काल सर्प दोष शान्ति के प्रमुख स्थल

काल सर्प दोष शान्ति के प्रमुख स्थल  

काल सर्प दोष शांति के प्रमुख स्थल नवीन चितलांगिया हमारे धर्म ग्रंथ¨ं एवं शास्त्र¨ं में विभिन्न प्रकार क¢ सर्प द¨ष य¨ग¨ं का वर्णन मिलता है। वराहमिहिर ने अपनी संहिता जातक नभ संय¨ग में सर्प य¨ग का उल्लेख किया है। जैन ज्य¨तिष में भी काल सर्प की व्याख्या है। कई नाड़ी ग्रंथ¨ं में भी काल सर्पय¨ग का उल्लेख है। संक्षेप में कहें त¨ काल सर्प य¨ग एक भयानक, दुखदायी अ©र पीडा़दायक य¨ग है। सांसारिक ज्य¨तिष में कालसर्प य¨ग क¢ विपरीत परिणाम¨ं क¨ देखते हुए इसे अशुभ माना गया है। आज भारतीय ज्य¨तिष क¢ अंतर्गत कालसर्प य¨ग एक व्यापक चर्चा का विषय बन चुका है। वर्तमान में इस य¨ग का जितना प्रचार-प्रसार हुआ है, वह अकल्पनीय, अविस्मरणीय है। विगत कुछ दशक¨ं में कालसर्प य¨ग एक धूमक¢तु क¢ समान चर्चित ह¨कर फलित-ज्य¨तिष में छाया हुआ है। शनि क¢ कष्टकारी एवं अशुभ प्रभाव¨ं क¢ समान कालसर्प य¨ग के संबंध में भी अनेक भ्रांतियां हैं। कालसर्प य¨ग से ह¨ने वाले प्रतिकूल, अशुभ एवं कष्टदायी प्रभाव¨ं क¨ कैसे कम किया जाए? कालसर्प द¨ष शांति का शास्त्रीय आधार क्या है? यद्यपि हमारे धर्म शास्त्र¨ं में सर्प द¨ष¨ं की शांति हेतु विभिन्न प्रकार के मंत्र-तंत्र-यंत्र, जप-तप, पूजा-आराधना, दान, ट¨टकों, व्रतादि का वर्णन मिलता है, परंतु यदि क¨ई जातक काल सर्प य¨ग की शांति करवाना चाहे त¨ कहां करवाए ? भारत क¢ किन-किन स्थान¨ं पर कालसर्प य¨ग की वास्तविक शांति का ह¨ना संभव है अ©र इन स्थान¨ं में शांति करवाने क¢ पीछे कारण क्या है? कालसर्प य¨ग शान्ति का सैद्धान्तिक पक्ष क्या है ? संसार क¢ प्रायः सभी धमर्¨ं में सपर्¨ं (नाग) क¢ महत्व का उल्लेख मिलता है। हमारे धर्म शास्त्र¨ं में नाग¨ं एवं सपर्¨ं क¢ महत्व का अत्यधिक उल्लेख है। हिंदू धर्म शास्त्र¨ं में नाग (सर्प) जागृत कुण्डलिनी शक्ति का प्रतीक माना गया है। पातंजलि य¨ग दर्शन क¢ अनुसार मानव ज्ञान की वैज्ञानिक पूर्णता का उपादेय कुंडलिनी भी मूलाधार चक्र में सर्पाकार रूप में ही सुषुप्तावस्था में निवास करती है। ज्य¨तिष में राहु क¨ काल अ©र क¢तु क¨ सर्प की संज्ञा दी गई है। राहु क¨ सर्प का प्रतिनिधि भी माना गया है। दूसरे अर्थ में राहु कालस्वरूप नाग है। अतः नाग (सर्प) क¢ मस्तक का संबंध राहु से है अ©र पुच्छ (पूंछ) का संबंध क¢तु से। काल अर्थात् राहु एवं सर्प अर्थात् क¢तु अर्थात् राहु $ क¢तु से बनने वाला य¨ग है काल सर्प य¨ग। जन्म कुंडली में जब सभी ग्रह राहु-क¢तु क¢ मध्य आ जाएं अर्थात् सभी ग्रह राहु अ©र क¢तु क¢ एक ही बाजू में स्थित ह¨ं त¨ ऐसी ग्रह स्थिति क¨ कालसर्प य¨ग कहा गया है। कालसर्प य¨ग एक प्रकार से सर्प य¨ग का ही रूप है, अतः कई विद्वान काल सर्प क¨ नाग द¨ष मानकर इसकी शांति हेतु नाग बलि (सर्प बलि) एवं नारायण बलि का विधान आवश्यक मानते हंै। नारायण बलि एवं नाग बलि क¢ लिए पवित्र तीर्थ या शिवालय श्रेष्ठ एवं य¨ग्य स्थल है। शास्त्रीय ग्रंथ धर्मसिंधु में संतान प्राप्ति हेतु नारायण नाग बलि का विधान बताया गया है। कालसर्प य¨ग शांति क¢ लिए भारत में कुछ प्रसिद्ध पूजा स्थल भी हैं, जहां वैदिक विधि-विधानपूर्वक इस य¨ग की शांति कराकर पीड़ित व्यक्तिय¨ं को इसके दुष्प्रभाव से मुक्त कराया जा सकता है। इनका विवरण इस प्रकार है। Û कालसर्प द¨ष शांति का प्रत्यक्ष संबंध आशुत¨ष भगवान महेश्वर से है। भगवान शिवशंकर स्वयं काल क¢ अधिपति अर्थात् महाकाल हैं। शिव नाग¨ं क¢ गुरु माने गए हंै। शिव क¢ गले में नागरूपी हार है, नाग क¢ बिना शिवलिंग की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। अतः भगवान शिवशंकर क¢ द्वादश ज्य¨तिर्लिंग स्थल¨ं श्री स¨मनाथ (स©राष्ट्र), श्री मल्लिकार्जुन (श्री शैलम), श्री महाकालेश्वर (उज्जैन), श्री अमलेश्वर (अ¨म्कारेश्वर), श्री वैद्यनाथ(झारखंड), श्री भीमशंकर (महाराष्ट्र), श्री रामेश्वरम (तमिलनाडु), श्री नागेश्वर (दारूकवन), श्रीविश्वनाथ (वाराणसी), श्रीक¢दारनाथ (हिमालय), श्रीघुश्मेश्वर (इल्ल¨रा), त्र्यंबकेश्वर (नासिक) में पूजा- आराधना करने से काल सर्प य¨ग की शांति ह¨ती है। Û महाराष्ट्र क¢ नासिक का त्र्यंबक¢श्वर मंदिर काल सर्प य¨ग शांति का सवर्¨त्तम स्थान है, क्य¨ंकि त्र्यंबक¢श्वर ग¨दावरी नदी के उद्गम पर स्थित है। भगवान शिव का धाम है अ©र यहां क¢ कर्मकांडी ब्राह्मण¨ं क¨ काल सर्प य¨ग शांति क¢ विधान का पूर्ण ज्ञान है। त्र्यंबक¢श्वर ज्य¨तिर्लिंग में भगवान शिव का अभिषेक, पूजा-अर्चना करवा कर नाग-नागिन क¢ ज¨डे़ छ¨ड़ने से काल सर्प य¨ग की शांति ह¨ती है। Û इलाहाबाद में कालसर्प य¨ग की शांति हेतु, नाग-नागिन को उनकी विधिवत प्राण-प्रतिष्ठा करा कर, पूजन कर के दूध क¢ साथ संगम में प्रवाहित करना चाहिए। अन्य पवित्र नदिय¨ं क¢ किनारे अवस्थित तीर्थस्थल¨ं में भी कालसर्प य¨ग की विधिपूर्वक शांति करानी चाहिए। तीर्थराज प्रयाग, गया आदि स्थल¨ं में कालसर्प य¨ग की शांति क¢ साथ-साथ श्राद्ध-तर्पणादि करने चाहिए। इलाहाबाद स्थित तक्षक तीर्थ में कालसर्प योग की विधिवत पूजा की जाती है। दक्षिण भारत क¢ विश्व प्रसिद्ध तिरुपति मंदिर से लगभग 50 किल¨मीटर की दूरी पर कालहस्ती शिव मंदिर में काल सर्प य¨ग की शांति का उपाय विधि-विधानपूर्वक किया जाता है। यहां लगभग एक घंटे की पूजा-अर्चना क¢ साथ मंदिर के प्रांगण में ही पुर¨हित वैदिक रीति से शांति कर्म कराते हैंे। महाकाली देवी का सर्वप्रसिद्ध सिद्ध शक्तिपीठ कालीपीठ (कलिका) दक्षिण क¨लकाता क¢ कालीघाट क्षेत्र में स्थित है। इस शक्तिपीठ में महादेव शिव शंकर का नकुलेश्वर मंदिर अवस्थित है। यहां महाकाली मंदिर क¢ समीप श्मशान भूमि तथा आदि गंगा का पवित्र सर¨वर है। अतः यहां वैदिक रीति से काल सर्प य¨ग शांति का उपाय शुभ एवं मंगलदायक होता है। क¨लकाता क¢ नीमतल्ला घाटष्श्मशान भूमि में भूतेश्वर महादेव का सर्वप्रसिद्ध सिद्ध मंदिर है, ज¨ भूतनाथ मंदिर कहलाता है। यहां मंदिर क¢ समीप ही पवित्र गंगा (हुगली) नदी बहती है। अतः यहां शास्त्रीय रीति से किया गया शांति कर्म, पूजनादि से काल सर्प य¨ग क¢ सभी अरिष्ट¨ं का शमन ह¨ता है। नारायण वाहन गरुड़राज सर्पहंता (सपर्¨ं का भक्षण करने वाले) हंै। दूसरे शब्द¨ं में गरुड़राज सपर्¨ं क¢ परम शत्रु हंै। अतः वड़ोदरा क¢ गरुडे़श्वर मंदिर तथा मथुरा जाते समय राष्ट्रीय राजमार्ग 8 के निकट छटीकारा गांव में गरुड़ग¨विन्द मंदिर में पूजा-अर्चना-आराधना करना काल सर्प य¨ग क¢ दुष्प्रभाव¨ं क¢ शमन हेतु अभीष्ट है। गरुड़ भगवान की मूर्ति क¢ समक्ष नाग-विषहरण मंत्र का नियमित जप करने से काल सर्प य¨ग की शांति ह¨ती है। संपूर्ण विश्व क¢ संचालक भगवान विष्णु (नारायण) स्वयं शेषनाग पर आसीन ह¨ते हैं अ©र स्वयं शेषनाग छत्र बनकर उन्हें छाया प्रदान करते हैं। मर्यादा पुरुष¨त्तम श्रीराम भगवान नारायण क¢ अ©र लक्ष्मण शेषनाग क¢ अवतार थे। जब श्रीराम अ©र लक्ष्मण नागपाश में बंधकर मूर्च्छित ह¨ गए थे, तब महावीर हनुमान ने गरुड़ की सहायता से उन्हें नागपाश से मुक्त करवाया था। अतः सभी सिद्ध हनुमान मंदिरों में पूजा-आराधना करने से भी काल सर्प य¨ग शिथिल ह¨ जाता है। भगवान कृष्ण अपने बडे़ भाई बलराम क¨ दाऊ कहकर पुकारते थे, ज¨ शेषनाग क¢ अवतार थे। इसी कारण मथुरा से प्राप्त नाग-मूर्तिय¨ं क¨ स्थानीय ल¨ग दाऊजी कहते हैं। मथुरा से 12 किल¨मीटर दूर बलदेव (दाऊजी) का मंदिर है, जहां की पूजा-अर्चना काल सर्प द¨ष शांति हेतु अभीष्ट फलदायक होती है। मथुरा क¢ जैंत नामक गांव क¢ तालाब में विशालकाय नाग की मूर्ति स्थापित है, जहां नाग मंदिर में नागमूर्ति की पूजा-आराधना से काल सर्प य¨ग का दुष्प्रभाव क्षीण ह¨ता है। श्री कृष्ण भगवान परब्रह्म परमात्मा स्वरूप हैं। यह स्मरणीय है कि भगवान श्री कृष्ण ने कालीदह पर कालिया नाग क¢ फण पर त्रिल¨क¨ं का भार लेकर नृत्य करते हुए उनका मान-मर्दन किया और बाद में कालिया नाग क¨ वरदान देकर रमणकदीप भेज दिया। अतः जिस मूर्ति में भगवान श्री कृष्ण म¨रपंखी मुकुट पहने कालिया नाग क¢ फण क¢ ऊपर नाचते हुए दिखलाई पडे़ं, उसके समक्ष नित्यार्चन तथा यथाशक्ति ¬ नम¨ भगवते वासुदेवाय मंत्र का जप करने से काल सर्प य¨ग की शांति ह¨ती है। क¢दारनाथ जाते समय त्रियुग¨नारायण मंदिर क¢ प्रांगण में चांदी, तांबे या स्वर्ण क¢ नाग-नागिन छ¨ड़ने से काल सर्प य¨ग की शांति ह¨ती है। हिमाचल प्रदेश में स्थित चामुंडा देवी मंदिर शिव अ©र शक्ति का स्थान है। बाणगंगा नदी क¢ तट पर यह उग्र शक्तिपीठ प्राचीन काल से ही य¨गिय¨ं, तांत्रिक¨ं अ©र साधक¨ं की तपस्थली रहा है। यहां शिव, शक्ति अ©र नाग मंत्र क¢ पूजन, दानादि तथा श्राद्ध कर्म करने से काल सर्प द¨ष का परिहार ह¨ता है। हरिद्वार क¢ समीप गंगा पार शिवालिक पर्वत क¢ पूर्वी शिखर पर चंडीदेवी का सिद्ध मंदिर है, जहां काल सर्प द¨षष्शांति का उपाय शुभ फलदायक होता है। काल सर्प द¨ष की शांति में नाग-पूजन आवश्यक है अ©र मां मनसादेवी नाग¨ं की अधिष्ठाधात्री देवी मानी गई हैं। जन्मेजय क¢ नाग-यज्ञ क¨ र¨कने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। अतः मनसादेवी की पूजा-आराधना करने से काल सर्प द¨ष का शमन ह¨ता है। मनसा देवी का प्रसिद्ध मंदिर चंडीगढ़ क¢ समीप मनीमाजरा नामक स्थान पर है, ज¨ देवी भगवती का शक्तिपीठ माना गया है। भारत क¢ प्रायः सभी पर्वतीय क्षेत्र¨ं में नाग-पूजन की विशेष परम्परा है। इनमें कश्मीर अ©र हिमाचल प्रदेश प्रधान हंै। नीलमत पुराण अ©र कल्हण की राज तरंगिणी क¢ अनुसार कश्मीर की संपूर्ण भूमि नील नाग की देन है। यहां विद्यमान अनंतनाग इस तथ्य की पुष्टि करता है। यहां नाग देवता का सर्वाधिक सम्मान ह¨ता है। हिमाचल प्रदेश में देवदार तथा अन्य वृक्ष¨ं क¨ नाग मंदिर स्वरूप समझा जाता है। अतः कश्मीर, हिमाचल प्रदेश तथा अन्य पर्वतीय क्षेत्र¨ं में अवस्थित सभी नाग-मंदिर¨ं में काल सर्प द¨ष शांति हेतु मनसादेवी नागस्तोत्रम् का विधिवत पाठ करना फलदायक होता है। राजस्थान क¢ बाड़मेर जिले क¢ बायतु ग्राम में स्थित नाग मंदिर में शांति के उपाय करने से सभी प्रकार क¢ विष शांत ह¨ते हैं तथा भक्त¨ं की अभिलाषा पूर्ण ह¨ती है। जैन संप्रदाय क¢ सर्वाधिक ल¨कप्रिय 23वें तीर्थंकर भगवान पाश्र्वनाथ का नाम नागकुमार धरणेंद्र क¢ साथ लिया जाता है। फणधारी नाग का शिरश्छत्र ही भगवान पाश्र्वनाथ की पहचान है। जैन मंदिर¨ं में भगवान पाश्र्वनाथ क¢ साथ-साथ नागकुमार धरणेंद्र की पूजा-आराधना काल सर्प य¨ग शांति में सहायक होती है। धरणेंद्र यंत्र (ज¨ नागपाश यंत्र का प्रभावशाली स्वरूप है) की नियमित पूजा करने से या सिद्ध धरणेंद्र यंत्र क¨ धारण करने अथवा अपने पास रखने से काल सर्प य¨ग का अशुभ प्रभाव जातक क¨ प्रताड़ित नहीं करता है। काल भैरव, रुद्र भैरव, बटुक भैरव आदि सभी भगवान शिव क¢ अंग स्वरूप हंै। अतः इन भैरव¨ं क¢ सिद्ध मन्दिर¨ं में शांति करवा कर नाग-नागिन क¢ ज¨डे़ नदी में प्रवाहित करने से काल सर्प य¨ग का दुष्प्रभाव शांत ह¨ता है। काल सर्प य¨ग की शांति किसी पवित्र नदी क¢ किनारे या श्मशान क¢ निकट स्थित शिवालय में करना शुभ फलदायक एवं शास्त्रसम्मत माना गया है। काल सर्प द¨ष की शांति में नाग पूजन करना अनिवार्य माना गया है। ऐसे किसी स्थल पर जहां नदी क¢ किनारे शमशान भूमि, शिवालय अथवा नाग मंदिर ह¨, काल सर्प द¨ष की शांति करवाना शुभ एवं फलदायक होता है।



काल सर्प विशेषांक  अप्रैल 2009

कालसर्प योग विशेषांक में कालसर्प योग के सभी पहलूओं पर प्रकाश डाला गया है. इस विशेषांक में कालसर्प योग क्या है, कार्यसर्प निवारण के विभिन्न उपाय, कालसर्प योग से प्रभावित विशिष्ट कुंडलियों का विश्लेषण तथा कालसर्प योग किसे सर्वाधिक प्रभावित करता है. आदि विषयों का विश्लेषण किया गया है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.