyavsay kshetra men rakhne se vyavsay menunnati v vriddhi hoti hai.iska savere uthakar darshan matrakrne se hi har prakar ka labh milnelgta hai.viniyog mantraasya shrin shrin yantra-mantrasya hiranyagarbha-rishi anushtup chand shri mahatripursanudri shri maha-lakshmi devta shri bijamamam duahkh daridrya vinashay shri siddhishri yantra shri maha tripur sundarye shrimhalakshmyai mantra jape viniyogah. (sadhkapna nam le) rishyadinyas-1. hiranyagarbh rishye namah shirse.2. anushtup rishye namah shirse.3. anushtup chand se namah mukhe.4. shri mahatripur sundarye shrimhalakshmyai devtabhyo namah mukhe.5. soah bijay namah padyo.6. viniyogayah namah sarvange.karanyas1. ¬ soah angushthabhyam namah.2. shri tarjanibhyam namah.3. shri madhyamabhyam namah.4. shri lalita mahatripur sanudaryeanamikabhyan namah.5. shri mahalakshmyai kanishthabhyamnamah.6. namah karatal kar prishthabhyamnamah.shadganyas1. ¬ soah hridyay namah (hridyka sparsha)2. shrin shir se svaha (sir kasparsh )3. shri shikhaye vashat.(choti-bodi-sir ke madhya se piche kebhag ka sparsha)4. lalita maha tripur sanudaryekvchaye hun. (chati ka sparsha)5. shri mahalakshmyai kanishthabhyamnamah (hath ki pitha)shadaganyas-1. ‘¬ soah hridyay namah (hridyka sparsha)2. shrin shir se svaha (sir sesparsh karen)3. shri shikhaye vashat.(choti-bodi-sir ke madhya piche kebhag ka sparsha)4. lalita maha tripur sundaryekchvaye hun (chati ka sparsha)5. shri mahalalmyai netra trayayaibaushat. (ankhen ka sparsha)6. namah astray fat’ (donon kandhonka donnon hathon se sparsha)shriah mantra‘‘¬ soah shrin shrin lalita mahatripurasundarye shri mahalakshmyai namah.’’vidhi- sadhak svachch nirmalalal rang ke vastra dharan karke, kisishubh muhurt men shri yantra ko sthapitkrke sankalp, viniyog, nyasadikren. fir dhyan, pujan adi kar keshri vidya mantra ka kamalagatte athvarudraksh ki mala se panch mala japniyamit rup se karen, yantra siddh hojaega.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


श्री विद्या विशेषांक   मई 2008

श्री यंत्र की उत्पति एवं माहात्म्य, श्री यंत्र के लाभ, श्री यंत्र को सिद्ध करने की विधि, श्री यंत्र की उपासना तथा इसमें ली जाने वाली सावधानियां, पदार्थों एवं स्वरूप के आधार पर विभिन्न प्रकार के श्री यंत्र एवं उनका उपयोग पर यह विशेषांक आधारित है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.