brihat_report No Thanks Get this offer
fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer
विवाह मेलापक में प्रमुख दोष

जून 2011

व्यूस: 5966

विवाह का शुभ मुहूर्त निकालने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए क्या-क्या वर्जित है और विहित है ? अशुभ समय में किए गए कार्यों के कठिन परिणाम एवं अभिजित और गोधूलि लग्न की विशेषताओं का मुहूर्त में महत्व जानिए इस लेख द्वारा... और पढ़ें

ज्योतिषकुंडली मिलानविवाहमुहूर्तभविष्यवाणी तकनीक

कब होगा विवाह

जनवरी 2010

व्यूस: 5930

विवाह के विषय में सभी प्रश्नों में कुंडली में सातवें भाव, सप्तमेश, लग्नेश, शुक्र एवं गुरु की स्थिति को अवश्य ध्यान में रखना चाहिए। सप्तम भाव इसलिए देखते हैं कि कुंडली में विवाह से संबंधित यही भाव है। सप्तमेश को इसलिए देखा जाता है ... और पढ़ें

ज्योतिषविवाह

तलाक क्यों?

मार्च 2014

व्यूस: 5850

रागुआज लगभग प्रत्येक इंसान अपने पुत्र व पुत्री के विवाह में लाखों, करोड़ों रुपये खर्च कर देते हैं, उसके बावजूद भी विवाह के कुछ माह के उपरांत शादीशुदा जोड़ा कोर्ट में होता है तलाक की अर्जी लिए। आखिर क्या वजह है कि इतनी संपन्नता के वि... और पढ़ें

ज्योतिषघटनाएँज्योतिषीय योगग्रहविवाह

पंचम भाव - कुछ तथ्य

जनवरी 2007

व्यूस: 5589

जब हम किसी के प्रणय संबंधों को ज्योतिषीय दृष्टिकोण से देखते हैं तो प्रथमतः पंचम भाव पर विचार करते हैं। इस भाव में उदर गर्भ एवं मस्तिष्क गर्भ होते हैं जिनसे शिशु के जन्म, विचार एवं भविष्य की योजनाओं का विचार किया जाता है। ये जन्म ए... और पढ़ें

ज्योतिषघरविवाह

प्रेम-विवाह और ज्योतिषीय ग्रह योग

मई 2013

व्यूस: 5375

‘प्रेम-विवाह’ एक ऐसा शब्द है जो अपने अंदर कई भावनाओं को समेटे हुए है। जहां अभिभावकों के लिए यह चिंता, आशंका, क्रोध, संशय आदि का कारण बनता है, वहीं नवयुवक तथा नवयुवतियों के लिए यह संतोष, आशा एवं सुखद भविष्य की कल्पना को ऊंची उड़ान द... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगविवाह

वास्तु शास्त्र - दाम्पत्य जीवन

दिसम्बर 2014

व्यूस: 5321

आज का मानव अर्थ के पीछे दौड़ रहा है एवं भौतिक सुखों की प्राप्ति के लिए प्रयत्नशील है। पाश्चात्य संस्कृति अनुसार संस्कारों में परिवर्तन के साथ-साथ निवास/व्यवसाय/स्थल में भी वास्तु नियमों की अवहेलना की जा रही है जिससे परिवार सीमित... और पढ़ें

वास्तुविवाहवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएं

बहुविवाह एवं द्विविवाह

जनवरी 2007

व्यूस: 5127

अधिकतर हम ज्योतिषी लोग जन्म कुंडली मेलापक करते समय समग्र विषय पर विचार न करके विवाह के लिए सलाह दे देते हैं। गुण मिलाकर सलाह दे देने से वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं रहता, गुण के साथ-साथ ग्रहों का मिलान करना भी आवश्यक है। ग्रह मिलान करत... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगविवाहभविष्यवाणी तकनीक

सिंहस्थ गुरु में विवाह वर्जित क्यों?

जून 2015

व्यूस: 5069

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार विवाह विषयों में वर का सूर्य बल एवं चंद्र बल तथा वधू का गुरु बल एवं चंद्र बल देखा जाता है। सूर्य आत्मकारक ग्रह है। गुरु हृदयकारक एवं जीवन को प्रशस्त करने वाला ग्रह है। चंद्रमा मन का कारक ग्रह भी मा... और पढ़ें

ज्योतिषविवाहभविष्यवाणी तकनीक

मंगल दोष एवं प्रेम विवाह

अकतूबर 2011

व्यूस: 4925

विवाह संपूर्ण मानव जाति के लिए परमात्मा की एक अनुपम भेंट है. भारत वर्ष में लोग प्राचीन कला से ही विद्या अध्ययन के बाद विवाह करते थे, लेकिन वर्त्तमान समय के युवा वर्ग के बाद विवाह करते थे, लेकिन वर्त्तमान समय के युवा वर्ग यह नहीं म... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरविवाहग्रहभविष्यवाणी तकनीक

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)