सम्मोहन उपचार

सम्मोहन उपचार  

व्यूस : 7851 | अकतूबर 2012
सम्मोहन उपचार जे. पी. मलिक इस अंक में फोबिया विषय पर उठाये गये सवालों का जवाब दिया गया है। फोबिया या असामान्य डर शब्द का प्रयोग बहुत सारे लोग एक सामान्य डर या चिंता के लिए भी करते हैं जो कि सही नहीं है। डर हमारे जीवन की एक बहुत ही आवश्यक अनुभूति है। डर का कोई न कोई कारण होता है। डर हमारे जीवन की रक्षा के लिए आवश्यक है। डर की अनुभूति हमें जन्म से ही होती है। जन्म के बाद बच्चा गिरने से और ऊंची आवाज से डरता है। यह उसको कोई सिखाता नहीं है। कुछ लोग कहते हैं कि डर सामूहिक अवचेतन के माध्यम से बच्चा प्राप्त करता है। लेकिन जब डर सामान्य न हो तो क्या वह उचित है? मनोविज्ञान में मापदण्ड शून्य से प्रारंभ नहीं होता है बल्कि औसत या मध्यम से शुरु किया जाता है। उदाहरण के तौर पर जब यह कहा जाये कि वह बुद्धिमान है तो इसका अर्थ हुआ कि वह व्यक्ति औसत बुद्धिमान व्यक्ति से ज्यादा बुद्धि मान है। जैसे हम आप जिंदगी में कहते हैं कि अमुक व्यक्ति लंबा है या छोटा है तो भी हम समझ सकते हैं कि हमारा मापदण्ड एक सामान्य आंकड़े के आधार पर हो रहा है। इसी प्रकार असामान्य डर भी उस डर को कहेंगे जो सामान्यतः व्यक्तियों को नहीं होना चाहिए। प्रश्न: क्या अधिक डर को फोबिया कहते हैं? उŸार: अधिक डर को फोबिया नहीं कहते बल्कि फोबिया वह डर है जो कि असामान्य तो है लेकिन तर्क की कसौटी पर भी खरा नहीं उतरता है। जैसे कोई कहे कि मुझे बचपन में कुŸो ने काट लिया था। उस वक्त से अब तक मुझे कुŸाों से बेहद ज्यादा डर लगता है। कुŸो से बेहद डर लगना भी असामान्य है लेकिन तर्क की कसौटी पर यह सही उतरता है क्योंकि इस डर की वजह व्यक्ति को मालूम है। अतः यह डर कहा जाएगा, फोबिया नहीं। इसके विपरीत एक व्यक्ति सांप या कछुए या छिपकली या अन्य जीव को देखकर अकारण डरता है तथा डर के मारे उसका व्यवहार असामान्य हो जाता है तो इस प्रकार के डर को फोबिया कहते हैं। आपको जीवन में ऐसे भी कई व्यक्ति मिले होंगे या उनके बारे में सुना होगा जो ना भीड़ में जा सकते, दरवाजा बंद में नहीं बैठ सकते या सीढ़ियों पर नहीं चढ़ सकते तो ये सभी डर फोबिया कहलायेंगे। प्रश्न: क्या फोबिया का कोई लक्षण भी होता है? उŸार: फोबिया को पहचानना बहुत आसान है। पहली बात तो इस डर के कारण का व्यक्ति को पता नहीं होता और फिर उसका व्यवहार बेहद असामान्य हो जाता है जैसे पसीना आने लगता है, चक्कर आने लगते हैं, कभी-कभी बेहोश भी हो जाता है, एक दहशत जैसा व्यवहार हो जाता है, दम घुटने लगता है, सांस लेने में दिक्कत हो सकती है, शरीर कांपने लग सकता है, चिंता बेहद बढ़ जाती है, आवाज बदल जाती है, हाथ, पैर ठंडे पड़ सकते हैं, मांस पेशियां खिच सकती हैं, सिर दर्द, पेट दर्द, दस्त, उल्टी इत्यादि लक्षण व्यवहार में प्रकट होने लगते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि सारे लक्षण हर रोगी में दिखाई दें बल्कि इनमें से कुछ लक्षण अवश्य ही दिखाई देंगे। फोबिया वाला व्यक्ति यह भली भांति समझता है कि यह डर बेतुका है लेकिन यह जानते हुए भी वह इस पर काबू नहीं रख पाता है। वह अक्सर कहता है कि मुझे ऐसा लगने लगता है कि मेरे हृदय की गति रुकने वाली है और सांस बंद होने वाली है। प्रश्न: जब डर का कारण नहीं है तो डर लगता क्यों है? उŸार: बिना कारण के तो कुछ नहीं होता यह तो विज्ञान का एक सिद्धांत है जो कि हजारों वर्ष पूर्व श्रीकृष्ण ने कर्म में सिद्धांत में समझाया है और भगवान बुद्ध ने भी कहा है कि कष्ट अकारण नहीं होता है। इसी प्रकार फोबिया भी अकारण नहीं होता लेकिन उसका कारण व्यक्ति भूल चुका होता है। कुछ लोग कहेंगे कि बहुत छोटी-छोटी हानिरहित चीजों या जीवों से फोबिया होना जैसे कोकरोच से डरना इस के पीछे का इतना बड़ा कारण हो सकता है कि एक असामान्य डर के रूप में बन जाये। या कुर्सी देखकर चक्कर आना जैसे फोबिया समझ व तर्क शक्ति से परे लगते हैं। यह बिल्कुल सही बात है क्योंकि तर्क तो फोबिया पर लागू होता ही नहीं। व्यक्ति जिस वस्तु, जानवर या परिस्थिति से असामान्य रूप से बिना कारण के जब डरता है तो निश्चित बात है कि वह कारण को भूल चुका है। यह कारण परोक्ष या अपरोक्ष रूप में हो सकता है। परोक्ष कारण जैसे किसी को एक सांप ने काटा और वह इस बात को भूल चुका है। वह अनुभव अवचेतन मन में चल गया है लेकिन फिर सांप देखने से उसका कारण जागृत हो जाता है। लेकिन स्मृति नहीं आती है तथा वह एक डरावना अनुभव पैदा कर देता है। शरीर में असामान्य अनुभव होने लगते हैं जैसे दिल बैठना इत्यादि। लेकिन यह कारण परोक्ष है। अपरोक्ष कारण कई प्रकार से हो सकते हैं जैसे ऊपर वाले उदाहरण में ही, वह हो सकता है कि व्यक्ति एक कोकरोच को देखता है और तुरंत उसे एक नाग काट लेता है। उसका मन इस अनुभव को दूसरे रूप में देख सकता है कि जब मैं कोकरोच को देखता हूं तो कोई बड़ी दुर्घटना होती है। अब चाहे वह कोकरोच को देखना और सांप से काटा जाना दोनों बातें भूल चुका है अर्थात ये बातें अवचेतन मन में चली गई है। लेकिन कोकरोच देखने पर अवचेतन मन में दर्ज दुर्धटना का प्रभाव व्यवहार में दिखाई देने लगता है जबकि कोकरोच ने उसे कभी काटा भी न था। कुछ लोग ऐसा भी मानते हैं कि पूर्व जन्म के दुखद अनुभव भी इस जीवन में किसी विशेष परिस्थिति में व्यवहार को प्रभावित कर सकते हैं जिनमें से फोबिया एक प्रमुख लक्षण है। प्रश्न: क्या फोबिया किसी विशेष प्रकार के व्यक्ति को ही होता है? उŸार: हर व्यक्ति विशेष को होता है। फोबिया किसी को भी हो सकता है। यह किसी विशेष लिंग, आयु, धर्म, क्षेत्र या अन्य इस प्रकार के कारणों से नहीं जुड़ा है। इसका संबंध तो किसी विशेष घटना से होता है या उससे जुड़े हुए कारणों से होता है जो कि प्रभाव को पुनः जागृत कर देते हैं। जैसे हम जब वर्षों बाद किसी स्थान पर जाते हैं तो पुरानी उस स्थान से जुड़ी हुई कुछ बातें याद आ जाती है, कुछ बातों का प्रभाव आ जाता है। इसी प्रकार फोबिया भी किसी पुरानी जुड़ी हुई घटना का प्रभाव है जो कि हम अब भूल चुके हैं। प्रश्न: क्या फोबिया जीवन के दूसरे पहलुओं पर भी कोई प्रभाव डालता है? उŸार: हां, फोबिया की वजह से हमारे जीवन के कई अन्य पहलू भी अवश्य प्रभावित होते हैं। मैं इस संदर्भ में एक उदाहरण देता हूं। एक व्यक्ति जिसकी आयु लगभग 55 वर्ष थी वह किसी सरकारी विभाग में अधिकारी था तथा उसे ऊंचाई पर चढ़ने से या ऊंचाई पर जाने से अत्यंत डर लगता था। वह एक सोसायटी में रहता था जहां बहुमजिली इमारतें थीं। वह पहली मंजिल से ऊपर कभी नहीं जा सकता था। उस व्यक्ति की बेटी विदेश में रहती थी। वह चाहती थी कि उसके पिता जी भी कभी-कभी उसके पास आयें और कुछ दिन रहें। लेकिन वह तो हवाई जहाज में बैठ ही नहीं सकता था। यह बात लगभग 5 वर्ष पहले की है। उसने अपनी समस्या मुझे बताई और उसका दिल भी भर आया। देखो, यह कितना मार्मिक लगता है। बाप बच्चे से मिलने में ऐसे कारण से मजबूर है जो कि तर्कसंगत भी नहीं है। खैर, उस व्यक्ति ने हमसे उपचार कराया और उनका फोबिया भी ठीक हो गया। इसी प्रकार फोबिया की वजह से हम बहुत सारे जरूरी कार्य नहीं कर पाते हैं। प्रश्न: फोबिया का उपचार किस प्रकार संभव है? उŸार: सम्मोहन के प्रयोग से फोबिया का उपचार करना संभव है। फोबिया का संबंध हमारे अवचेतन मन की स्मृतियों से हैं यह व्यवहार एक सामान्य प्रक्रिया नहीं है। सम्मोहन पीड़ित व्यक्ति के व्यवहार में उसकी क्षमता बढ़ाकर तथा कष्ट के प्रभाव को कम करके फोबिया का उपचार करता है। मन की क्षमता इस प्रकार बढ़ाई जाती है ताकि वह व्यक्ति फोबिया पैदा करने वाली वस्तु या परिस्थिति को भी सामान्य रूप से कर सके। कई व्यक्ति यह सेाचकर उपचार के लिए आते हैं कि सम्मोहन तो एक जादू की तरह हमारे व्यवहार में परिवर्तन ला सकता है। चाहे वह व्यक्ति पिछले 20-30 वर्ष से उस फोबिया से पीड़ित हो लेकिन सम्मोहन से एक दिन में ठीक होने की मनसा लेकर आता है। इस प्रकार की धारणा तक भ्रार्मिक मिथ्या है। मन हमारे व्यवहार को संचालित करता है तथा मन के कुछ नियम हैं जिनको मद्दे नजर रखकर उपचार किया जाता है। फोबिया जैसी बीमारी कम से कम 4 या 5 बार सैशन कराने से ठीक होती है। कभी-कभी इससे अधिक सेशन भी लग सकते हैं। रोगी को घर पर करने के लिए कुछ उपचार भी दिये जाते हैं। प्रश्न: क्या फोबिया फोटोग्राफ के आधार पर ठीक किया जा सकता है उŸार: सम्मोहन फोटोग्राफ या किसी वस्तु पर नहीं किया जा सकता बल्कि यह एक व्यक्तिगत अनुभव है। उपचार के लिए कुछ सुझाव दिये जाते हैं और प्रक्रियाएं करायी जाती हैं जो कि एक फोटोग्राफ से संभव नहीं है। प्रश्न: क्या फोबिया का उपचार करना सीखा जा सकता है? उŸार: फोबिया का उपचार सीखने के लिए आपको सम्मोहन आना चाहिए। फोबिया सम्मोहन द्वारा उपचार करने वाली प्रमुख बीमारियों में से एक है तथा यह हमारे कार्यक्रम का एक हिस्सा है। हर विद्यार्थी को, जो कि सम्मोहन उपचार यानी हिप्नोथिरैपी कोर्स करता है, यह विधि सिखाई जाती है। यह आसान है और हर सामान्य व्यक्ति इसको सीख सकता है और कर सकता है। नोट: अगले अंक में नपुंशकता उपचार से संबंधित प्रश्नों के बारे में जानकारी दी जायेगी।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

तंत्र एवं दश महाविद्या विशेषांक  अकतूबर 2012

futuresamachar-magazine

फ्यूचर समाचार पत्रिका के तंत्र एवं दशमहाविद्या विशेषांक में दस महाविद्याओं का संक्षिप्त परिचय व मंत्र, तंत्र एवं दस महाविद्या, तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक मारक शक्ति, शिव शक्ति का साक्षात श्री विग्रह श्रीयंत्र, तंत्र का आरंभि अर्थ एवं अंतिम लक्ष्य, तंत्र मंत्र अभिन्न संबंध, तंत्र परिभाषा एवं महत्वपूर्ण प्रयोग, दैनिक जीवन में तंत्र, दश महाविद्याओं का लौकिक एवं आध्यात्मिक विवेचन तथा इनके प्रसिद्ध शक्ति पीठों की जानकारी, तंत्र व् महाविद्या की प्राचीनता, मूल एवं विकास के विभिन्न प्रक्रम, तंत्र के अधिपति देव एवं मूल अधिष्ठात्री देवी, दश महाविद्या रहस्य, इसके अतिरिक्त तंत्र की शिक्षा भूमि तारापीठ, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, टैरो कार्ड, सत्यकथा, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब


.