उदर रोग ज्योतिषीय दृष्टिकोण

उदर रोग ज्योतिषीय दृष्टिकोण  

उदर योग ज्योतिषीय दृष्टिकोण भी रोगों का कारण उदर रोग को माना जाता है। जब तक पाचन शक्ति अच्छी रहती है तब तक जातक का शरीर भी हृष्ट पुष्ट रहता है। पाचन शक्ति की प्रबलता में कंद मूल या प्याज से रोटी खाने वाला भी तरोताजा एवं हृष्ट पुष्ट दिखता है। वहीं पाचन शक्ति कमजोर हो, तो पंचमेवा का सेवन करने वाला भी अति दुर्बल हो जाता है। वास्तव में पाचन क्रिया का समाप्त होना ही मृत्यु समझा जाता है। पाचक रसों में विकृति आने पर शरीर पर रोगों का आक्रमण आसानी से होता है। रोग दो प्रकार के माने जाते हैं- निज रोग जिसे शारीरिक एवं मानसिक में विभक्त किया गया है और आगंतुक रोग जिसमें दृष्टि निमिŸा व अदृष्ट निमिŸा रोग आते हंै। शारीरिक रोग शरीर में वात पिŸा व कफ की कमी या अधिकता से होते हैं और मानसिक रोग भय, शोक तथा क्रोध के कारण। ये रोग अष्टम भाव में स्थित राशि व उसके स्वामी अष्टमस्थ ग्रह व अष्टम भाव पर दृष्टि कारक ग्रह से युति दृष्टि किसी ग्रह या भाव कारक से होने पर होते हैं। आगंतुक रोग में दृष्टि रोग घात के कारण होते हैं तो अदृष्ट रोग देवी देवताओं के प्रकोप के कारण। इन रोगों का विचार छठे भाव, भावेश, षष्ठस्थ ग्रह व षष्ठ भाव पर दृष्टि कारक ग्रहों के अनुसार किया जाता है। यदि जन्मांग में पंचम भाव, भावेश या कारक ग्रह का छठे भाव से सबंध हो, तो दोष विकृति के कारण रोग होता है। आगंतुक रोग होने पर जातक के लिए तंत्र मंत्र यंत्र का उपचार ही प्रभावी होगा। चिकित्सकीय उपचार से राहत की बजाय परेशानी होती रहती है। उदर के कारक भाव के विषय में उŸार कालमृत में कहा गया है। गम्भीर्यघनता रहस्यविनया वृतान्तसंलेखनं। क्षेमस्नेह प्रबन्ध काव्यरचना कार्यप्रवेशोदराः। अर्थात् गंभीरता, दृढ़ता, रहस्य, विनय, वृत्तांत लेख, क्षेम, स्नेह, प्रबंध, काव्य रचना, कार्य प्रारंभ एवं उदर पंचम भाव के कारक हैं। प्रत्येक ग्रह उदर रोग देने में सक्षम है। लेकिन उदर व उदर व्याधि हेतु चंद्र ‘‘मुखकान्तिश्वेतवर्णोंदरा’’ एवं वृह ‘’पुत्र पौत्र जठर व्याधि द्विपात्सम्पदो’’ प्रमुख माने गए हैं। चंद्र एवं गुरु को यकृत का कारक भी मानते हैं। हमारे शरीर में यकृत एक महत्वपूर्ण अंग है। यकृ त से उत्पन्न पिŸा से ही भोजन का पाचन होता है। यदि चंद्र व गुरु शुभ होकर कमजोर हों एवं पाप पीड़ित हांे तो पिŸा की कमी के कारण भोजन का पाचन सही नहीं रहेगा। किंतु उक्त दोनों ग्रह अशुभ होकर बली हों तो पिŸााधिक्य के कारण पाचन तंत्र विकृत हो जाएगा। फलतः उदर रोग दोनांे स्थितियों में जटिल हो जाता है। जन्मांग में चंद्र व गुरु शुभ होकर बलवान हों तो जातक को शुभफल की प्राप्ति होती है। दूसरी तरफ इनकी शुभता से पाचन शक्ति व्यवस्थित रहती है। फलतः जातक का सर्वांगीण विकास होता है। उदर रोग के प्रमुख ज्योतिषीय योग- यदि लग्नेश, षष्ठेश व बुध एकत्र हों, तो जातक पिŸा जनित रोग से और यदि लग्नेश, षष्ठेश व शनि एकत्र हांे तो गैस व्याधि से पीड़ित रहता है। लग्नेश, षष्ठेश, बुध व शनि का चतुर्विध कोई संबंध बन रहा हो, तो पित्ताधिक्य व गैस व्याधि होती है अर्थात जातक एसिडिटी से ग्रस्त होता है जो आजकल आम है। मंगल लग्न में हो व षष्ठेश निर्बल हो, तो अजीर्ण और लग्न में पाप ग्रह व अष्टम में शनि हो तो कुक्षि में पीड़ा होती है। लग्न में पाप ग्रह राहु व केतु हों, तो इनकी दृष्टि पंचम पर होगी व अष्टमस्थ शनि की दृष्टि भी पंचम पर होगी। यदि इस स्थिति में गुरु भी पीड़ित हो, तो जातक एपेंण्डिसाइटिस से ग्रस्त होता है। लग्नेश यदि शत्रु राशि या नीच राशि में हो, मंगल चैथे भाव में व शनि पापग्रह से दृष्ट हो, तो जातक उदर शूल से ग्रस्त होता है। सूर्य व चंद्र छठे भाव में हांे, तो वायु विकार से पाण्डु रोग और इनके साथ मंगल की युति हो, तो उदर शूल होता है। सप्तम भाव में शुक्र पाप ग्रह से युत या दृष्ट हो, तो जातक संग्रहणी रोग का शिकार होता है। द्वितीय स्थान में शनि या राहु हो या कारकांश कुंडली में पंचम स्थान में केतु हो तो भी संग्रहणी रोग होता है। लग्न में राहु व बुध एवं सप्तम स्थान में शनि व मंगल हों या लग्नेश व गुरु त्रिक भाव में हों, तो जातक अतिसार से ग्रस्त होता है। लग्नेश व बुध या गुरु की युति त्रिक भाव में हो या पंचम भाव में नीच राशि में बुध या गुरु स्थित हो, तो जातक पिŸा का रोगी होता है। षष्ठेश चंद्र पाप ग्रह के साथ हो या पंचम स्थान में शनि व चंद्र हों या लग्नेश व सप्तमेश चंद्र पर केवल पाप ग्रहों की दृष्टि हो या जन्मराशि व षष्ठेश केवल पापग्रहों से दृष्ट हों या सूर्य व मंगल के मध्य चंद्र हो व सूर्य मकर में हो, तो जातक प्लीहा रोग से ग्रस्त होता है। छठे या बारहवें भाव में शनि व मंगल हों या सिंहस्थ चंद्र पाप पीड़ित हो या लाभेश तृतीय स्थान में हो या केंद्र त्रिकोण भावों में स्थित हो तो जातक शूल रोग से ग्रस्त होता है। सप्तम में राहु व केतु का होना या लग्न में चंद्रमा व अष्टम में शनि का होना भी उदर रोग का कारक है। जन्मांग में यदि पंचम भाव में शुभ ग्रह बली होकर स्थित हो, पंचमेश व पंचम कारक भी बली हो, तो जातक को उदर रोग सामान्यतः नहीं होता है। लेकिन पंचम भाव में पाप ग्रहों का होना पंचम भाव पर पाप ग्रहों की दृष्टि होना, पंचम भाव व पंचमेश का पाप कर्तरी प्रभाव में होना आदि उदर रोग के कारक हैं। पाप ग्रहों का प्रभाव जैसे-जैसे पंचम भाव, पंचमेश व पंचम कारक पर बढ़ता जाएगा उदर रोग उतना ही जटिल होता जाएगा। अर्थात उदर रोगों के होने या उनसे मुक्ति में ग्रहों की भूमिका गोचर व दशाकाल के आधार पर निर्भर होती है। कुंडली 1 में पंचमेश सूर्य छठे भाव में अष्टमेश मंगल व केतु के साथ है। मंगल व केतु दोनों अग्निकारक हैं। पंचम भाव पर शनि की व पंचमेश पर राहु की दृष्टि है। राहु व शनि दोनांे नीच कर्म के कारक हैं। व्यय भाव में पाप ग्रह जातक को व्यसनी बनाते हैं। नीच संगति के कारण मदिरा का सेवन करने से जातक को उदर में सूजन की शिकायत हुई। षष्ठेश आंतों के कारक बुध की लग्न पर दृष्टि के कारण आंतों में सूजन हुई। नवांश कुंडली में पंचमेश गुरु के नवम में व सूर्य के उच्च नवांश में होने और पंचम पर पाप ग्रहों का प्रभाव न होने के कारण उदर रोग कुछ समय में ही ठीक हो गया। कुंडली 2 में पंचम भाव में शनि स्थित है। पंचमेश सूर्य अष्टम भाव में स्थित है। पंचम भाव मंगल व राहु के पाप कर्तरी प्रभाव में है। नवांश में भी पंचम भाव व पंचम नवांशेश पर पाप ग्रहों का प्रभाव है। पंचम में शनि वायु विकार कारक है। जातक को वायु विकार के कारण पिछले वर्ष जबरदस्त समस्या आई। लेकिन सम्मिलित उपायों से राहत मिली। पंचम पर पाप प्रभाव अधिक होने से समस्या का स्थायी समाधान नहीं हो रहा है। अर्थात जन्मांग चक्र में उपस्थित अशुभ योग उदर रोग की जटिलता में महत्वपूर्ण कारक बनते हैं।



बगलामुखी विशेषांक   मार्च 2008

बगलामुखी का रहस्य एवं परिचय, बगलामुखी देवी का महात्म्य, बगलामुखी तंत्र मंत्र एवं यंत्र का महत्व एवं उपयोग, बगलामुखी की उपासना विधि, बगलामुखी उपासना में सामग्रियों का महत्व इस विशेषांक से जाना जा सकता है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.