वायव्य में दोष - अपनों से असंतोष

वायव्य में दोष - अपनों से असंतोष  

कुछ माह पूर्व दक्षिण अफ्रीका के प्रसिद्ध व्यापारी ने पंडित जी को अपने घर और व्यावसायिक संस्थानों का वास्तु परीक्षण करने के लिए बुलाया। पंडित जी के वहाँ पहुँचने पर उन्होंने बताया कि वे काफी समय से अपनी पारिवारिक एवं व्यावसायिक समस्याओं से परेशान हैं। बड़ी बेटी ने उनकी मर्जी के खिलाफ अन्तर्जातीय विवाह कर लिया है। उनका इकलौता बेटा अमेरिका में पढ़ाई करने गया था पर उसका पढ़ाई में मन नहीं लगता और पढ़ाई छोड़कर अपने किसी मित्र के साथ रह रहा है और अपने माता-पिता का बिल्कुल कहना नहीं मानता जिसकी वजह से वे काफी तनाव में रहते हैं। उधर व्यापार में भी काफी उतार-चढ़ाव होते रहते हैं तथा साझेदारों के साथ भी मतभेद हो गये हैं। काफी सारे विकास के अवसर आते-आते रह जाते हैं ओर अवरोध उत्पन्न हो जाते हैं। अधिक यात्रा करने से भी काफी परेशान थे।

विवाह विशेषांक  मार्च 2014

फ्यूचर समाचार पत्रिका के विवाह विशेषांक में सुखी वैवाहिक जीवन के ज्योतिषीय सूत्र, वैदिक विवाह संस्कार पद्धति, कुंडली मिलान का महत्व, विवाह के प्रकार, वर्तमान परिपेक्ष्य में कुंडली मिलान, तलाक क्यों, शादी के समय निर्धारण में सहायक योग, शनि व मंगल की वैवाहिक सुख में भूमिका, शादी में देरी: कारण-निवारण, दाम्पत्य जीवन सुखी बनाने के उपाय तथा कन्या विवाह का अचूक उपाय आदि विषयों पर विस्तृत जानकारी देने वाले आलेखों को सम्मिलित किया गया है।

सब्सक्राइब

.