अंजीर

अंजीर  

अविनाश सिंह
व्यूस : 5077 | दिसम्बर 2014

अंजीर को लैटिन में ficus-carica कहते हैं और अंग्रेजी में "FIG" । अंजीर के वृक्ष गर्म प्रदेशों में पाये जाते हैं। मूल उत्पत्ति एशिया से मानी जाती है। अफगानिस्तान, ईरान, बलूचिस्तान, कश्मीर व पूना में अधिक पैदा होते हैं। अंजीर पीपल व बरगद की ही परिवार का है। जिस जमीन में चूना का अंश अधिक होता है वहां अंजीर की पैदावार अधिक व अच्छी होती है। इसके वृक्ष की उंचाई 10 से 15 फुट, पत्ते गोल, बड़े व कटे किनारे वाले होते हैं। पत्ते तोड़ने से दूध निकलता है जो आंखों की मोतियाबिंद के लिए अच्छा होता है। अंजीर के वृक्ष पर वर्ष में दो बार फल आते हैं। एक बार जून-जुलाई और दूसरी बार फरवरी-मार्च में फल आता है।

विदेशों से माला जैसी गूंथी अंजीर भारत में आती है। भारत में महाराष्ट्र में पूना, कर्नाटक में श्रीरंगपट्टनम, उत्तर प्रदेश में लखनऊ, कश्मीर, बंगलूर तथा मैसूर, गुजरात के कुछ हिस्सों में इसके पौधे लगाए जाते हैं। पौधे लगाने के दो वर्ष बाद फल आते हैं। पोषक तत्व: अंजीर में नमी, प्रोटीन, चिकनाई और कार्बोहाईड्रेट्स तत्व होते हैं। कैल्शियम, फाॅस्फोरस, लोहा, खनिज और विटामिन ‘ए’ ‘बी’ ‘सी’ काफी मात्रा में पाए जाते हैं। सूखी अंजीर में पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व शर्करा है। अंजीर को कई तरीकों से खाया जाता है। गुण-धर्म: अंजीर में कई रोग निवारक गुण हैं। हृदय रोगों में उपयोगी, शिरो रोगों में पथ्यकर, नाक से खून गिरना बंद करता है। शीतल है, वातकारक है। सूखे अंजीर में मधुमेह व श्वास रोग नाशक गुण हैं।

अंजीर सभी सूखे मेवों से अधिक लाभदायक है, कांतिदायक है। बलगम (कफ) को पिघलाता व बाहर निकालता है। पुरानी खांसी में लाभदायक है, ज्वर नाशक है। पथरी, लकवा, प्यास व जिगर के रोगों को ठीक करता है। शारीरिक, मानसिक तनाव दूर कर शरीर को स्फूर्ति और शक्ति प्रदान करता है।

आयुर्वेदिक उपयोग व उपचार

- रक्त शुद्धि: सूखी अंजीर और बादाम दूध में उबालकर शर्क मिलाकर नित्य प्रातः खाने से रक्त शुद्धि होती है।

- बवासीर: दो अंजीर पानी में भीगो दें और रोजाना सुबह खाएं। साथ में पानी भी पी जाएं बवासीर की शिकायत दूर हो जाएगी।

- रात को भीगी हुई अंजीर का पानी सुबह और सुबह भीगी हुई अंजीर का पानी शाम को पीना चाहिए। दमा: दमा के इलाज में अंजीर लाभदायक सिद्ध हुई है। इसके सेवन से कफ बाहर आता है और रोगी को आराम मिलता है।

जुकाम खांसी में भी अंजीर लाभदायक है। नपुंसकता: अंजीर को दूध में उबालकर खाने-पीने से शारीरिक शक्ति में वृद्धि होती है। नपुंसकता दूर होती है। यह एक उत्तम टाॅनिक है।

स्त्रियों के लिए: जो स्त्रियां गर्भवती हैं तथा जो गर्भ धारण करना चाहती हैं उन्हें अंजीर का किसी भी रूप में सेवन करना चाहिए। अपच: अंजीर को खाने से स्थायी कब्ज दूर होती है। सूखी अंजीर कब्ज में लाभकारी है क्योंकि इसमें म्यूसिन की मात्रा अधिक होती है। सूखी अंजीर रातभर पानी में भिगोएं तथा सुबह नाश्ते में इसका सेवन करें। इसके सेवन से मल साफ हो जाता है। अंजीर के छोटे-छोटे बीज पाचन शक्ति बढ़ाते हैं।

दुबलापन: चालीस दिन तक पांच अंजीर, दस ग्राम सौंफ के साथ कूटकर मिला कर सुबह खाने से दुबलापन दूर होता है और शरीर भरने लगता है।

मोतियाबिंद: अंजीर का दूध आंखों में डालने से मोतियाबिंद रोग ठीक होने लगती है।

कील-मुंहासे: अंजीर का दूध मुंहासों पर लगाने से मुंहासे बैठ जाते हैं। इसके साथ अंजीर खाने से रक्त शुद्ध होता है और मुंहासे ठीक हो जाते हैं।

रक्त की कमी: अंजीर का सेवन प्रतिदिन करें पानी में भिगो कर या सूखी किसी भी रूप में, सुबह नाश्ते के साथ या शाम खाली पेट, इससे रक्त की कमी दूर होती है नवीन रक्त की उत्पत्ति होती है।

गले के रोग: अंजीर का काढ़ा बनाकर गरारे कर सकते हैं या घूंट-घंूट करके पीने से गले का दर्द, खराश आदि ठीक हो जाते हैं।

सफेद दाग: अंजीर का दूध सफेद दागों पर लगाने से सफेद दाग ठीक हो जाते हैं और त्वचा में कुदरती रंगत आती है।

अंजीर के दूसरे उपयोग: अंजीर का लोग कई प्रकार से सेवन करते हैं। कुछ लोग फलों के साथ अंजीर खाते हैं तो दूसरे लोग दूध के साथ। अंजीर को केक और जैम में भी प्रयोग किया जाता है। कुछ लोग हलवे में भी अंजीर के टुकड़े डालते हैं।

सावधानियां: अंजीर को खाने से पहले अच्छी तरह धो लेना चाहिए। अंजीर का सूखा हुआ छिलका सख्त होता है। पानी में भिगोने से मुलायम हो जाता है आसानी से पच जाता है। जिस पानी में अंजीर भिगोए जाएं उस पानी को पीना लाभदायक होता है क्योंकि अंजीर के पोषक तत्व पानी में आ जाते हैं। इसे बेकार समझ कर फेंकें नहीं। मधुमेह रोगी को सूखी अंजीर के सेवन से बचना चाहिए, हमेशा अंजीर को भिगोकर खाने से लाभ होगा।



Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business


.