पिरामिड से वास्तु दोषों का शमन

पिरामिड से वास्तु दोषों का शमन  

फ्यूचर पाॅइन्ट
व्यूस : 2730 | जुलाई 2014

जीवन जितना कठिन है उतना ही सरल भी। जरुरत है तो सिर्फ अपनी और अपने आस-पास की ऊर्जाओं को अपने अनुकूल करने की। जीवन के हर पहलू में आदमी के आस-पास के माहौल का एवं सकारात्मक और नकारात्मक विचारों और ऊर्जाओं का उसके जीवन पर अटूट प्रभाव होता है । एक हैंडलूम की फैक्ट्री के मालिक जिनकी फैक्ट्री में कुल नौ मशीनें थीं और उसमें से सात विभिन्न प्रकार की तकनीकी या आर्थिक कारणों से बंद थीं। सज्जन अपने हालात से बहुत परेशान थे और परेशानियां इतनी कि दिल्ली के एक बड़े अस्पताल से उनका मानसिक इलाज भी चल रहा था। वे चाहते थे कि उनका एक मकान जो हरियाणा के पानीपत शहर में है, बिक जाये ताकि मानसिक और आर्थिक रूप से उन्हें कुछ शान्ति मिले। कुछ ही दिन बाद उन सज्जन ने फैक्ट्री का वास्तु करवाया।

फैक्ट्री का मुख्य द्वार पूर्व दिशा की ओर है जो कि शनि संबंधित लोहे की मशीनों के लिए बहुत ज्यादा उपयुक्त नहीं है। फैक्ट्री की मुख्य इमारत उत्तर दिशा में ऊँची बनी हुई है और मशीनरी दक्षिण भाग में है लेकिन दक्षिणी इमारत, उत्तर की इमारत से बहुत नीची और हल्की है। भवन के आग्नेय कोण में कारीगरों के लिए टाॅयलेट बना हुआ है। नैर्ऋत्य कोण, ईशान कोण से बहुत नीचा है। फैक्ट्री का मुख्य कार्यालय फैक्ट्री के मुख्य ईशान कोण पर दक्षिण मुखी स्थित है। मालिक का अपनी गद्दी पर बैठने के बाद मुख की दिशा दक्षिण है जिस कारण से उनका और उनके सहभागी (उनके पिता) के बीच भी अनेक कारणों को लेकर वैचारिक मतभेद रहते हैं। वास्तु की सभी त्रुटियाँ मानो फैक्ट्री के मालिक एवं उनके पिता के चेहरे पर, व्यापार पर और जीवन शैली पर ज्यों की त्यों छपी थीं। आखिर में अब समय था बदलाव का, नकारात्मक से सकारात्मक दिशा का, नुकसान से लाभ की ओर बढ़ने का।

लेकिन नकारात्मक ऊर्जाओं से निकल कर सब कुछ सकारात्मक करना इतना आसान कहां था। सज्जन के पिता जी ने फैक्ट्री में किसी भी तरह की तोड़-फोड़ या बदलाव में असमर्थता जताई। वास्तुविद् ने उन्हें पिरामिड वास्तु की जानकारी दी कि बहुत बार ऐसा संभव नहीं हो पाता कि व्यक्ति विशेष अपने स्थल पर किसी तरह के कंस्ट्रक्शनल बदलाव कराये या वहां कोई फिजिकल चेंज करे इसलिए वास्तु के आधुनिक रूप में कुछ पिरामिड्स का इस्तेमाल कर हम बिना किसी तोड़-फोड़ के स्थान को वास्तु के अनुकूल बना पाते हैं। परमपिता परमेश्वर जब आपका भला चाहते हैं तो रास्ता खुद ब खुद आपके सामने दिखने लगता है।

अगले ही शुभ समय के अनुसार उनके स्थल का ब्रह्मस्थान निर्देशित कर उसमें नौ पिरामिड लगाकर स्थल की भूमि को ऊर्जित कर सर्व दोषों से मुक्ति का उपाय किया गया। कार्यालय के दक्षिण द्वार पर प्रोटेक्शन पिरामिड, रिसेप्शन पर बिजनेस को, व्यापार को बढ़ाने वाला पिरामिड ‘‘बिजनेस डिस्क’’, बैठने की गद्दी पर सफलता दायक फाॅच्र्यून पिरामिड ‘‘फाॅच्र्यून सीट’’ आदि कुछ पिरामिड्स का उपयोग कर पूरे स्थल की ऊर्जा को वास्तु के अनुकूल किया गया। रोजाना अपने ग्रह दोष और वास्तु दोष के निवारण के लिए ‘‘पायरा फायर’’ पिरामिड दिया गया जिससे कि भविष्य की तरक्की एवं सफलता के मार्ग प्रशस्त हों। आज चालीस मशीनें उसी स्थल पर सफलतापूर्वक उनको तरक्की एवं सफलता की राह पर अग्रसर कर रही हैं।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

राहु विशेषांक  जुलाई 2014

futuresamachar-magazine

फ्यूचर समाचार पत्रिका के राहु विशेषांक में शिव भक्त राहु के प्राकट्य की कथा, राहु का गोचर फल, अशुभ फलदायी स्थिति, द्वादश भावों में राहु का फलित, राहु के विभिन्न ग्रहों के साथ युति तथा राहु द्वारा निर्मित योग, हाथों की रेखाओं में राजनीति एवं षडयंत्र कारक राहु के अध्ययन जैसे रोचक व ज्ञानवर्धक लेख सम्मिलित किये गये हैं इसके अलावा सत्यकथा फलित विचार, ग्रह सज्जा एवं वास्तु फेंगशुई, हाथ की महत्वपूर्ण रेखाएं, अध्यात्म/शाबर मंत्र, जात कर्म संस्कार, भागवत कथा, ग्रहों एवं दिशाओं से सम्बन्धित व्यवसाय, पिरामिड वास्तु और हैल्थ कैप्सूल, वास्तु परामर्श आदि लेख भी पत्रिका की शोभा बढ़ाते हैं।

सब्सक्राइब


.