कुछ उपयोगी टोटके

कुछ उपयोगी टोटके  

कुछ उपयोगी टोटके छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है। धन वृद्धिकारक टोटका ‘‘ऊँ ह्रीं ह्रीं ऊँ दक्षिणाय पश्चिमाय उŸारायाण पूरय सर्व जन वश्यं कुरु कुरु स्वाहा’’ इस मंत्र से प्रतिदिन भगवती पद्मावती देवी का धूप दीप से पूजन करें तथा मां का आवाह्न करते हुए कहें मेरे घर से दरिद्रता का नाश कर दो; व मेरे परिवार में धन-धान्य की समृद्धि कर दो प्रातः-सायं एक-एक माला जप 43 दिन तक करते रहें। नौकरी या व्यापार में भाग्योदय के लिए जिन व्यापारियों को अपने व्यापार में घाटा हो रहा हो अथवा जो अधिकारी वर्ग है उसे अपने उच्च अधिकारियों का वरद हस्त समाप्त हो रहा हो, तो वह इससे बचने के लिए नीलम, पन्ना तथा लहसुनिया इन तीन रत्नों को लाॅकेट के रूप में किसी शुभ मुहूर्त में धारण करने से, पाप ग्रहों का कितना भी कुप्रभाव पड़ रहा हो वह शांत हो जाता है तथा मंगलवार को हनुमान जी के उक्त मंत्रों का 21-21 बार प्रातः-सायं जप करें व हनुमान चालीसा का 11 बार पाठ करें तो सभी प्रकोप शांत हो जाते हैं। मंत्र- ऊँ रक्षो विध्वंसकारकाय नमः। ऊँ सर्व ग्रह विनाशाय नमः। ऊँ सर्व तंत्र स्वरूपाय नमः। ऊँ सर्व यंत्रात्मकाय नमः। प्रत्येक मंगलवार को व्रत करें। इंटरव्यू में चयन के लिए आप 12 गुलाब के फूल लें। शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार से प्रयोग करें। एक सफेद चादर पर 12 गुलाब के फूल रख लें। एक सफेद कागज पर रोली से मंत्र लिखें। ‘‘ऊँ ह्रीं घृणि सूर्य आदित्य श्रीं। धूप, दीप से पूजन करें। जब एक बार मंत्र बोलें, तो फूल हाथ में हो। मंत्र उच्चारण करते समय मंत्र को पढ़कर सफेद रुमाल से फूल उठाकर मंत्र लिखें और उसे सफेद कागज पर रख दें। इस तरह प्रत्येक फूल रुमाल से उठाना है व मंत्र पढ़ना है तथा मंत्रलिखित कागज पर रखते जाना है इस तरह बारह फूलों का पूजन करते जायें। ऐसा 12 दिन तक करें। इसके बाद इन फूलों को बहते पानी में बहा दें या जमीन में गड्ढा खोदकर दबा दें। इस प्रयोग से आपको नौकरी अवश्य मिल जायेगी। वास्तु दोष दूर करने हेतु वास्तु दोष घर में हो अथवा व्यवसाय के स्थान पर, उसे दूर करने केलिए लाल रंग के रिबन को मुख्य दरबाजे पर बांध दो। यह कार्य किसी शुभ मुहूर्त में ही करें। फिर देखो, आपके यहां कैसे सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।



तंत्र एवं दश महाविद्या विशेषांक  अकतूबर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के तंत्र एवं दशमहाविद्या विशेषांक में दस महाविद्याओं का संक्षिप्त परिचय व मंत्र, तंत्र एवं दस महाविद्या, तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक मारक शक्ति, शिव शक्ति का साक्षात श्री विग्रह श्रीयंत्र, तंत्र का आरंभि अर्थ एवं अंतिम लक्ष्य, तंत्र मंत्र अभिन्न संबंध, तंत्र परिभाषा एवं महत्वपूर्ण प्रयोग, दैनिक जीवन में तंत्र, दश महाविद्याओं का लौकिक एवं आध्यात्मिक विवेचन तथा इनके प्रसिद्ध शक्ति पीठों की जानकारी, तंत्र व् महाविद्या की प्राचीनता, मूल एवं विकास के विभिन्न प्रक्रम, तंत्र के अधिपति देव एवं मूल अधिष्ठात्री देवी, दश महाविद्या रहस्य, इसके अतिरिक्त तंत्र की शिक्षा भूमि तारापीठ, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, टैरो कार्ड, सत्यकथा, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.