श्मशान के पास घर का निषेध क्यों

श्मशान के पास घर का निषेध क्यों  

वास्तु शास्त्र में भूखंड के आस-पास या आमने-सामने के स्थानों का बहुत महत्व है। भूखंड की शुभ या अशुभ दशा का अनुमान आस-पास की चीजों को देखकर किया जा सकता है। घर मनुष्य की गतिविधियों का केंद्र होता है, जहां पर वह अपनी पारिवारिक, सामाजिक एवं आर्थिक गतिविधियों की रूपरेखा तैयार करता है। इसलिए घर बनाने से पूर्व घर के आस-पास के स्थान का विचार कर लेना चाहिए। वास्तु शास्त्र में घर के समीप श्मशान का होना भयंकर दोष माना गया है। प्रत्येक मनुष्य जन्म लेता है तथा उसकी मृत्यु भी निश्चित है। यह बात सब जानते हैं, परंतु मृत्यु के आभास मात्र से ही व्यक्ति असंतुलित हो जाता है तथा उसकी मनस्थिति भावशून्य हो जाती है। घर के समीप श्मशान की स्थिति घर में रहने वाले सदस्यों में डर एवं भय का संचार करती है। यह भय मनुष्य की बुद्धि को असंतुलित कर देता है जिसके प्रभाव से मनुष्य का आत्मविश्वास बाधित होता है और मनुष्य की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। श्मशान के पास घर होने से प्रतिदिन शव देखने के कारण मनुष्य में शोक का संचार रहेगा। शोक हृदय की वह अवस्था है जो मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ बना देती है। शोक का एहसास बार-बार होने से मनुष्य के अंदर वैराग्य की भावना भी जन्म ले सकती है। घर के अंदर इस प्रकार की भावना के संचार से तथा प्रतिदिन रोते लोगों को देखने से घर में रहने वाले बच्चों के बालसुलभ मन पर प्रभाव पड़ सकता है। बच्चों में कई प्रकार की शंकाएं उत्पन्न हो सकती हैं जिससे बच्चों का विकास भी बाधित होता है। घर का निर्माण व्यक्ति सुखपूर्वक जीवनयापन करने के लिए करता है परंतु श्मशान घर के पास होने से सुख का स्थान दुख ले लेता है। श्मशान में प्रतिदिन शव को जलाने से उत्पन्न होने वाली चर्बी की दुर्गंध भी आस-पास के वातावरण को प्रभावित करती है। प्रदूषित वातावरण घर में रहने वाले सदस्यों के क्रियाकलापों को प्रभावित करता है जिससे घर के अंदर तनावमय वातावरण बन सकता है। श्मशान में शव के साथ आने वाले जनसमूह के कारण आस-पास के घरों की शांति भंग होती है तथा परिवार के सदस्यों में एकाग्रता की कमी होने लगती है। बार-बार जनसमूह के आवागमन से घर के आस-पास असामाजिक तत्व भी सक्रिय हो जाते हैं जिनसे घर की सुरक्षा भी प्रभावित होती है। घर का निर्माण मनुष्य शांति एवं निजता के लिए करता है परंतु श्मशान घर के पास होने से उसका संतुलन प्रभावित होता है। इन सब कारणों को देखते हुए वास्तुशास्त्र में श्मशान के पास घर बनाने का निषेध किया गया है।


वक्री ग्रह विशेषांक  अप्रैल 2015

फ्यूचर समाचार के वक्री ग्रह विषेषांक में वक्री, अस्त व नीच ग्रहों के शुभाषुभ प्रभाव के बारे में चर्चा की गई है। बहुत समय से पाठकों को ऐसे विशेषांक का इंतजार था जो उन्हें ज्योतिष के इन जटिल रहस्यों को उद्घाटित करे। ज्ञानवर्धक और रोचक लेखों के समावेष से यह अंक पाठकों में अत्यन्त लोकप्रिय हुआ। इस अंक के सम्पादकीय लेख में वक्री ग्रहों के प्रभाव की सोदाहरण व्याख्या की गई है। इस अंक में वक्र ग्रहों का शुभाषुभ प्रभाव, अस्त ग्रहों का प्रभाव एवं उनका फल, वक्री ग्रहों का प्रभाव, नीच ग्रह भी देते हैं शुभफल, क्या और कैसे होते हैं उच्च-नीच, वक्री एवं अस्तग्रह, कैसे बनाया नीच ग्रहों ने अकबर को महान आदि महत्वपूर्ण लेखों को शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त बी. चन्द्रकला की जीवनी, पंचपक्षी के रहस्य, लाल किताब, फलित विचार, टैरो कार्ड, वास्तु, भागवत कथा, संस्कार, हैल्थ कैप्सूल, विचार गोष्ठी, वास्तु परामर्ष, ज्योतिष और महिलाएं, व्रत पर्व, क्या आप जानते हैं? आदि लेखों व स्तम्भों के अन्तर्गत बेहतर जानकारी को साझा किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.