पांच राज्यों के आगामी विधानसभा चुनावों की सरगर्मी व ज्योतिष

पांच राज्यों के आगामी विधानसभा चुनावों की सरगर्मी व ज्योतिष  

उत्तरप्रदेश भारतीय जनता पार्टी उत्तरप्रदेश के विधानसभा चुनावों में मुख्यतः भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी तथा समाजवादी पार्टी मैदान में हैं। अन्य पार्टियां कमजोर प्रतीत हो रही हैं। भारतीय जनता पार्टी व नरेन्द्र मोदी की कुण्डली के अनुसार अभी वर्तमान में साढ़ेसाती चल रही है। भारतीय जनता पार्टी की कुण्डली में गोचर के शनि व पार्टी गठन काल के चन्द्रमा की डिग्री में बहुत कम अन्तर है अतः ऐसा प्रतीत होता है कि दिन-प्रतिदिन पार्टी की स्थिति और मजबूत होती जाएगी और आगामी चुनावों में भारतीय जनता पार्टी या तो स्पष्ट बहुमत प्राप्त करेगी अथवा स्पष्ट बहुमत के बहुत निकट रहेगी। नरेन्द्र मोदी यदि श्री नरेन्द्र मोदी जी की कुण्डली का विश्लेषण करें तो हम यह देखते हैं कि गोचर का शनि जन्मकालीन मंगल के ऊपर से पूर्णतः हट जाएगा तथा राजकीय सम्मान के दशम भाव पर राहु का गोचर होने व इस भाव के स्वामी सूर्य के ऊपर शनि व गुरु दोनों का संयुक्त गोचरीय प्रभाव हो जाने से इनके यश में निश्चित रूप से वृद्धि होने व उत्तर प्रदेश पर विजय प्राप्ति के पूर्ण योग बनेंगे। बहुजन समाज पार्टी ज्योतिष के आधार पर बहुजन समाज पार्टी दूसरी प्रबल दावेदार इसलिए है क्योंकि गोचर का शनि पार्टी के उदयकालीन चन्द्रमा से काफी निकट रहेगा, परन्तु मायावती की कुंडली में उनके जन्मकालीन चन्द्रमा व गोचरस्थ शनि में अधिक दूरी होने के कारण बहुजन समाज पार्टी की स्थिति भारतीय जनता पार्टी से कमजोर रहेगी। मायावती यदि मायावती की जन्मपत्री देखें तो इनकी साढ़ेसाती आरम्भ तो हो रही है लेकिन तकनीकी रूप से आरम्भ होने में अभी काफी वक्त बाकी है। मायावती के जन्मकालीन चन्द्रमा व गोचर के शनि में अभी 60 डिग्री का अन्तर होने से ऐसा प्रतीत होता है कि सत्ता में वापसी के लिए कम से कम पांच वर्ष का समय तो लगेगा। अतः बहुजन समाज पार्टी का सत्ता में आना अभी तो बिल्कुल संभव प्रतीत नहीं होता। समाजवादी पार्टी यद्यपि कि समाजवादी पार्टी के गठनकालीन चन्द्रमा व गोचरस्थ शनि की डिग्री में अधिक अन्तर नहीं है, परन्तु सम्भवतः पार्टी को इसका लाभ नहीं मिल पाएगा क्योंकि गोचरस्थ शनि व पार्टी के जन्मकालीन मंगल में परस्पर दृष्टि योग के चलते शीर्षस्थ नेतृत्व की लड़ाई चलती रहेगी जिससे पार्टी और अधिक कमजोर हो जाएगी। अखिलेश यादव अखिलेश यादव की जन्मपत्री में जन्मकालीन चन्द्रमा व गोचरकालीन शनि में बहुत अधिक दूरी होने के कारण न ही निकट चुनावों में और न ही कभी भविष्य में सत्ता में वापसी के योग बन पाएंगे। इस विश्लेषण के आधार पर समाजवादी पार्टी नम्बर 3 की पार्टी प्रतीत हो रही है। पंजाब कैप्टन अमरिन्दर सिंह वैसे तो काँग्रेस की स्थिति ज्योतिषीय आधार पर बहुत कमजोर है क्यांेकि काँग्रेस के गठनकालीन चन्द्रमा व वर्तमान में गोचरीय शनि में अत्यध् िाक दूरी है, परन्तु कैप्टन अमरिन्दर सिंह की कुण्डली के अनुसार इनके जन्मकालीन चन्द्रमा व शनि की डिग्री में बहुत कम अंतर होने के चलते ऐसा प्रतीत होता है कि वे अवश्य ही सत्ता में वापसी करेंगे। यदि सत्ता इनके हाथ नहीं भी आयी तो भी निश्चित रूप से सत्ता का नियंत्रण इन्हीं के हाथों में रहेगा। नवजोत सिंह सिद्धू भूतपूर्व क्रिकेटर व लोकप्रिय राजनीतिज्ञ नवजोत सिंह सिद्ध ू के काँग्रेस में शामिल हो जाने से काँग्रेस को पंजाब में अतिरिक्त शक्ति व समर्थन प्राप्त होगा क्योंकि सिद्धू की साढ़ेसाती चल रही है तथा 26 जनवरी के बाद जन्मकालीन मंगल के ऊपर से शनि के हट जाने से इनका चुनौतियों वाला समय पूर्णतः समाप्त होगा तथा इन्हें सत्ता का सुख प्राप्त होगा। इनके उपमुख्यमंत्री बनने की सम्भावनाएं प्रबल हैं। अरविन्द केजरीवाल अरविन्द केजरीवाल के कुछ निर्णय उन पर भारी पड़ सकते हैं जिसके चलते उनकी लोकप्रियता पंजाब में दिन प्रतिदिन घटती जाएगी। वास्तव में शनि की ढैय्या के कारण इनके बहुत से निर्णय उल्टे पड़ेंगे। अतः पंजाब के सिंहासन तक पहुंचने का इनका मार्ग चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद भी सरल नहीं रह पाएगा और उन्हें जनता के विरोध का सामना भी करना पड़ेगा। शिरोमणि अकाली दल व बी.जे.पी गठबंधन प्रकाश सिंह बादल को भी शनि की अष्टम ढैय्या के कारण विरोध का सामना करना पड़ेगा तथा पूर्व में लिए गये कुछ निर्णय इन पर भारी पड़ेंगे। ज्योतिषीय आधार पर यह कहा जा सकता है कि प्रकाश सिंह बादल की सत्ता में वापसी की सम्भावनाएं न के बराबर हैं परन्तु बी.जे.पी. के साथ गठबंधन के चलते सीटों की संख्या आशा से अधिक रह सकती है। उत्तराखंड हरीश रावत हरीश रावत की कुण्डली में गोचरीय शनि जन्मकालीन चन्द्रमा से काफी दूर है इसलिए हरीश रावत की कुण्डली बलवान होने के बावजूद भी उनकी सत्ता में वापसी संदेहास्पद बन रही है। यद्यपि इनकी सरकार गिराए जाने के बाद जनता में इनके प्रति सहानुभूति का वोट बढ़ने की संभावनाएं बनी थीं, परन्तु हाल ही में नरेन्द्र मोदी के विमुद्रीकरण के निर्णय से जनता में भारतीय जनता पार्टी के प्रति विश्वास बढ़ा है। इसके अतिरिक्त काँग्रेस की कमजोर नीतियों तथा नेतृत्व के कारण जनाधार प्राप्त करना कठिन होगा। भारतीय जनता पार्टी उत्तराखण्ड में भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री के पद हेतु अपना कोई उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। उत्तरप्रदेश की भांति उत्तराखण्ड में भी नरेन्द्र मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ा जाएगा। मोदी जी की ग्रह स्थिति के आधार पर उत्तराखण्ड में चुनावी दंगल का नतीजा भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में जाना तय है क्योंकि बी.जे.पी व मोदी दोनों की कुण्डलियों में ही गोचर कालीन शनि जन्म कालीन चन्द्रमा के निकट है। गोवा भारतीय जनता पार्टी गोवा एक छोटा प्रदेश है अतः यदि हम भारतीय जनता पार्टी, काँग्रेर्स व आम आदमी पार्टी की गठनकालीन कुण्डलियों का अध्ययन करें तो भी भारतीय जनता पार्टी की स्थिति बेहतर मालूम पड़ती है। साथ ही इस प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की स्थिति पहले से ही मजबूत है। ऐसा प्रतीत होता है कि मनोहर पर्रिकर तथा नरेन्द्र मोदी की श्रेष्ठ छवि यहां के वोटरों को निश्चित रूप से आकर्षित करेगी। मणिपुर ओकरम इबाॅवी सिंह मणिपुर में विगत् 14 वर्षों से काँग्रेस के ओकरम इबाॅवी सिंह सत्तारूढ़ हैं तथा आगामी चुनावों में भी यही मणिपुर की सत्ता के प्रबल दावेदार बने हुए हैं क्योंकि इनकी साढ़ेसाती चल रही है और इसका इन्हें भरपूर लाभ मिलेगा व पूर्ण बहुमत से इनकी सरकार बनेगी। एन.सी.पीमणिपुर में दूसरी बड़ी पार्टी एन.सीपी. है। जन्मकालीन चन्द्रमा व गोचरकालीन शनि की डिग्री में अधिक अंतर होने के कारण एन.सी.पी. का राजयोग प्रबल नहीं हो रहा। जन्म विवरण बी.जे.पी. 6.4.1980, 11ः40 बजे दिल्ली काँग्रेस आई 22.11.1969, 9ः57 बजे बैंगलौर बसपा 1.1.1984, दिल्ली सपा 4.10.1992 दिल्ली आप 26.11.2012 गाजियाबाद बी.जे.पी 6.4.1980, 11ः40 बजे दिल्ली मोदी 17.9.1950, 11ः46 बजे मेहसाना केजरीवाल 16.8.1968, 23ः46 बजे हिसार अखिलेश यादव 1.7.1973, 08ः00 बजे सैफई मायावती 15.1.1956, 19ः50 बजे दौलतपुर कैप्टन अमरिंदर सिंह 11.03.1942, 03ः45 बजे पटियाला ओकरम ईबाॅवी सिंह 19.06.1948, अथोकपम एन.सी.पी. 25.05.1999 नवजोत सिंह सिद्धू 20.10.1963 13ः00 बजे पटियाला प्रकाश सिंह बादल 08.12.1927, अबुल कुराना


शनि विशेषांक  फ़रवरी 2017

सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषीय पत्रिका फ्यूचर समाचार का शनि विशेषांक पाठकों में विशेष लोकप्रिय है। गत् 1 दशक में इसकी विशेष मांग बढ़ी है। इसलिए इसे हर वर्ष प्रकाशित किया जाता है। इस विशेषांक में शनि ग्रह से सम्बन्धित अनेक ज्ञानवर्धक लेख शामिल किए गये हैं, जिनमें शनि एक परिचय, संन्यास का कारक शनि, शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या का प्रभाव, सूर्य शनि युति, शुक्र-शनि का विचित्र सम्बन्ध तथा रोग का कारक शनि इत्यादि लेख समाविष्ट हैं। इसके अतिरिक्त सामयिक चर्चा के अन्तर्गत पांच राज्यों के आगामी विधानसभा चुनावों पर ज्योतिषीय परिचर्चा विशेष आकर्षण का केन्द्र है। इस विशेषांक में विराट कोहली व अनुष्का के प्रेम सम्बन्ध तथा वैलेंटाइन डे के अतिरिक्त स्थायी स्तम्भों में शामिल किए गये लेख व पंचांग से सम्बन्धित जानकारी भी पाठकों के लिए उपायोगी रहेगी।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.