डायबिटीज और प्राकृतिक चिकित्सा

डायबिटीज और प्राकृतिक चिकित्सा  

वीरेन्द्र अग्रवाल
व्यूस : 1770 | जून 2017

जिन लोगों को डायबिटीज हो जाती है, उन्हें हमेशा डर बना रहता है कि अब जिंदगी में मिठास नहीं है, जबकि हकीकत तो यह है कि डायबिटीज का होना आपको जीवन के प्रति सचेत कर रहा है कि आप अब तक केयरलेस जीवन जी रहे थे, अब बारी है जागरुकता के साथ जीने की। डायबिटीज मात्र इंसुलिन हार्मोन की कमी के कारण पैदा हुआ रोग है और इंसुलिन का निर्माण शरीर की पैन्क्रियाज ग्रन्थि द्वारा किया जाता है। हम जो भोजन करते हैं, वह शरीर में विभिन्न प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद ग्लूकोज में बदल जाता है जो कि शरीर में ऊर्जा के रूप में कार्य करता है।

जब रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है तो पैन्क्रियाज द्वारा स्रावित इंसुलिन हार्मोन ग्लूकोज स्तर को नियंत्रित रखता है। जब इंसुलिन स्रवण की मात्रा में व्यवधान आ जाता है तो रक्त में ग्लूकोज का स्तर अधिक होने की वजह से डायबिटीज़ हो जाता है। डायबिटीज़ रोग के क्या-क्या लक्षण हैं ? किसी भी लक्षण को पूरी तरह डायबिटीज के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। फिर भी निम्न लक्षण स्पष्ट हो सकते हैं, जैसे:- 1. पेशाब का बार-बार आना। 2. बहुत प्यास लगना। 3. मुँह सूखना। 4. थकान व शिथिलता। 5. आँखों में जलन व चुभन। 6. शरीर में खुजली। 7. वजन कम होना। 8. भूख अधिक लगना। 9. पेशाब पर चींटी लगना। 10. किसी घाव का शीघ्र न भरना। इसका उपचार क्या है ? व्यवस्थित जीवनशैली अपनाकर डायबिटीज को नियंत्रित रखा जा सकता है, जिससे कि जीवन भर दवाओं की आवश्यकता नहीं पड़े और अब तक के सर्वेक्षण द्वारा सिद्ध हो चुका है कि दवाओं के साथ भी यदि जीवनशैली व्यवस्थित नहीं है तो यह रोग अन्य रोगों को जन्म देता है। हर हालत में जीवनशैली में बदलाव कर डायबिटीज जैसे रोग को काबू किया जा सकता है। जीवनशैली में बदलाव किस तरह हो? ऐसा माना जाता है कि सब रोगों की शुरूआत पेट से ही होती है, अतः प्राकृतिक चिकित्सा की विधियों द्वारा पेट को साफ रखें। पेट पर प्रतिदिन 30 मिनट तक मिट्टी की पट्टी व 10 मिनट गर्म सेक लें।

पैन्क्रियाज वाले हिस्से को प्रतिदिन 3ः1 के रेशांे में गर्म व ठंडा सेक लें। सुबह के समय निम्न आसन नियमित रूप से करें: 1. वज्रासन 2. अर्द्धमत्स्येन्द्रासन 3. चक्रासन 4. शवासन 5. नौकासन 6. कपालभांति 7. नाड़ी शोधन 8.उड्यान बन्ध 9. मूलबन्ध 10. 3 से 4 किमी. घूमना। आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों का चयन करना होगा, जिनसे शरीर, पैन्क्रियाज़ व बीटा सेल्स सक्रिय होते हों, जिससे इन्सुलिन निर्माण में सहायता मिलती हो। जैसे-पत्तागोभी, फीका दूध, मौसम के खट्टे फल, करेला, खीरा, लौकी, जामुन, अमरूद, फालसा, तुरई, भिंडी, सिंघाड़ा, जौ, ज्वार, चना की रोटी आदि। एक स्वस्थ व्यक्ति जिसका वजन 70 किग्रा. के आसपास है, उसके पैन्क्रियाज़ से 35 यूनिट इन्सुलिन बनता है।

जब यह अक्रिय हो जाता है, तब उसकी पूर्ति हेतु ऊपर से इन्सुलिन उसी कम हुई मात्रा के अनुपात में लेना पड़ता है। व्यक्ति स्वस्थ हो या डायबिटिक, उसे हर हाल में ऐसा आहार व व्यायाम करना ही चाहिए, जिससे इन्सुलिन अधिक से अधिक प्राप्त हो सके। जटिलतायें:- डायबिटीज के रोगियों को अन्य व्यक्तियों की तुलना में जटिल रोग होने की अधिक सम्भावनायें रहती हैं, क्योंकि डायबिटीज रोगी वैसे शारीरिक रूप से तो डायबिटीक होता है, पर वह मानसिक रूप से भी अपने को डायबिटीक मान लेता है।

रोग होने पर शरीर व आहार के प्रति जागरूक रहकर अपनी जीवनी शक्ति को बढ़ाना होगा ताकि अन्य रोग आक्रमण ही न कर पायें। इसके लिए समय-समय पर खून व पेशाब की जाँच करवाते रहना चाहिए।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

मधुमेह एवं ज्योतिष विशेषांक  जून 2017

futuresamachar-magazine

आज प्रत्येक व्यक्ति खराब जीवन शैली एवं गलत खान-पान के कारण किसी न किसी बीमारी से ग्रसित है। उन्हीं में से एक बीमारी है मधुमेह, जो प्रत्येक वर्ग को बड़ी आसानी से अपनी गिरफ्त में ले लेती है। फ्यूचर समाचार के जून 2017 के मधुमेह एवं ज्योतिष विशेषांक में मधुमेह पर योग्य ज्योतिषियों ने अनेक अच्छे लेख लिखे हैं। साथ ही ज्योतिष के अच्छे आलेख भी प्रत्येक मास की तरह प्रस्तुत हैं जिनमें से मधुमेह पर कुछ लेख इस प्रकार हैं- मधुमेह रोग होने के कारण और निवारण, मधुमेह के ज्योतिषीय कारण व निवारण, मधुमेह रोग और और ज्योतिषीय दृष्टिकोण, मधुमेह रोग से संबद्ध मुख्य ग्रह एवं भाव नक्षात्रादि विवेचन, मधुमेह आहार और सावधानियां, ज्योतिष और मधुमेह, डायबिटीज और प्राकृति चिकित्सा, हस्तरेखा से मधुमेह रोग का ज्ञान, मधुमेह की गिरफ्त में सेलिब्रिटी वल्र्ड आदि। इनके अतिरिक्त ज्योतिषीय लेखों में स्थायी स्तम्भों में भी अच्छे लेख पूर्व की भांति रोचक व ज्ञानवर्धक हैं। सत्य कथा में इस बार एक चर्चित सैफ की कुण्डली का विवेचन किया गया है - क्वीन आॅफ इंडियन वेजिटेरियन रेसेपीज-निशा मधूलिका, पावन स्थल स्तम्भ में बाबा तारकेश्वर की महिमा को बताया गया है वास्तु में फ्लैट के नक्शे का वास्तु समाधान आदि।

सब्सक्राइब


.