लग्न के अनुसार रुद्राक्ष धारण

लग्न के अनुसार रुद्राक्ष धारण  

लग्न क¢ अनुसार रुद्राक्ष धारण रत्न प्रकृति-प्रदत्त ईश्वरीय उपहार है। सनातन काल से ज्य¨तिष में ग्रह-द¨ष क¢ निवारणादि हेतु रत्न धारण करने की परम्परा चली आयी है। कुंडलीनुसार सही अ©र निदर्¨ष (शुद्ध) रत्न-धारण करना ही फलदायक ह¨ता है । यदि रत्न¨ं में किसी प्रकार का द¨ष ह¨ अथवा कुंडली क¢ अनुसार यदि सही रत्न धारण नहीं किया गया ह¨ त¨ रत्न फायदे की जगह नुकसानदेह भी साबित ह¨ सकते है। वर्तमान में शुद्ध एवं निदर्¨ष रत्न बहुत कीमती ह¨ने क¢ कारण प्रायः जनसाधारण की पहुंच क¢ बाहर ह¨ गये हैं। अतः विकल्प क¢ रूप में रुद्राक्ष धारण एक सरल एवं सस्ता उपाय है। साथ ही साथ रुद्राक्ष-धारण करने से किसी भी प्रकार का नुकसान भी नहीं है अपितु रुद्राक्ष सदैव किसी ना किसी रूप में जातक क¨ लाभ ही प्रदान करता है। प्रत्येक कुंडली में त्रिक¨ण सर्वाधिक बलशाली माना गया है । त्रिक¨ण यानि - लग्न, पंचम एवं नवम भाव। लग्न यानि जीवन, आयुष्य एवं आर¨ग्य, पंचम यानि बल, बुद्धि, विद्या एवं प्रसिद्धि, नवम यानि भाग्य एवं धर्म । अतः लग्न क¢ अनुसार कुंडली क¢ त्रिक¨ण भाव क¢ स्वामि-ग्रह क¢ रुद्राक्ष धारण करना सर्वाधिक शुभ है, जिसका विवरण इस प्रकार से है - लग्न त्रिक¨णाधिपति ग्रह लाभकारी रुद्राक्ष मेष मंगल-सूर्य-गुरू ३ मुखी $ १ या १२ मुखी $ ५ मुखी वृष शुक्र-बुध-शनि ६ या १३ मुखी $ ४ मुखी $ ७ या १४ मुखी मिथुन बुध-ष्शुक्र-शनि ४ मुखी $ ६ या १३ मुखी $ ७ या १४ मुखी कर्क चन्द्र-मंगल-गुरु २ मुखी $ ३ मुखी $ ५ मुखी सिंह सूर्य-गुरु-मंगल १ या १२ मुखी $ ५ मुखी $ ३ मुखी कन्या बुध-ष्शनि-शुक्र ४ मुखी $ ७ या १४ मुखी $ ६ या १३ मुखी तुला शुक्र-शनि-बुध ६ या १३ मुखी $ ७ या १४ मुखी $ ४ मुखी वृश्चिक मंगल-गुरु-चन्द्र ३ मुखी $ ५ मुखी $ २ मुखी धनु गुरु-मंगल-सिंह ५ मुखी $ ३ मुखी $ १ या १२ मुखी मकर शनि-शुक्र-बुध ७ य १४ मुखी $ ६ या १३ मुखी $ ४ मुखी कुंभ शनि-बुध-शुक्र ७ या १४ मुखी $ ४ मुखी $ ६ या १३ मुखी मीन गुरु-चन्द्र-मंगल ५ मुखी $ २ मुखी $ ३ मुखी



हस्तरेखा विशेषांक  April 2017

फ्यूचर समाचार के हस्त रेखा विशेषांक अप्रैल 2017 में हस्त रेखा विज्ञान सम्बन्धित विस्तृत जानकारी, विभिन्न शोधपरक लेख जिनमें अंगूठे का महत्व, हथेली में विभिन्न रोगों के लक्षण, जातक नौकरी करेगा अथवा व्यवसाय तथा हस्तरेखा से अनुमानित आयु आदि प्रमुख हैं। सत्य कथा में चैन्नई की राजनेता शशिकला के सितारे तथा विचार गोष्ठी में हस्तरेखा एवं कुण्डली मिलान के अतिरिक्त डाॅ. राकेश कुमार सिन्हा का पावन स्थल नामक स्थायी स्तम्भ में श्री हरिहर क्षेत्र का वर्णन अत्यन्त रोचक है। वास्तु परामर्श में फ्लैट का वास्तु विश्लेषण नामक विषय पर चर्चा की गई है। सम्पादकीय में यह दर्शाया गया है कि किस प्रकार हस्त रेखाओं का ज्ञान स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए विशेष रूप से उपयोग में लाया जा सकता है। अन्य स्थायी स्तम्भों में दी गई जानकारी भी नियमित पाठकों के लिए उपायोगी सिद्ध होगी।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.