जुडवां बच्चों का भविष्य

जुडवां बच्चों का भविष्य  

जुड़वा बच्चों का भविष्य डाॅ. आर. एस. गुप्ता जुड़वा बच्चों की जन्मकुंडलियों का वैज्ञानिक विश्लेषण किया गया। क्योंकि बच्चे कुछ मिनट बाद पैदा हुए हैं तो जन्मतिथि व स्थान एवं समय के आधार पर जन्मकुंडली एक सी थी। परंतु हाथ को रेखाओं में आश्चर्यजनक अंतर पाया गया। दोनों ही समय अंतराल से गर्भ में स्थापित हुए हैं। अतः जुड़वा बच्चों के व्यवहार शिक्षा, उन्नति, आर्थिक पहलू आदि में असमानता पायी गयी। सत्य घटना है कि दो बच्चे मात्र दो मिनट के अंतर से पैदा हुए दोनों बच्चे एक ही स्थान एक ही तिथि, एक ही समय मात्र दो मिनट का अंतर पर पैदा हुए तो दोनों की जन्मपत्री में लग्न एक सी थी परंतु उनमें से एक उच्च शिक्षा प्राप्त करके दुबई में नौकरी कर रहा है जो राजा जैसा सुख भोग रहा है, दूसरा गुब्बारे बेचकर अपना समय व्यतीत कर रहा है।



अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.