अंक ज्योतिष का परिचय एवं महत्व

अंक ज्योतिष का परिचय एवं महत्व  

हमारे पूर्व पुरुषों ने शताब्दियों पहले अंकों के महत्व को समझ लिया था। कीरो ने अपनी पुस्तक में स्वीकार किया है कि प्रागैतिहासिक काल में भारत के ब्राह्मणों को अंक संबंधी गूढ़ विद्या का पूर्ण ज्ञान था। वे अंकों के अदृश्य गौरव और उनके सिद्धांतों द्वारा मानव जीवन पर होने वाले प्रभाव को मानते थे। वे लोग इस विद्या के आचार्य थे। ‘मध्यकालीन भारतीय संस्कृति’ नामक पुस्तक के लेखक ने लिखा है ‘‘भारत ने अन्य देशवासियों को जो अनेक बातें सिखाईं उनमें सबसे अधिक महत्व अंक विद्या का है। संसार भर में गणित, ज्योतिष, विज्ञान आदि की जो उन्नति पाई जाती है, उसका मूल कारण वर्तमान अंक-क्रम है, जिसमें 1 से 9 तक के अंक और शून्य, इन 10 चिह्नों से अंक विद्या का सारा काम चल रहा है। यह क्रम भारतवासियों ने ही निकाला और उसे सारे संसार ने अपनाया।’’ अंक शास्त्र के आधार अंक केवल 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8 और 9 हैं। गणित शास्त्र का नियम अंक शास्त्र से भिन्न है। अंक शास्त्र में हजारों, लाखों और अनंत संख्या का मूल्य इन्हीं नौ तक के अंकों में समाविष्ट है। गणित जिसे 11, 20, 29, 38, 47 आदि मानेगा उसे अंक शास्त्र ‘‘दो’’ मानेगा। इन्हें बाईं से दाईं ओर जोड़िए, सबका योग दो ही होगा। इस प्रकार अंक शास्त्र में चाहे जितनी बड़ी संख्या हो उसे 1 से 9 तक की पुनरावृत्ति माना जाएगा। ग्यारह अंक दो को, 12, 3 को 13, 4 को 14, 5 को दोहराता है। इस प्रकार अनन्त क्रम चलता रहता है। अंतिम अक्षर 9 है। नौ अंक को आप किसी भी अंक से गुणा कीजिए वह नौ ही रहेगा। यथा- 9 ग 2 = 18 1$8 = 9, 9 ग 3 = 27, 2$7 = 9, 9 ग 4 = 36 3$6 = 9, 9 ग 5 = 45, 4$5 = 9। इसी प्रकार 29 ग 9 = 261 2$6$1= 9 हुआ। अतः यह सिद्ध है कि 9 पूर्णांक है। अंकों की रचना वैज्ञानिक और चमत्कारपूर्ण है। द्वापर के अंत में अंक का चमत्कार इसी से देखा जा सकता है कि कौरव-पांडवों के युद्ध में 18 अक्षौहिणी सेना थी, 18 दिन तक युद्ध हुआ, उस युद्ध के 18 पर्व लिखे गए और श्रीकृष्ण ने अर्जुन को जो ज्ञान दिया वह भी 18 अध्यायों में था। इसके अतिरिक्त 18 स्मृतियां, 18 पुराण आदि 18 की संख्या की विशेषता प्रदर्शित करते हैं। इनका योग 9 होता है। ऐसे कई अंक हैं जिन्हें हमारे प्राचीन आचार्यों ने विशेष रूप से स्वीकार किया है। भारतीय दर्शन में अंक 7 का विशेष महत्व माना गया है। यह अंक आध्यात्मिक एवं रहस्यमय शक्तिसंपन्न है। 7 का महत्व इससे स्पष्ट हो जाता है कि हमारे यहां सात लोक, सात पाताल, सात पुरियां, सात समुद्र, सात स्वर, सप्त धातु, सात वार, सप्तऋषि, सूर्य के रथ के सात घोड़े, सात फेरे एवं रामायण में सात सोपान हैं। बाइबिल में सात के अंक को शुभ माना गया है। जैसे सात स्वर्ण, सात सिंहासन, सात गिरजाघर, डेविड से ईसा के जन्म तक सात पीढ़ियां, परमात्मा की सात आत्मशक्तियां, परमात्मा के सात दूतों का संसार में भ्रमण इत्यादि। मुसलमानों के पवित्र ग्रंथ कुरान की प्रथम सूरत फातिहा में सात आयतें हैं। इसी तरह अंकों के ऐसे अनेक उदाहरण मिल जाएंगे। जन्मतिथि का मूल अंक, भाग्यांक और नाम का संयुक्त अंक व्यक्ति के जीवन में न केवल अपने चारित्रिक गुणों को प्रभावित करते हैं, बल्कि उसके स्वास्थ्य, परिवार, आर्थिक स्थिति, पराक्रम, आवास-प्रवास, शहर या ग्राम निवास, देश-विदेश की यात्रा, भ्रमण, यौन सुख, व्यवसाय, आय-व्यय और भाग्य आदि के पक्षों को भी उजागर करते हैं। मूलांक कैसे ज्ञात करें मूलांक व्यक्ति के जन्म का दिनांक होता है यदि यह दो अंकों में हो तो उसे जोड़ कर जो संख्या आती है वही मूलांक कहलाता है। Û 1, 10, 19, 28 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 1 होगा। Û 2, 11, 20, 29 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 2 होगा। Û 3, 12, 21, 30 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 3 होगा। Û 4, 13, 22, 31 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 4 होगा। Û 5, 14, 23 तारीख को जन्मे व्यक्ति दो को, 12, 3 को 13, 4 को 14, 5 को दोहराता है। इस प्रकार अनन्त क्रम चलता रहता है। अंतिम अक्षर 9 है। नौ अंक को आप किसी भी अंक से गुणा कीजिए वह नौ ही रहेगा। यथा- 9 ग 2 = 18 1$8 = 9, 9 ग 3 = 27, 2$7 = 9, 9 ग 4 = 36 3$6 = 9, 9 ग 5 = 45, 4$5 = 9। इसी प्रकार 29 ग 9 = 261 2$6$1= 9 हुआ। अतः यह सिद्ध है कि 9 पूर्णांक है। अंकों की रचना वैज्ञानिक और चमत्कारपूर्ण है। द्वापर के अंत में अंक का चमत्कार इसी से देखा जा सकता है कि कौरव-पांडवों के युद्ध में 18 अक्षौहिणी सेना थी, 18 दिन तक युद्ध हुआ, उस युद्ध के 18 पर्व लिखे गए और श्रीकृष्ण ने अर्जुन को जो ज्ञान दिया वह भी 18 अध्यायों में था। इसके अतिरिक्त 18 स्मृतियां, 18 पुराण आदि 18 की संख्या की विशेषता प्रदर्शित करते हैं। इनका योग 9 होता है। ऐसे कई अंक हैं जिन्हें हमारे प्राचीन आचार्यों ने विशेष रूप से स्वीकार किया है। भारतीय दर्शन में अंक 7 का विशेष महत्व माना गया है। यह अंक आध्यात्मिक एवं रहस्यमय शक्तिसंपन्न है। 7 का महत्व इससे स्पष्ट हो जाता है कि हमारे यहां सात लोक, सात पाताल, सात पुरियां, सात समुद्र, सात स्वर, सप्त धातु, सात वार, सप्तऋषि, सूर्य के रथ के सात घोड़े, सात फेरे एवं रामायण में सात सोपान हैं। बाइबिल में सात के अंक को शुभ माना गया है। जैसे सात स्वर्ण, सात सिंहासन, सात गिरजाघर, डेविड से ईसा के जन्म तक सात पीढ़ियां, परमात्मा की सात आत्मशक्तियां, परमात्मा के सात दूतों का संसार में भ्रमण इत्यादि। मुसलमानों के पवित्र ग्रंथ कुरान की प्रथम सूरत फातिहा में सात आयतें हैं। इसी तरह अंकों के ऐसे अनेक उदाहरण मिल जाएंगे। जन्मतिथि का मूल अंक, भाग्यांक और नाम का संयुक्त अंक व्यक्ति के जीवन में न केवल अपने चारित्रिक गुणों को प्रभावित करते हैं, बल्कि उसके स्वास्थ्य, परिवार, आर्थिक स्थिति, पराक्रम, आवास-प्रवास, शहर या ग्राम निवास, देश-विदेश की यात्रा, भ्रमण, यौन सुख, व्यवसाय, आय-व्यय और भाग्य आदि के पक्षों को भी उजागर करते हैं। मूलांक कैसे ज्ञात करें मूलांक व्यक्ति के जन्म का दिनांक होता है यदि यह दो अंकों में हो तो उसे जोड़ कर जो संख्या आती है वही मूलांक कहलाता है। Û 1, 10, 19, 28 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 1 होगा। Û 2, 11, 20, 29 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 2 होगा। Û 3, 12, 21, 30 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 3 होगा। Û 4, 13, 22, 31 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 4 होगा। Û 5, 14, 23 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 5 होगा। Û 6, 15, 24 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 6 होगा। Û 7, 16, 25 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 7 होगा। Û 8, 17, 26 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 8 होगा। Û 9, 18, 27 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूल अंक 9 होगा। भाग्यांक कैसे ज्ञात करें उदाहरण के लिए किसी की जन्म तारीख 04.03.1964 है, तो मूल अंक 4 होगा एवं भाग्यांक 9 (4$3$1$1$9$6$4 = 27 (2$7= 9) होगा। नाम का संयुक्तांक कैसे ज्ञात करें जैसे किसी का नाम नरेंद्र कुमार टेलर है। तो नाम का संयुक्तांक इस प्रकार निकाला जाएगा। छ । त् म् छ क् त्। 5 1 2 5 5 4 2 1 ज्ञ न् ड । त् 2 6 4 1 2 ज् । प् स् व् त् 4 1 1 3 7 2 (5$1$2$5$5$4$2$1 $ 2$6$4$1$2 $ 4$1$1$3$7$2 = 58 (5 $8 = 13) ( 1$3 = 4) नाम का संयुक्तांक 4 होगा। जन्मतिथि के मूलांक, भाग्यांक और नाम के संयुक्तांक के सामंजस्य से ही घरेलू जीवन के सुख, व्यावसायिक उन्नति, प्रशासनिक योग्यता आदि के संबंध में जाना जा सकता है। वैसे अब तक के अनुभव में आया है कि जन्मतिथि के मूलांक, भाग्यांक और नाम के संयुक्तांक तीनों में से एक तो प्रबल होता ही है। पाठकगण स्वयं अपने मूलांक-भाग्यांक-संयुक्तांक निकालकर जन्मकुंडली में उनके स्वामियों की स्थिति देख सकते हैं। मूलांक, भाग्यांक तथा संयुक्तांक के स्वामियों में आपसी तालमेल या मित्रता हो तो संबंधित जातक का जीवन सुखमय हो सकता है। सूर्य का अंक: अंक 1 का प्रतिनिधित्व सूर्य करता है। इनके प्रभाव क्षेत्र में पैदा हुए जातक कुलीन, रईस, ख्यातिप्राप्त, अधिकारी, डाॅक्टर आदि बनते हैं। यदि मूलांक सूर्य का और भाग्यांक शनि अथवा शुक्र का हो तो ऐसे लोग दुर्घटना के शिकार होते हैं। चंद्रमा का अंक: अंक 2 का प्रतिनिधित्व चंद्रमा करता है। ऐसे लोग शांत, विनम्र, विचारशील, गुणी और विलक्षण होते हैं। इनमें शरीर की अपेक्षा मानसिक बल अधिक होता है। 2 अंक वालों से अच्छी बनती है। इन्हें जल्दी क्रोध आ जाता है और कभी-कभी आवश्यकता से अधिक कठोर बन जाते हैं। गुरु का अंक: गुरु अंक 3 का प्रतिनिधि है। इसके शुभ प्रभाव में होने पर जातक नीतिज्ञ, क्षमाशील, सुखी, व्यवहारकुशल, प्रसन्नचित्त, लेखक, अध्यापक, वकील, साहित्य तथा ज्योतिष प्रेमी, संपादक, सलाहकार, मंत्री, राजपुरोहित आदि बनते हैं। अशुभ प्रभाव होने पर नाक, कान, गले की बीमारी, सूजन, चर्बी जनित रोग तथा मोटापे की शिकायत रहती है। राहु का अंक: अंक 4 का प्रतिनिधित्व राहु करता है। ऐसे अंक के शुभ प्रभाव में जातकों का भाग्योदय अचानक होता है। अशुभ प्रभाव होने पर अथक परिश्रम करने पर भी उन्हें सफलता नहीं मिलती। बुध का अंक: बुध को अंक 5 का प्रतिनिधि माना गया है। बुध के शुभ प्रभाव में होने पर जातक कूटनीतिक, वकील, उच्च स्तरीय लेखक, प्रतिभाशाली, बुद्धिजीवी, गणितज्ञ, ज्योतिषी, व्यापारी आदि होते हैं। इसका अशुभ प्रभाव स्नायु, श्वास, वाणी दोष, सिर दर्द, दमा, तपेदिक आदि रोगों का कारण बनता है। शुक्र का अंक: अंक 6 को शुक्र का प्रतिनिधि माना गया है। बलवान शुक्र वाला जातक धनी, व्यापारी, वाहनयुक्त, रूपवान, जौहरी, कलाकार, तांत्रिक, ज्योतिषी बनता है। सांसारिक सुखों का कारक शुक्र को माना गया है। शुक्र के अशुभ होने पर जातक मधुमेह, गुप्त रोग आदि से ग्रस्त होता है, उसका विवाह-विच्छेद हो जाता है या वह प्रेम में असफल होता है। केतु का अंक: केतु को अंक 7 का स्वामी माना गया है। इस अंक के शुभ प्रभाव में जातक अपनी कल्पना एवं विचार शक्ति से मुश्किल से मुश्किल कार्य भी कर लेता है। लेकिन ऐसे जातक धन संग्रह बहुत कठिनाई से कर पाते हैं। शनि का अंक: अंक 8 शनि का प्रतिनिधित्व करता है। इससे रोग, शत्रु, जीवन, आयु, मृत्यु अथवा विनाश के कारणों, दुःखों एवं अभावों का विचार किया जाता है। शनि के शुभ स्थिति में होने पर जातक की आयु लंबी और इच्छा शक्ति मजबूत होती है। वह ऐश्वर्यवान तथा ख्यातिलब्ध होता है और उसका जीवन स्थिर होता है। मंगल का अंक: मंगल को अंक 9 का प्रतिनिधि माना गया है। ऐसे अंक के शुभ प्रभाव वाले जातक जमीन-जायदाद वाले, भाइयों का सुख प्राप्त करने वाले, नेतृत्व करने के अभिलाषी, सेना-पुलिस से संबंधित, इंजीनियर, डाॅक्टर एवं ख्याति प्राप्त खेलों से संबंधित होते हैं। अशुभ प्रभाव में होने पर जातक कुकर्मी, अपराधी एवं धोखा देने वाले होते हैं।


पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  अप्रैल 2006

सभ्यता के आरम्भिक काल से ही फलकथन की विभिन्न पद्धतियां विश्व के विभिन्न हिस्सों में प्रचलित रही हैं। इन पद्धतियों में से अंक ज्योतिष का अपना अलग महत्व रहा है यहां तक कि अंक ज्योतिष भी विश्व के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग रूपों में प्रचलित है तथा इन सब में आपस में ही विभिन्नता देखने को मिलती है। हालांकि सभी प्रकार के अंक ज्योतिष के उद्देश्य वही हैं तथा इनका मूल उद्देश्य मनुष्य को मार्गदर्शन देकर उनका भविष्य बेहतर करना तथा वर्तमान दशा को सुधारना है। फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में अंक ज्योतिष के आधार पर फलकथन को वरीयता दी गयी है। इसमें मुख्यतः कीरो की पद्धति का अनुशरण किया गया है। इसके अन्तर्गत समाविष्ट महत्वपूर्ण आलेखों में- अंक ज्योतिष का परिचय एवं महत्व, अंक फलित के त्रिकोण प्रेम, बुद्धि एवं धन, मूलांक से जानिए भाग्योदय का समय, नाम बदलकर भाग्य बदलिए, हिन्दी के नामाक्षरों द्वारा व्यवसाय का चयन, अंक ज्योतिष का महत्वपूर्ण पहलू स्तूप, अंक एवं आॅपरेशन दुर्योधन, मूलांक, रोग और उपाय, अंक विद्या द्वारा जन्मकुण्डली का विश्लेषण आदि। इन आलेखों के अतिरिक्त दूसरे भी अनेक महत्वपूर्ण आलेख अन्य विषयों से सम्बन्धित हैं। इसके अतिरिक्त पूर्व की भांति स्थायी स्तम्भ भी संलग्न हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.