अंक व आकसिमक दुर्घटनायें

अंक व आकसिमक दुर्घटनायें  

अंक व आकस्मिक दुर्घटनायें डॉ. संजय बुद्धिराजा जीवन में दुख न हों, अशुभ न घटे व दुर्घटनायें न होने पायें - ऐसी अभिलाषा सभी जन मानस ज्योतिष से रखते हैं। अंक शास्त्र इस विषय में सहायता कर सकता है। ज्योतिष एक कामधेनु गाय की भांति है, जिस से लोग अपने जीवन को समृद्ध करने की व अपने दुखों को कम करने की कामना करते हैं। ऐसे लोग कभी जन्मकुंडली दिखा कर, कभी हाथ की रेखायें दिखा कर व कभी अंक शास्त्र का सहारा लेकर अपनी जिज्ञासा को शान्त करने का प्रयास करते हैं। जीवन में दुख न हों, अशुभ न घटे व दुर्घटनायें न होने पायें - ऐसी उम्मीद सभी जन मानस ज्योतिष से रखते हैं। अंक शास्त्र इसी विषय में सहायता कर सकता है। कैसे, आईये देखते हैं - किसी भी व्यक्ति के जीवन का संबंध अंकों व शब्दों से उतना ही है जितना की उसके रक्त, मांस व मज्जा से होता है। धनात्मक व ऋणात्मक अंको के प्रभाव से व्यक्ति के मन पर भी असर पडता है और वह व्यक्ति इसी असर के वशीभूत होकर जीवन में सुकर्म या कुकर्म कर अपने लिये शुभ या अशुभ फल प्राप्त करता है। जिस तरह से वैज्ञानिक 'कैलोरी' के माध्यम से यह बता देते हैं कि कोई विशेष भोजन व्यक्ति के लिये शक्ति वर्धक है या नहीं। इसी प्रकार से हमारे ऋषि मुनियों ने भी अपनी खोजों से यह बता दिया था कि कौन सा अंक किसी व्यक्ति के लिये कैलोरी की भांति उसके जीवन के लिये शक्तिशाली है या नहीं। शुभ अंक से संबंधित नाम, कारोबार आदि अपना कर व्यक्ति अपने जीवन को सुखी व समृद्ध बना सकता है तथा यदि वह अशुभ अंकों का साथ रखता है तो दुर्घटनाओं को आमंत्रित कर सकता है। भाग्यांक : प्रत्येक व्यक्ति का एक शुभ अंक होता है जो उसके जीवन के लिये सुखदायी होता है, इसे भाग्यांक कहते हैं। इसी भाग्यांक को अगर व्यक्ति अपने जीवन में पहचान कर उससे जुडी वस्तुओं को अपने जीवन में स्थान देता है तो फिर उस व्यक्ति को प्रगति के पथ पर चलने से कोई नहीं रोक सकता। जिस तरह से दाना डाल देने से कबूतर आते हैं, चीनी डाल देने से चींटियां आ जाती हैं, उसी तरह से किसी विशेष व्यक्ति के भाग्यांक से संबंधित वस्तुओं के प्रयोग से भाग्यशाली फल अपने आप ही उसे मिलने शुरू हो जाते हैं। किसी भी व्यक्ति का भाग्यांक ज्ञात करने के लिये निम्न उदाहरण देखा जा सकता है : व्यक्ति की जन्म तिथि = 7/8/1966 सभी अंको का जोड = 7+8+1+9+6+6 = 37 पुनः जोड = 3+7 = 10 पुनः जोड = 1+0 = 1 अतः व्यक्ति का भाग्यांक 1 कहलायेगा। निम्न तालिका से देखा जा सकता है कि 1 अंक के शत्रु अंक 4, 7 व 8 हैं। यदि व्यक्ति 1 अंक से संबंधित वस्तुओं को अपनायेगा तो सुख व समृद्धि प्राप्त करेगा और यदि 4,7 या 8 अंकों की वस्तुओं को अपनायेगा तो दुख व दुर्घटनाओं को प्राप्त कर सकता है। अंक शास्त्र के अनुसार कोई व्यक्ति अपने शत्रु अंकों के कारण ही आकस्मिक दुर्धटनाओं का शिकार होता है। ऐसी आकस्मिक दुर्घटनायें पांच प्रकार की हो सकती हैं जिनका विवरण उपरोक्त सारणी में दिया जा रहा है। अतः अपने-अपने भाग्यांक को पहचान कर निम्नलिखित संभावित आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है - 1 भू-दुर्घटना इसमें सडक दुर्घटना, रेल दुर्घटना, सीढियों से गिरना व भू-स्खलन आदि को लिया जाता है। इस दुर्घटना का कारक अंक 5 है। अतः यदि किसी व्यक्ति के भाग्यांक की शत्रुता 5 अंक से है तो उसे भू- दुर्घटना के प्रति सावधान रहना चाहिये। 9 भाग्यांक वाले अक्सर इसी दुर्घटना से प्रभावित रहते हैं। 2 जल दुर्घटना इसमें पानी में डूबना, बरसात में अधिक भीग जाने पर न्यूमोनिया होना, डायरिया होना आदि को लिया जाता है। इस दुर्घटना के कारक अंक 2 व 6 हैं। अतः 3,4,5,7 भाग्यांक वाले व्यक्तियों को जल दुर्घटना के प्रति सावधान रहना चाहिये। 3 अग्नि दुर्घटना इसमें अग्नि से जलकर मरना, प्रचण्ड गर्मी से मरना, लू लगना आदि दुर्घटनाओं को लिया जाता है। इस दुर्घटना के कारक अंक केवल 1 व 9 है। अतः 4,6,7,8 भाग्यांक वाले व्यक्तियों को अग्नि से होने वाली दुर्घटनाओं के प्रति सावधान रहना चाहिये। 4 वायु दुर्घटना इसमें वायु में होनी वाली दुर्घटना, किसी ऊंचाई से गिरना, वात रोग से पीडित होना आदि को लिया जाता है। इस दुर्घटना के कारक अंक 3 व 8 हैं। अतः 1,2,6,9 भाग्यांक वाले व्यक्तियों को वायु दुर्घटना के प्रति सावधान रहना चाहिये। 5 अन्य दुर्घटनायें इसमें बिजली से होने वाली दुर्घटनायें, शोक व दुख से होने वाले निधन, प्राणाघात आदि को लिया जाता है। इसके कारक अंक 4 व 7 हैं। अतः 1, 2, 3, 9 भाग्यांक वाले व्यक्तियों को इस प्रकार की दुर्घटनाओं के प्रति सावधान रहना चाहिये। अतः भाग्यांक से संबंधित ऊपरलिखित वस्तुओं को जीवन में अपना कर तथा शत्रु अंक से संबंधित वस्तुओं का दानादि कर आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है। जैसे कि ऊपर वर्णित उदाहरण के व्यक्ति को भाग्यांक 1 से संबंधित वस्तुओं जैसे कि सुनहरी रंग के वस्त्र पहनने चाहिये या पिता की सेवा करनी चाहिये या माणिक रत्न धारण करना चाहिये और शत्रु अंक 4, 7 व 8 की वस्तुओं जैसे कि तिल, तेल व कंबल आदि का दान करना चाहिये और होने वाली आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचाव करना चाहिये।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

.