लग्न के अनुसार रुद्राक्ष धारण

लग्न के अनुसार रुद्राक्ष धारण  

लग्न क¢ अनुसार रुद्राक्ष धारण रत्न प्रकृति-प्रदत्त ईश्वरीय उपहार है। सनातन काल से ज्य¨तिष में ग्रह-द¨ष क¢ निवारणादि हेतु रत्न धारण करने की परम्परा चली आयी है। कुंडलीनुसार सही अ©र निदर्¨ष (शुद्ध) रत्न-धारण करना ही फलदायक ह¨ता है । यदि रत्न¨ं में किसी प्रकार का द¨ष ह¨ अथवा कुंडली क¢ अनुसार यदि सही रत्न धारण नहीं किया गया ह¨ त¨ रत्न फायदे की जगह नुकसानदेह भी साबित ह¨ सकते है। वर्तमान में शुद्ध एवं निदर्¨ष रत्न बहुत कीमती ह¨ने क¢ कारण प्रायः जनसाधारण की पहुंच क¢ बाहर ह¨ गये हैं। अतः विकल्प क¢ रूप में रुद्राक्ष धारण एक सरल एवं सस्ता उपाय है। साथ ही साथ रुद्राक्ष-धारण करने से किसी भी प्रकार का नुकसान भी नहीं है अपितु रुद्राक्ष सदैव किसी ना किसी रूप में जातक क¨ लाभ ही प्रदान करता है। प्रत्येक कुंडली में त्रिक¨ण सर्वाधिक बलशाली माना गया है । त्रिक¨ण यानि - लग्न, पंचम एवं नवम भाव। लग्न यानि जीवन, आयुष्य एवं आर¨ग्य, पंचम यानि बल, बुद्धि, विद्या एवं प्रसिद्धि, नवम यानि भाग्य एवं धर्म । अतः लग्न क¢ अनुसार कुंडली क¢ त्रिक¨ण भाव क¢ स्वामि-ग्रह क¢ रुद्राक्ष धारण करना सर्वाधिक शुभ है, जिसका विवरण इस प्रकार से है - लग्न त्रिक¨णाधिपति ग्रह लाभकारी रुद्राक्ष मेष मंगल-सूर्य-गुरू ३ मुखी $ १ या १२ मुखी $ ५ मुखी वृष शुक्र-बुध-शनि ६ या १३ मुखी $ ४ मुखी $ ७ या १४ मुखी मिथुन बुध-ष्शुक्र-शनि ४ मुखी $ ६ या १३ मुखी $ ७ या १४ मुखी कर्क चन्द्र-मंगल-गुरु २ मुखी $ ३ मुखी $ ५ मुखी सिंह सूर्य-गुरु-मंगल १ या १२ मुखी $ ५ मुखी $ ३ मुखी कन्या बुध-ष्शनि-शुक्र ४ मुखी $ ७ या १४ मुखी $ ६ या १३ मुखी तुला शुक्र-शनि-बुध ६ या १३ मुखी $ ७ या १४ मुखी $ ४ मुखी वृश्चिक मंगल-गुरु-चन्द्र ३ मुखी $ ५ मुखी $ २ मुखी धनु गुरु-मंगल-सिंह ५ मुखी $ ३ मुखी $ १ या १२ मुखी मकर शनि-शुक्र-बुध ७ य १४ मुखी $ ६ या १३ मुखी $ ४ मुखी कुंभ शनि-बुध-शुक्र ७ या १४ मुखी $ ४ मुखी $ ६ या १३ मुखी मीन गुरु-चन्द्र-मंगल ५ मुखी $ २ मुखी $ ३ मुखी



शनि विशेषांक  February 2017

सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषीय पत्रिका फ्यूचर समाचार का शनि विशेषांक पाठकों में विशेष लोकप्रिय है। गत् 1 दशक में इसकी विशेष मांग बढ़ी है। इसलिए इसे हर वर्ष प्रकाशित किया जाता है। इस विशेषांक में शनि ग्रह से सम्बन्धित अनेक ज्ञानवर्धक लेख शामिल किए गये हैं, जिनमें शनि एक परिचय, संन्यास का कारक शनि, शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या का प्रभाव, सूर्य शनि युति, शुक्र-शनि का विचित्र सम्बन्ध तथा रोग का कारक शनि इत्यादि लेख समाविष्ट हैं। इसके अतिरिक्त सामयिक चर्चा के अन्तर्गत पांच राज्यों के आगामी विधानसभा चुनावों पर ज्योतिषीय परिचर्चा विशेष आकर्षण का केन्द्र है। इस विशेषांक में विराट कोहली व अनुष्का के प्रेम सम्बन्ध तथा वैलेंटाइन डे के अतिरिक्त स्थायी स्तम्भों में शामिल किए गये लेख व पंचांग से सम्बन्धित जानकारी भी पाठकों के लिए उपायोगी रहेगी।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.