ऊँ हनुमते नमः

ऊँ हनुमते नमः  

डॉ. अरुण बंसल
व्यूस : 202 | आगस्त 2005

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं दनुजवनकृशानंु ज्ञानिनामग्रगण्यम्।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।।

अतुल बल के धाम, सोने के पर्वत सुमेरु के समान शरीर वाले, दैत्य रूपी वन का ध्वंस करने के लिए अग्नि रूप, ज्ञानियों में अग्रगण्य, संपूर्ण गुणों के निधान, वानरों के स्वामी, श्री रघुनाथ जी के प्रिय भक्त पवन पुत्र श्री हनुमान जी को प्रणाम करता हूं ।।

आश्विनस्यासिते पक्षे स्वात्यां भौमे चतुर्दशी।
मेषलग्नेऽष्जनीगर्भात् स्वयं जातो हरः शिवः।। वायुपुराण

आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में, चतुर्दशी तिथि को मंगल के दिन, स्वाति नक्षत्र और मेष लग्न में माता अंजना के गर्भ से स्वयं भगवान शिव हनुमान जी के रूप में प्रकट हुए। इस तथ्य के अनुसार सूर्य कन्या राशि में स्थित है एवं चंद्र सूर्य से कम अंशों पर है अर्थात स्वाति नक्षत्र नहीं हो सकता। इसका स्पष्टीकरण हृषिकेश पंचांग, वाराणसी में मिलता है। इसके अनुसार:

शुक्लादिमासगणनया आश्विनकृष्ण कार्तिककृष्ण, तुलार्केमेषलग्ने सायंकाले।
अतश्चतुर्दश्यां सायंकाले जन्मोत्सवः।।

अर्थात शुक्लादि मास गणनानुसार आश्विन कृष्ण पक्ष एवं कृष्णादि मास गणनानुसार कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को, तुला के सूर्य में, मेष लग्न में सायंकाल को श्री हनुमान का जन्म हुआ। इस प्रकार यह स्पष्ट होता है कि श्री हनुमान जी का जन्म मास आश्विन शुक्लादि है न कि कृष्णादि। अतः मास प्रवेश में सूर्य अवश्य कन्या राशि में था, लेकिन मास समाप्ति के समय जब कृष्ण चतुर्दशी थी तब वह तुला के मध्य या उच्चांश पर स्थित था। इसी कारण चंद्रमा भी तुला में स्वाति नक्षत्र में स्थित था।

पंचांगों के अनुसार चैत्र पूर्णिमा को चित्रा नक्षत्र में हनुमान जयंती मनाई जाती है। लेकिन गीता प्रेस के श्री हनुमान अंक के अनुसार हनुमान जी की माता अंजना जी को उनकी कठोर तपस्या के पश्चात इस दिन वायु देवता ने पुत्र का वरदान दिया था। उसके कुछ समय पश्चात उन्होंने महाराष्ट्र प्रदेश में नासिक के पास अंजना नेरी पर्वत की एक गुफा में श्री हनुमान को जन्म दिया। अतः चैत्र पूर्णिमा उचित रूप में जयंती नहीं है। श्री राम का जन्म यदि 21 फरवरी, 5115 ई.पू. (संदर्भ संपादकीय, फ्यूचर समाचार, मई 2005) को माना जाए जिसके अनुसार श्री हनुमान श्री राम के

समकालीन थे और उनकी उम्र श्री राम की उम्र से कुछ वर्ष कम या अधिक रही होगी, एवं श्री हनुमान की प्रचलित कुंडली में सिंह के गुरु और मकर के शनि को ठीक मान कर वर्ष एवं दिन की गणना की जाए तो श्री हनुमान का जन्म 3 सितंबर, 5139 ई.पू. को लगभग सायं 7 बजे महाराष्ट्र में नासिक और त्रयंबकेश्वर के मध्य कार्तिक कृष्ण चतुदर्शी को स्वाति नक्षत्र में मेष लग्न में हुआ होगा।


यह भी पढ़ें: कर्ज की समस्या से हैं परेशान तो करें ये विशेष उपाय


इस प्रकार उनकी जन्मकुंडली निम्न आती है:

ग्रह स्पष्ट

लग्न मेष 10: 32
सूर्य तुला 14: 41
चंद्र तुला 09: 17
मंगल कर्क 20: 55
बुध तुला 11: 06
गुरु सिंह 05: 36
शुक्र वृश्चिक 23: 26
शनि मकर 03: 13
राहु मेष 14: 57
केतु तुला 14: 57
अयनांश - 74:15:07

अपनी कुंडली में राजयोगों की जानकारी पाएं बृहत कुंडली रिपोर्ट में


श्री हनुमान जी

03 सितंबर 5139, ई.पू. 1900, नासिक

om-hanumate-namaha
 

गुरु और शनि की यह स्थिति सैकड़ों वर्षों तक नहीं आती है। अतः यदि प्रचलित कुंडली के गुरु और शनि को सटीक माना जाए तो उपरोक्त जन्म गणना भी ठीक होनी चाहिए। इस प्रकार श्री हनुमान श्री राम से लगभग साढ़े तेईस वर्ष बड़े रहे होंगे। ज्योतिष में हनुमान जी की विशेष महत्ता है। शनि के कारण उत्पन्न कष्टों के निवारण, मंगल ग्रह दोष, काल सर्प दोष आदि के निवारण एवं भूत-प्रेत की बाधाओं से मुक्ति पाने के लिए सबसे पहले हनुमान जी ही याद आते हंै। हनुमान जी के भक्तों को शनि तंग नहीं करता। हनुमान जी, शिव जी की तरह, शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं एवं श्री रामचंद्र जी की आराधना से अति प्रसन्न होते हैं। हनुमान जी की उपासना में पूजा, जप, पाठ, उपवास, चोला, ध्वजा आदि मुख्य हैं।

हनुमान जी की कृपा प्राप्त करने के लिए सुंदर कांड, बजरंग बाण, हनुमानाष्टक एवं हनुमान चालीसा आदि के पाठ का विधान है। मारुति नंदन की कृपा के लिए मंगलवार का उपवास रखा जाता है। इस उपवास में नमक, मांस, मदिरा आदि वर्जित हैं एवं एक बार भोजन करने का विधान है। गुड़ एवं चने का सेवन विशेष रूप से फलदायी है। ‘ऊँ हनुमते नमः’ श्री मारुति नंदन का सिद्ध मंत्र है एवं इससे शीघ्र ही कार्य की सिद्धि होती है। हनुमान जी के मंदिर भारत के हर शहर एवं गांव में हैं। अनेक सिद्ध पीठ हैं। कुछ मुख्य सिद्ध पीठों की चर्चा इस अंक में की गई है। सिद्ध पीठ में की गई आराधना किसी भी अन्य स्थल से सहस्र गुना अधिक फलदायी होती है। इस अंक में अनेक सिद्ध मंत्र दिए गए हैं, जिनका जप करने से कामनाओं की पूर्ति होती है। श्री मारुति नंदन की कृपा हमारे सभी पाठकों पर बनी रहे, यही हमारी कामना है।


To Get Your Personalized Solutions, Talk To An Astrologer Now!




Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business


.