हस्तसंरचना का वैज्ञानिक पक्ष

हस्तसंरचना का वैज्ञानिक पक्ष  

व्यूस : 6553 | मार्च 2015

गर्भधारण होने के चार सप्ताह पश्चात् हाथों की रचना होनी आरम्भ हो जाती है। चैथे महीने के पश्चात् हाथों में मुख्य रेखाएं, उभार, उंगलियां व हथेली की रचना की प्रक्रिया सम्पन्न हो जाती है और यह आकृति जीवनपर्यन्त वैसी ही रहती है। इस प्रकार से हमारे ये हाथ गर्भ में हमारे जीवन का एक प्रकार का फाॅसिल रिकाॅर्ड होते हैं।

चिकित्सा विज्ञान का मानना है कि हथेली पर मुख्य रेखाएं ढाई से तीन महीने के गर्भ में ही बन जाती हैं, और सूक्ष्म रेखाएं, जिन्हें फिंगर प्रिंट्स (माइक्रो लाइंस) कहते हैं, गर्भ में छः महीने के होते-होते पूर्ण रूप से विकसित हो जाती हैं। आयुर्विज्ञान का मानना है कि हस्तरेखाओं का विस्तृत ज्ञान 21वें क्रोमोजोम में छिपा होता है अर्थात् हमारी हस्तरेखाएं पूर्णतया आनुवांशिक आधार पर विकसित होती हैं।

आयुर्विज्ञान में शोध के अनुसार 21वें क्रोमोजोम में अनियमितता के कारण बच्चों में मानसिक अनियमितताएं पैदा हो जाती हैं और उनकी हस्तरेखाओं में मस्तिष्क रेखा एवं हृदय रेखा दोनों आपस में मिलकर एक रेखा बनाती हुई पाई जाती हैं। ऐसा जातक सनकी हो सकता है क्योंकि मेडिकल साइंस के अनुसार यह फेटल एल्कोहल सिंड्रोम और आनुवांशिक विषमताओं का लक्षण होता है। इस प्रकार की समस्या पुरुषों में महिलाओं की अपेक्षा दोगुनी होती है।


For Immediate Problem Solving and Queries, Talk to Astrologer Now


आयुर्विज्ञान का ऐसा भी मानना है कि हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा आपस में तब जुड़ती हैं जब गर्भावस्था के प्रारंभ काल में माता को किसी भी प्रकार की मानसिक परेशानी या तनाव हो। यह सिद्ध करता है कि गर्भावस्था हस्तरेखाओं में बदलाव ला सकती है। यह सत्य भी है क्योंकि आनुवांशिक तथ्य तो हस्तरेखाओं का सृजन करते ही हैं, गर्भावस्था का लालन-पालन भी जातक के स्वास्थ्य एवं भविष्य को बदल सकता है।

the-scientific-formation-of-hand

हस्तरेखा ज्ञान में हस्त पर जो क्षेत्र मस्तिष्क के जिस भाग को क्रियान्वित करता है उसके अनुसार हाथ के विभिन्न क्षेत्रों को विभिन्न ग्रहों से जोड़ दिया गया है। जैसे कि तर्जनी के नीचे के क्षेत्र को गुरु पर्वत कहा गया है क्योंकि इसका सीधा संबंध मस्तिष्क के ज्ञान बिंदु से है। मध्यमा के नीचे के क्षेत्र को शनि क्षेत्र कहा गया है क्योंकि यह मस्तिष्क के कर्म बिंदु से जुड़ा है। कनिष्ठिका का मस्तिष्क की वैज्ञानिक गणना के क्षेत्र से संबंध है, अतः इसके नीचे का क्षेत्र बुध पर्वत माना जाता है। अनामिका में दो शिराओं का समावेश है जबकि बाकी सभी उंगलियों में एक शिरा ही संचालन करती है। मस्तिष्क के अधिकांश भाग पर इसका नियंत्रण है।

इस तरह सभी उंगलियों में इसका महत्व सर्वाधिक है और यही कारण है कि इसे सूर्य की उंगली की उपाधि दी गई है। कदाचित इसीलिए अधिकांश रत्नों को इसी उंगली में धारण करने का विधान किया गया है और अंग्रेजी में रिंग फिंगर की उपाधि दी गई है। जप माला का फेरना, तिलक, पूजन आदि भी इसके महत्व के कारण इस उंगली से किए जाते हैं।

the-scientific-formation-of-hand

अभी हाल ही में जीवविज्ञान की एक रिसर्च ने हाथों के कुछ रोचक तथ्यों को खोज निकाला जिनमें सर्वाधिक महत्वपूर्ण है तर्जनी व अनामिका उंगली का अनुपात व इसका टैस्टोस्टीयराॅन व एस्ट्रोजेन की मात्रा से सम्बन्ध। इसे डिजिट रेशियो ‘2D: 4D’ के नाम से जाना जाता है जिसे तर्जनी (2D) उंगली की लम्बाई को मापकर तथा उसे अनामिका (4D) उंगली की लम्बाई से भाग करके निकाला जाता है।

यही वह अनुपात है जिसका निर्धारण यौवनावस्था के पूर्व ही हो जाता है। पुरुषों की अनामिका उंगली उनकी तर्जनी से अधिकतर लम्बी पाई जाती है जबकि महिलाओं की तर्जनी उंगली प्रायः अधिक लम्बी होती है। अधिक सरल शब्दों में यह कहा जा सकता है कि अनामिका उंगली की लम्बाई का सीधा सम्बन्ध टैस्टोस्टीयराॅन व तर्जनी का एस्ट्रोजेन नामक हाॅरमोन से है।

यूरोप के लोगों में ‘2D: 4D’ अनुपात 1 से 0.96 तक रहता है जिसमें महिलाओं में यह अनुपात अधिक व पुरुषों में कम होता है अर्थात् पुरुषों की अनामिका उंगली अधिक बड़ी होती है व महिलाओं की तर्जनी उंगली अधिक लम्बी होती है।

परिणाम

  1. जिन पुरुषों का ‘2D: 4D’ अनुपात कम होता है वे अधिक सन्तानोत्पादक क्षमताओं से युक्त, आक्रामक तथा संगीत व खेल-कूद प्रेमी होते हैं।
  2. जिन पुरुषों का ‘2D: 4D’ अनुपात अधिक होता है उन्हें हृदय रोग होने की सम्भावनाएं रहती हैं।
  3. महिलाओं में ‘2D: 4D’ अनुपात कम होने की स्थिति में उनके अन्दर लेस्बियन/बाइसेक्सुअल होने की प्रवृत्ति अधिक पाई गई और ऐसी महिलाएं पुरुषों के समान आक्रामक व दृढ़-निश्चयी पाई गईं।
  4. महिलाओं में ‘2D: 4D’ अनुपात अधिक होने पर वे बेहतर संतानोत्पादक क्षमताओं से युक्त परन्तु उन्हें स्तन कैंसर का खतरा भी रहता है।
  5. स्किजोफ्रेनिया से पीड़ित अधिकतर पुरुषों व महिलाओं दोनों में ही ‘2D: 4D’ अनुपात अधिक पाया गया जबकि आॅटिज्म से ग्रस्त लोगों का यह अनुपात कम निकला।

Get Detailed Kundli Predictions with Brihat Kundli Phal


हाथों का रंग

आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के अनुसार कुछ अन्य तथ्य भी हैं जो हमें हाथों से प्राप्त हो सकते हैं। हाथों की शक्ल पर रंग के आधार पर हमारे स्वास्थ्य के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त की जा सकती है -

    1. रक्त संचारण की धीमी प्रक्रिया से हथेलियों का रंग हल्का नीलापन लिए होता है।
    2. हथेली का लाल रंग लीवर में सीरोसिस नामक बीमारी का संकेत देता है।

नाखून

  1. डायबिटीज का संकेत आधे सफेद व आधे गुलाबी नाखूनों से मिलता है।
  2. नीले नाखून Heavy metal Poisining, रक्त संचार की समस्या तथा फेफड़ों व हृदय सम्बन्धी रोगों का संकेत देते हैं।
  3. पीले व हरे नाखून श्वांस सम्बन्धी समस्याओं को दर्शाते हैं।
  4. नाखूनों का उंगलियों के अग्रभाग में गोलाई लिए होना खून में आॅक्सीजन की कमी, फेफड़े, लीवर व आंतों के रोगों का संकेत है।

फिंगर प्रिंट

    1. एक अध्ययन के अनुसार (Alzheimer's) नामक बीमारी से ग्रस्त लोगों की उंगलियों के अग्रभाग में उल्नार लूप अधिक पाया गया।
the-scientific-formation-of-hand
  1. हथेली में चक्र (Swirl) जेनेटिक डिसआॅर्डर के संकेतक हैं।

इस प्रकार हमारा हाथ माता के गर्भधारण के पश्चात से ही हमारे विकास को दर्शाता है व हमारे भविष्य का भी संकेतक होता है।


जीवन की सभी समस्याओं से मुक्ति प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें !


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

हस्तरेखा विशेषांक  मार्च 2015

फ्यूचर समाचार के हस्तरेखा विषेषांक में हस्तरेखा विज्ञान के रहस्यों को उद्घाटित करने वाले ज्ञानवर्धक और रोचक लेखों के समावेष से यह अंक पाठकों में अत्यन्त लोकप्रिय हुआ। इस अंक के सम्पादकीय लेख में हस्त संचरचना के वैज्ञानिक पक्ष का वर्णन किया गया है। हस्तरेखा शास्त्र का इतिहास एवं परिचय, हस्तरेखा शास्त्र के सिद्धान्त, हस्तरेखा शास्त्र- एक सिंहावलोकन, हस्तरेखाओं से स्वास्थ्य की जानकारी, हस्तरेखा एवं नवग्रहों का सम्बन्ध, हस्तरेखाएं एवं बोलने की कला, विवाह रेखा, हस्तरेखा द्वारा विवाह मिलाप, हस्तरेखा द्वारा विदेष यात्रा का विचार आदि लेखों को सम्मिलित किया गया है। इसके अतिरिक्त गोल्प खिलाड़ी चिक्कारंगप्पा की जीवनी, पंचपक्षी के रहस्य, लाल किताब, फलित विचार, टैरो कार्ड, वास्तु, भागवत कथा, संस्कार, हैल्थ कैप्सूल, विचार गोष्ठी, वास्तु परामर्ष, ज्योतिष और महिलाएं, व्रत पर्व, क्या आप जानते हैं? आदि लेखों व स्तम्भों के अन्तर्गत बेहतर जानकारी को साझा किया गया है।

सब्सक्राइब


.