आराम से सोने के लिए - कभी-कभी ऐसा देखा गया है कि बच्चा हो या स्त्री पुरुष, सोते समय वह अचानक चैंक जाते हैं अथवा डर जाते हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए अपने सिरहाने में एक फिटकरी का टुकड़ा रख दें, तो इस समस्या से छुटकारा मिल जायेगा। - हजार दाना दूध के साथ पीसकर देने से जिन माताओं को दूध न आ रहा हो उन्हें दूध आने लग जायेगा। ऐसा प्रायः देखा गया है। किसी रोग से ग्रसित होने पर - सोते समय सिरहाना पूर्व की ओर रखें। शयन कक्ष में एक मध्य आकार के कटोरे में सेंधा नमक के टुकड़े रखें। साथ ही चार रŸाी का सुनैला चांदी की अंगूठी में जड़वाकर गुरुवार को शुक्ल पक्ष में दाहिने हाथ की तर्जनी अंगुली में धारण करें। व्यापार वृद्धि हेतु - इस प्रयोग को शुक्ल पक्ष के पहले शुक्रवार को प्रारंभ करें। सबसे पहले साधक ब्रह्म मुहूर्त में शय्या त्यागकर दैनिक नित्य कार्यों से निवृŸा हो घर पर व्यापार स्थल के उŸारी कोण में गंगा जल से धोकर पवित्र करें। उस पर शुद्ध पिसी हल्दी जिसमें मिर्चादि का अंश न हो, लेकर एक सुंदर स्वस्तिक बनाएं। स्वस्तिक में चार बिंदियां अवश्य हों, स्वस्तिक के मध्य भाग में चने की दाल 50 ग्राम तथा 50 ग्राम गुड़ रखकर आवश्यक हो तो एक नई टोकरी से ढंक दें या ऐसे ही खुला छोड़ दें। इसे बार-बार न देखें। प्रत्येक गुरुवार को इस क्रिया को करें तथा अशुद्ध स्त्री की छाया से इसको बचाए रखें। - जिस वृक्ष पर चमगादड़ रहते हों, उस वृक्ष की एक टहनी रवि-पुष्य या गुरु-पुष्य योग में लाकर गद्दी के नीचे दबा दें। विधि यह है कि टहनी लाने के एक दिन पूर्व, संध्या के समय वृक्ष की पूजा प्रदक्षिणा कर जिस टहनी को लाना हो, उस पर रक्षा सूत्र (मौली) बांध दें तथा चावलों से उसे निमंत्रण देते हुए यह कहें कि ‘हे वनस्पति देवी, मैं कल प्रातः आपको लेने आऊंगा। आप अपने संपूर्ण बल से युक्त रहें तथा आपका तेज आपसे पृथक न हो,’ ऐसा कहकर वापस आ जाएं तथा पुनः दूसरे दिन सूर्योदय के समय जब पुष्य नक्षत्र हो, नहा धोकर वह टहनी ले आयें तथा धूप, दीप नैवेद्य से पूजा कर व्यापार स्थल में गद्दी के नीचे रखें। गद्दी के नीचे रखते समय ‘मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु स्वाहा।।’ मंत्र का 21 बार उच्चारण करना पर्याप्त रहता है।


दीपावली विशेषांक  अकतूबर 2016

फ्यूचर समाचार के वर्तमान विशेषांक को विशेष रूप से मां लक्ष्मी को समर्पित किया गया है। प्रत्येक जन रातोंरात अमीर व सुख सुविधा वाली जिन्दगी की तमन्ना करता है लेकिन मां लक्ष्मी को प्रत्येक आदमी प्रसन्न नहीं कर पाता, लेकिन दीपावली के अवसर पर उनकी विधि विधान से पूजा करके आप मां लक्ष्मी को आकर्षिक कर सकते हैं। इस वर्तमान विशेषांक में मां लक्ष्मी के ऊपर कई अच्छे लेख सम्मिलित किये हैं। लक्ष्मी को आकर्षित करने के व प्रसन्न करने के टोटके आदि भी सम्मिलित किये गये हैं इनके अतिरिक्त स्थायी स्तम्भों में पूर्व की भांति ही ज्योतिष पर आधारित लेख भी शामिल हैं, जिनमंे से कुछ लेख इस प्रकार हैं: महाशक्तिदायिनी मां दुर्गा पूजा का ज्योतिषीय योग, पंचमहा दिवसात्मक महापर्व दीपावली, दीपावली पूजन विधि, लक्ष्मी प्राप्ति के स्वर्णिम सरल प्रयोग, धन प्राप्त करने के सरल टोटके, धन प्राप्त करने के अचूक उपाय, प्रसन्न करें राशि अनुसार लक्ष्मी जी को, श्रीविद्या साधना आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.