वास्तु शास्त्र एवं धर्म

वास्तु शास्त्र एवं धर्म  

वास्तु शास्त्र एवं धर्म बाबू लाल साहू (शास्त्री) भारतीय संस्कृति के अनुसार वास्तु केवल भवन तकनीक ही नहीं बल्कि धार्मिक भी है: वास्तु भवन: निर्माण तकनीक (आर्किटेक्चर) एवं वास्तु विज्ञान दो भिन्न-भिन्न विधाएं हैं। एक आर्किटेक्ट एक उŸाम भवन तो बना सकता है, परंतु उसमें रहने वाले प्राणी के सुखी जीवन की गारंटी नहीं दे सकता। वास्तु विद्या इस बात की गारंटी देती है। संसार में जितनी भी मानव सभ्यताएं हैं, उनमें भवन-निर्माण को एक पुरुषार्थ चतुष्ट्य की सिद्धि है। जब तक हम इस धार्मिक रहस्य को नहीं समझ पायेंगे हम वास्तु के मर्म को कभी नहीं जान पायेंगे। यदि भवन निर्माण-कला में से वास्तु विज्ञान को निकाल दिया जाये तो उसकी कीमत शून्य है। यह केवल ईंट, पत्थर, लोहे, सीमेंट का ढेर है और कुछ नहीं। भवन-निर्माण एक धार्मिक कृत्य है जिसमें पुरुषार्थ चातुष्ट्य की सिद्धि धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष के रहस्य को समझना भी आवश्यक है। Û धर्म: व्यक्ति को धर्म लाभ होना चाहिए। भवन में निवास करने वाले प्राणी को आध्यात्मिक व आत्मिक सुख मिलना चाहिए। उसमें निवास करने वाले व्यक्ति को आधिभौतिक, आधिदैविक और आध्यात्मिक त्रिविध तापों से मुक्ति मिलनी चाहिए। उसमें निवास करने वाले प्राणी को देखते ही आम आदमी का सिर श्रद्धा एवं विश्वास से स्वतः ही उनके चरणों में झुक जाना चाहिए। घर में कभी किसी से झगड़ा न हो, कलह न हो, नैसर्गिक वैर भाव न हो। आपने सुना होगा कि प्राचीन ऋषि, मुनियों के आश्रम क्षेत्र में आते ही हिंसक प्राणी अपना नैसर्गिक वैर भाव भूल जाते थे। शेर व बकरी एक साथ तथा सांप व नेवला एक साथ बैठे होते थे। यह वास्तु के धार्मिक लाभ का प्रत्यक्ष उदाहरण है। Û अर्थ: गृह प्रवेश के साथ ही धन बढ़ना चाहिए, व्यक्ति ऊंचा उठना चाहिए। ऐसा नहीं हो कि व्यक्ति ने मकान बनाया और कर्ज में दबता चला गया। व्यक्ति आर्थिक रूप से दिवालिया हो जाये तो समझें कि भवन का वास्तु खराब है। इसके विपरीत उसके आय के स्रोत बढ़ने चाहिए, उसकी मार्केट वैल्यू, साख, प्रतिष्ठा में भारी वृद्धि होनी चाहिए। तभी भवन-निर्माण की सार्थकता है।



वास्तु विशेषांक  दिसम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के वास्तु विशेषांक में वास्तुशास्त्र के सिद्धांत - वर्तमान समय में उपयोगिता, ज्योतिष, वास्तु एवं अंकशास्त्र के संयुक्त क्रियान्वयन की रूपरेखा, वास्तुशास्त्र एवं फेंगशुई- समरूपता एवं विभिन्नता, वास्तु पुरूष का प्रार्दुभाव एवं पूजन विधि, वास्तु शास्त्र का वैज्ञानिक दृष्टिकोण, भूखंड चयन की गणीतीय विधि, गृह निर्माण एवं सुख समृद्धि का वास्तु, वास्तु एवं फेंगशुई, वास्तु दोष कारण व निवारण, वास्तु एवं बागवाणी, वृक्षों व पौधों से वास्तु लाभ कैसे लें, वास्तु मंत्र, वास्तु शास्त्र एवं धर्म, वास्तुशास्त्र में शकुन एवं अपशकुन, लाभदायक वास्तु सामग्री, क्रिस्टल की उपयोगिता, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, पाइथागोरियन अंक ज्योतिष, वास्तु के अनुसार शेक्षणिक संस्थान, हवन प्रदूषण में कमी लाता है, मां त्रिपुर सुंदरी का चमत्कारी शक्तिपीठ, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.