कुछ उपयोगी टोटके

कुछ उपयोगी टोटके  

कुछ उपयोगी टोटके डाॅ. उर्वशी बंधु छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत जानकारी दी जा रही है... कार्य सिद्धि के लिए किसी भी कार्य विशेष की सिद्धि के लिए या इंटरव्यू में सफलता पाने के लिए यह उपाय यदि श्रद्धापूर्वक किया जाए तो पक्ष में परिणाम निश्चित है। काम के लिए बाहर जाते समय भगवान का निर्माल्य का फूल हाथ में लें और ‘गजानना गजानना’ का मूंगे या रुद्राक्ष की माला से एक माला जप करें फिर फूल जेब में रख कर कार्य पर चले जाएं। किंतु विदा होने के पूर्व गणपति की तस्वीर को प्रणाम कर लें। पीछे मुड़ कर न देखें, कार्य सिद्ध होकर रहेगा। व्यापार वृद्धि के लिए शुक्ल पक्ष के बुधवार को बिल्ली की जेर चांदी के सिक्के के साथ लाल कपड़े या थैली में रखकर श्रद्ध ापूर्वक तिजोरी में रखें। चांदी का सिक्का, चांदी का सिक्का न हो तो साधारण रुपये का सिक्का गंगाजल से शुद्ध करके साथ में रखें। ऐसा करने से निश्चित रूप से व्यापार में वृद्धि होगी। शीघ्र विवाह के लिए आयु अधिक होने के बाद भी यदि कन्या का रिश्ता पक्का न हो रहा हो तो यह उपाय करें। शुक्रवार की रात आठ छुहारे लें। ये छुहारे शुक्रवार को ही खरीदें। इन्हें जल में उबाल लें और जल के साथ ही अपने सिरहाने रख कर सो जाएं। यह जल चांदी के गिलास में या कटोरे में रखें तो उत्तम होगा। अगले दिन शनिवार को प्रातः स्नान करने के बाद इस जल और छुहारों को किसी बहते जल में प्रवाहित कर दें। घर के सदस्यों में आपसी स्नेह बढ़ाने के लिए स्फटिक माला से निम्न चैपाई का नित्य पाठ करें, परिवार के सदस्यों के साथ स्नेह बढ़ेगा। ‘‘जोहि के जेहि पर सत्य सनेहु सो तेहि मिलहि न कछु संदेहु मुकदमे में विजय प्राप्ति हेतु हनुमान जी के पर्वत लिए चित्र के समक्ष शुक्ल पक्ष के मंगलवार से निम्नलिखित चैपाइयों का रुद्राक्ष की माला से नित्य दो माला पाठ करें। हनुमान जी की कृपा प्राप्त होगी और मुदकमे में विजय मिलेगी। साथ ही हर प्रकार के क्लेश से मुक्ति मिलेगी। यह एक अचूक टोटका है। इसमें श्रद्ध ा जरूरी है। ‘पवन तनय बल पवन समाना बुद्धि विवेक विग्यान निधाना। कवन सो काज कठिन जग माहि जो नहि होई तात तुम पाहिं। धन वृद्धि के लिए हर बुधवार गाय को पीला पपीता खिलाएं, धन दिन दूना रात चैगुना बढ़ेगा। यह टोटका शुक्ल पक्ष से शुरू करें। मनोकामना की पूर्ति के लिए शुभ मुहूर्त में श्री कार्य सिद्धि यंत्र लें। भोजपत्र पर लाल चंदन से अपनी मनोकामना लिख लें। गुलाब की ग्यारह अगरबत्तियों से आरती उतारें। कामना पूर्ति के बाद कोई शुभ काम करने का संकल्प लें। उदाहरण के लिए कीर्तन भजन कराने, या किसी निश्चित संख्या में (सात, नौ आदि) गरीबों को भोजन कराना या भगवान को वस्त्र अर्पित करना जिस भोज पत्र पर मनोकामना लिखी है उसकी चार तह बनाकर कार्यसिद्धि यंत्र के नीचे रख दें और उसे नियमित रूप से गुलाब की पांच अगरबत्तियां दिखाएं व 21 बार अपनी मनोकामना कहें। फिर अगरबत्तियां मुख्य द्वार पर लगा दें। यह सारी क्रिया श्रद्धापूर्वक करें, मनोकामना पूरी होगी। पारिवारिक कलह से मुक्ति के लिए घर में झगड़े, कलह आदि होते हों तो महीने में एक बार दस किलो आटा व पांच किलो सरसों का तेल अनाथाश्रम, साधु आश्रम, वृद्धाश्रम, अंधालय को दान दें।



रत्न रहस्य विशेषांक   अकतूबर 2007

रत्न कैसे पहचाने? कहां से आते है रत्न? कैसे प्रभाव डालते है रत्न? किस रत्न के साथ कौन सा रत्न न पहनें, रत्नों से चमत्कार, रत्नों से उपचार, भारत अमेरिका परमाणु समझौता, भक्तों को आकर्षित करता वैष्णोदेवी मंदिर का वास्तु, प्रेम विवाह के कुछ योग

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.