भाग्यवृद्धि में वास्तु शास्त्र की प्रबल भूमिका

भाग्यवृद्धि में वास्तु शास्त्र की प्रबल भूमिका  

भाग्य वृद्धि में वास्तु शास्त्र की प्रबल भूमिका प्रश्न : किसी जातक को भाग्यवृद्धि हेतु उपाय वास्तु के अनुसार करने चाहिए या ज्योतिष के आधार पर? आप जो उपाय अधिक कारगर समझते हैं, उसके पक्ष में उचित साक्ष्य एवं कारणों का विस्तारपूर्वक वर्णन करें। जीवन में प्रगति एवं भाग्य सुधार के लिए मुखयतः दो विधाओं का सहारा लिया जाता है - ज्योतिष एवं वास्तु शास्त्र। दोनों विधाएं भाग्य में वृद्धि तो कर सकती हैं, उसे बदल नहीं सकतीं। भाग्य को बदलने की शक्ति तो केवल अखिल ब्रह्मांड नायक प्रभु को है। वास्तु शास्त्र एवं ज्योतिष शास्त्र भाग्य को सुधारने में केवल सहायता करते हैं। भारतीय दर्शन एवं ज्योतिष शास्त्र के मत से पूर्व जन्म के कर्म ही वर्तमान जीवन में भाग्य का निर्धारण करते हैं। कर्म का फल अवश्य भोगना पड़ता है। उपचार उस कर्म के फल को न्यून या अधिक करता है। उदाहरणार्थ शीत काल में ठंड पड़ती है, लेकिन उससे बचाव के लिए हम गर्म कपड़े एवं रूई की रजाई बनाते हैं। वैसे ही, वास्तु शास्त्र मनुष्य को उन्नति, सुख आदि की प्राप्ति का रास्ता दिखाता है, किंतु इसके लिए प्रकृति के नियमों का पालन करना आवश्यक होता है। मानव के जीवन में दोनों का प्रभाव रहता है। दोनों के अनुकूल होने पर जीवन में सुख-शांति बनी रहती है। दोनों प्रतिकूल हों, तो जीवन कष्टमय होता है। ऐसे में एक कष्ट समाप्त होता है तो दूसरा उभरकर सामने आ जाता है। एक अनुकूल और दूसरा प्रतिकूल हो तो भी जीवन संघर्षमय ही बना रहता है। वास्तु शास्त्र उच्चकोटि का विज्ञान है जो प्रकृति के नियमों पर आधारित है। यह जल, वायु, अग्नि, आकाश एवं भूमि में संतुलन रखने का आदेश देता है। वास्तु शास्त्र प्रत्यक्ष शास्त्र है जिसके सिद्धांतों का पालन करने पर लाभ मिलने की संभावना प्रबल रहती है। ज्योतिष शास्त्र परोक्ष शास्त्र है, जिसके अनुसार फलकथन करने के लिए गणना की सहायता ली जाती है। ज्योतिष शास्त्र एक जटिल शास्त्र है। इसके अनुसार फलकथन करने के लिए 27 नक्षत्रों, बारह राशियों, बारह लग्नों, षष्ठ वर्ग, अंतर्दशा, प्रत्यंतर्दशा, सूक्ष्म दशा आदि का ज्ञान आवश्यक होता है। इसके अतिरिक्त इसमें गोचर का ध्यान रखना पड़ता है। साथ ही अनुभव एवं देव शक्ति का संबल लेना पड़ता है। उसके बाद उपचार करना पड़ता है। उपचार के विभिन्न साधन हैं यथा यंत्र, मंत्र, तंत्र, रत्न आदि। वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तरी एवं दक्षिणी ध्रुव से गुरुत्वाकर्षण शक्ति प्राप्त होती है जो मानव मस्तिष्क को जाग्रत रखने में सहायता करती है। पूर्व दिशा से सौर ऊर्जा का आगमन होता है जो मनुष्य को शक्तिमान बनाती है। पूर्व-उत्तर दिशा से खगोलीय ऊर्जा अर्थात् प्राण ऊर्जा प्राप्त होती है जिसके कारण मानव स्वयं को क्रियाशील अनुभव करता है। वास्तु शास्त्र के नियमों को अपनाना ज्योतिष शास्त्र की तुलना में सरल है। लेकिन वास्तु नियमों को भी विभिन्न चरणों में अपनाना पड़ता है जैसे भूमि का चयन, गृह निर्माण का मुहूर्त, गृह प्रवेश का मुहूर्त, मुखय द्वार की शुभता और अशुभता, दिशाओं की विशेषताएं आदि। इनके अतिरिक्त इन बातों का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए कि पूजा घर, शयन कक्ष, स्नान गृह, शौचालय आदि कहां हों, सीढ़ियां किस दिशा में हों, किस तरफ घुमाव हो, भवन में रंगों की व्यवस्था कैसी हो आदि। यह निर्विवाद है कि ज्योतिष और वास्तु का संबंध गहरा है। दोनों एक-दूसरे के पूरक हैं। यह तथ्य यहां प्रस्तुत कुछ उदाहरण से स्पष्ट हो जाता है। श्री सरयू शरण मिश्र (कुंडली नं. 1) एक साधारण व्यक्ति हैं। उनका लग्न वृश्चिक है। लग्न में शनि और सूर्य हैं। द्वितीय भाव में बुध, तृतीय में शुक्र, पंचम में चंद्र, षष्ठ में केतु और द्वादश में मंगल, गुरु एवं राहु हैं। श्री शर्मा सूर्य की महादशा में बुध-केतु-शुक्र की अंतर्दशा से परेशान हैं। बच्चों की बीमारी के कारण कर्ज में आ गए। इनके घर में भी दोष था। एक दरवाजा उत्तर की ओर था जो साधारण था। दूसरा दरवाजा र्नैत्य कोण तथा शौचालय ईशान कोण में था। एक ज्योतिषी की सलाह से उन्होंने मोती तथा पुखराज धारण किए जिससे आय बढ़ गई, लेकिन रोग एवं ऋण की शिकायत बनी रही। पुनः उन्होंने वास्तु शास्त्री से संपर्क किया। उनकी राय से उन्होंने र्नैत्य कोण वाला दरवाजा बंद कर दिया एवं शौचालय वायव्य कोण में ले गए। अब उन्हें ऋण से बहुत हद तक मुक्ति मिल चुकी है और बच्चों के स्वास्थ्य में भी काफी सुधार हुआ है। श्री सीताराम अग्रवाल (कुंडली नं. 2) पटना के निवासी हैं। उनकी कुंडली वृष लग्न की है। लग्न में सूर्य, चंद्र एवं बुध हैं। पंचम भाव में गुरु एवं केतु हैं। सप्तम में स्वगृही मंगल, एकादश में राहु एवं व्यय भाव में शनि और शुक्र हैं। सूर्य की महादशा में गृह निर्माण कर गृह प्रवेश किया। किराए के घर में सुख-शांति से रह रहे थे, लेकिन अपने घर में आने पर अशांति एवं परेशानी का अनुभव किया। इनके दरवाजे के सामने शीशम का वृक्ष था। सीढ़ियों के नीचे स्टोर रूम बना रखा था। एक वास्तुशास्त्री से राय लेकर उक्त वृक्ष को कटवा दिया। साथ ही स्टोर रूम को दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थानांतरित कर दिया। परिवर्तन करने के बाद स्थिति समान्य हो गई। वास्तु शास्त्र के नियमों के पालन से तत्काल लाभ मिला और सारे परिवार को शांति मिली। एक और उदाहरण उड़ीसा के एक जमींदार व्यक्ति का है। इनका घर शहर में है। घर वास्तु शास्त्र के अनुसार बना था। ईशान कोण में कुआं एवं हनुमान जी का स्थान था। मुखिया का शयन कक्ष दक्षिण दिशा में है। स्टोर दक्षिण-पश्चिम कोण में था अतिथि कक्ष वायव्य कोण में स्थित था। घर की लंबाई चौड़ाई-बराबर थी। सामान्यतः परिवार के लोगों का समय सुखपूर्वक बीतता रहा, पर इधर कुछ वर्षों से परेशानी आन पड़ी। जातक ने वास्तु शास्त्री से परामर्श किया। उन्होंने कहा कि घर की आयु समाप्त हो गई है, इसे दैविक अनुष्ठान से पुनः जीवित किया जाए। गृह स्वामी ने वैसा ही किया, फिर भी शांति नहीं मिली। ज्योतिषी से संपर्क किया। अपने परिवार के सदस्यों की कुंडलियां दिखाईं तो पता चला कि प्रायः हर सदस्य पर षष्ठेश एवं सप्तमेश की दशा और अंतर्दशा चल रही है। इसके लिए सामूहिक शांति कराई गई। इससे स्पष्ट हो जाता है कि वास्तु की स्थिति अच्छी होने पर भी ग्रहों का प्रभाव मानव पर पड़ता है। मुंबई में एक व्यक्ति चंद्रशेखर शर्मा हैं। तेजतर्रार व्यक्ति हैं। इन्होंने जमीन खरीदकर वास्तुसम्मत घर बनाया। नए घर में आए तो अशांति बढ़ने लगी जबकि किराए के घर में स्थिति अच्छी थी। वास्तु शास्त्र एवं ज्योतिष के जानकारों से सलाह की, पर कारण पता नहीं चला। बहुत सोचने-समझने के बाद जातक भूस्वामी के पास गया। जमीन का इतिहास पूछा तो पता चला कि उक्त स्थान पर पहले श्मशान था। बाद में जमीन को खोदा गया और नीचे से मानव तथा पशु की हडि्डयां निकाली गईं। फिर वास्तु शांति कराई गई, तब जाकर सुख-शांति लौटी। एक विशेष उदाहरण फ्यूचर समाचार गत वर्ष के जुलाई अंक में प्रकाशित आरुषि हत्याकांड से संबद्ध है। स्तंभ लेखिका श्रीमती आभा बंसल जी ने आरुषि, नूपुर और राजेश तलवार की जन्मपत्रियों में प्रतिकूल दशा और प्रतिकूल गोचर के कारण परिवार को हुई भारी क्षति का विश्लेषण किया था। तीनों जन्मकुंडलियों में गुरु की स्थिति भी अत्यंत कमजोर थी। श्री कुलदीप सलूजा ने भी उक्त पत्रिका के गत वर्ष के सितंबर अंक में राजेश तलवार के घर के वास्तु विश्लेषण में र्नैत्य कोण के दोषपूर्ण होने की बात कही थी। साथ ही अन्य दोषों का विवरण भी दिया था। कहने का अर्थ यह है कि समय रहते ज्योतिषीय एवं वास्तु सम्मत उपाय किए जाते तो संभव था कि तलवार परिवार का संकट टल जाता। निष्कर्ष रूप में कहा जा सकता है कि ज्योतिष के अनुरूप भाग्यवृद्धि के उपाय करने में ज्योतिष के नियमों की जटिलता आड़े आती है, लेकिन वास्तुसम्मत उपाय शीघ्र प्रभावी होते हैं। किंतु उचित यह है कि अधिक जटिल समस्याओं के समाधान के प्रभावशाली उपाय के लिए दोनों ही विधाओं का सहारा लेना चाहिए।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
bhagya vriddhi men vastu shastra kiprabal bhumikaprashn : kisi jatak ko bhagyavriddhi hetu upay vastu ke anusar karne chahie ya jyotish ke adharpr? ap jo upay adhik karagar samjhte hain, uske paksh men uchit sakshya evan karnon ka vistarpurvakavarnan karen.jivan men pragti evan bhagyasudhar ke lie mukhytah dovidhaon ka sahara liyajata hai - jyotish evan vastu shastra.donon vidhaen bhagya men vriddhi to karskti hain, use badal nahin saktin.bhagya ko badlne ki shakti to kevlakhil brahmand nayak prabhu ko hai.vastu shastra evan jyotish shastrabhagya ko sudharne men keval sahaytakrte hain.bhartiya darshan evan jyotish shastrake mat se purva janm ke karm hi vartamanjivan men bhagya ka nirdharan karte hain.karm ka fal avashya bhogna partahai. upchar us karm ke fal ko nyunya adhik karta hai. udahrnarth shitkal men thand parti hai, lekin ussebchav ke lie ham garm kapre evan ruiki rajai banate hain. vaise hi, vastushastra manushya ko unnati, sukh adiki prapti ka rasta dikhata hai, kintuiske lie prakriti ke niyamon ka palnkrna avashyak hota hai. manav kejivan men donon ka prabhav rahta hai.donon ke anukul hone par jivan mensukh-shanti bani rahti hai. dononpratikul hon, to jivan kashtamay hotahai. aise men ek kasht samapt hota haito dusra ubharakar samne a jatahai. ek anukul aur dusra pratikulho to bhi jivan sangharshamay hi banarhta hai.vastu shastra uchchakoti ka vigyanhai jo prakriti ke niyamon par adharithai. yah jal, vayu, agni, akashaevan bhumi men santulan rakhne ka adeshdeta hai.vastu shastra pratyaksh shastra hai jiskesiddhanton ka palan karne par labhmilne ki sanbhavna prabal rahti hai.jyotish shastra paroksh shastra hai, jiskeanusar falakathan karne ke liegnna ki sahayta li jati hai.jyotish shastra ek jatil shastrahai. iske anusar falakathan karne kelie 27 nakshatron, barah rashiyon, barahalagnon, shashth varg, antardasha, pratyantardasha,sukshm dasha adi ka gyan avashyakhota hai. iske atirikt ismen gochrka dhyan rakhna parta hai. sath hianubhav evan dev shakti ka sanbal lenaprta hai. uske bad upchar karnaprta hai. upchar ke vibhinn sadhnhain yatha yantra, mantra, tantra, ratn adi.vastu shastra ke anusar uttari evandakshini dhruv se gurutvakarshan shaktiprapt hoti hai jo manav mastishk kojagrat rakhne men sahayta karti hai.purva disha se saur urja ka agmnhota hai jo manushya ko shaktiman banatihai. purva-uttar disha se khagoliya urjaarthat pran urja prapt hoti hai jiskekaran manav svayan ko kriyashilanubhav karta hai.vastu shastra ke niyamon ko apnanajyotish shastra ki tulna men saral hai.lekin vastu niyamon ko bhi vibhinnacharanon men apnana parta hai jaise bhumika chayan, grih nirman ka muhurt, grihapravesh ka muhurt, mukhay dvar ki shubhtaaur ashubhta, dishaon ki visheshtaenadi. inke atirikt in baton kabhi vishesh dhyan rakhna chahie kipuja ghar, shayan kaksh, snan grih,shauchalay adi kahan hon, sirhiyan kisdisha men hon, kis taraf ghumav ho,bhavan men rangon ki vyavastha kaisi hoadi.yah nirvivad hai ki jyotish aurvastu ka sanbandh gahra hai. dononek-dusre ke purak hain. yah tathya yahanprastut kuch udaharan se spasht hojata hai.shri saryu sharan mishra (kundli nan.1) ek sadharan vyakti hain. unkalagn vrishchik hai. lagn men shani aursurya hain. dvitiya bhav men budh, tritiya menshukra, pancham men chandra, shashth men ketu auradvadash men mangal, guru evan rahu hain.shri sharma surya ki mahadsha menbudh-ketu-shukra ki antardasha se pareshanhain. bachchon ki bimari ke karan karjamen a gae. inke ghar men bhi dosh tha.ek darvaja uttar ki or tha josadharan tha. dusra darvaja rnaityakon tatha shauchalay ishan kon mentha. ek jyotishi ki salah se unhonnemoti tatha pukhraj dharan kie jisseay barh gai, lekin rog evan rinki shikayat bani rahi.punah unhonne vastu shastri se sanparkakiya. unki ray se unhonne rnaityakon vala darvaja band kar diyaevan shauchalay vayavya kon men le gae.ab unhen rin se bahut had tak muktimil chuki hai aur bachchon ke svasthya menbhi kafi sudhar hua hai.shri sitaram agraval (kundli nan.2) patna ke nivasi hain. unki kundlivrish lagn ki hai. lagn men surya, chandra evanbudh hain. pancham bhav men guru evan ketu hain.saptam men svagrihi mangal, ekadash menrahu evan vyay bhav men shani aur shukrahain. surya ki mahadsha men grih nirmanakar grih pravesh kiya. kirae ke gharmen sukh-shanti se rah rahe the, lekinapne ghar men ane par ashanti evanpreshani ka anubhav kiya. inkedrvaje ke samne shisham ka vriksh tha.sirhiyon ke niche stor rum bana rakhatha. ek vastushastri se ray lekraukt vriksh ko katva diya. sath histor rum ko dakshin-pashchim disha mensthanantrit kar diya. parivartan karneke bad sthiti samanya ho gai. vastushastra ke niyamon ke palan se tatkallabh mila aur sare parivar ko shantimili.ek aur udaharan urisa ke ekjmindar vyakti ka hai. inka gharashahar men hai. ghar vastu shastra keanusar bana tha. ishan kon men kuanevan hanuman ji ka sthan tha. mukhiyaka shayan kaksh dakshin disha men hai.stor dakshin-pashchim kon men thaatithi kaksh vayavya kon men sthittha. ghar ki lanbai chaurai-barabrthi. samanyatah parivar ke logon kasamay sukhpurvak bitta raha, par idhrkuch varshon se pareshani an pari.jatak ne vastu shastri se paramarshakiya. unhonne kaha ki ghar ki ayusmapt ho gai hai, ise daivik anushthanse punah jivit kiya jae. grih svamine vaisa hi kiya, fir bhi shanti nahinmili. jyotishi se sanpark kiya. apneprivar ke sadasyon ki kundliyandikhain to pata chala ki prayah harasadasya par shashthesh evan saptamesh kidsha aur antardasha chal rahi hai. iskelie samuhik shanti karai gai. issespasht ho jata hai ki vastu ki sthitiachchi hone par bhi grahon ka prabhavmanav par parta hai.munbai men ek vyakti chandrashekhar sharmahain. tejatarrar vyakti hain. inhonne jaminkhridakar vastusammat ghar banaya. naeghar men ae to ashanti barhne lagijbki kirae ke ghar men sthiti achchithi. vastu shastra evan jyotish kejankaron se salah ki, par karnpta nahin chala. bahut sochne-samjhneke bad jatak bhusvami ke pas gaya.jmin ka itihas pucha to pata chalaki ukt sthan par pahle shmashan tha.bad men jamin ko khoda gaya aurniche se manav tatha pashu ki hadidyannikali gain. fir vastu shanti karaigai, tab jakar sukh-shanti lauti.ek vishesh udaharan fyuchrsmachar gat varsh ke julai ank menprakashit arushi hatyakand se sanbaddhahai. stanbh lekhika shrimti abha banslji ne arushi, nupur aur rajesh talvarki janmapatriyon men pratikul dasha aurapratikul gochar ke karan parivar kohui bhari kshati ka vishleshan kiyatha. tinon janmakundliyon men guru kisthiti bhi atyant kamjor thi.shri kuldip saluja ne bhi uktapatrika ke gat varsh ke sitanbar ank menrajesh talvar ke ghar ke vastu vishleshnmen rnaitya kon ke doshpurn hone kibat kahi thi. sath hi anya doshonka vivaran bhi diya tha.khne ka arth yah hai ki samyrhte jyotishiya evan vastu sammat upaykie jate to sanbhav tha ki talvarprivar ka sankat tal jata.nishkarsh rup men kaha ja sakta haiki jyotish ke anurup bhagyavriddhi keupay karne men jyotish ke niyamon kijtilta are ati hai, lekinvastusammat upay shighra prabhavihote hain. kintu uchit yah hai kiadhik jatil samasyaon kesmadhan ke prabhavshali upay ke liedonon hi vidhaon ka sahara lenachahie.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


वास्तु एवं शेयर बाज़ार विशेषांक  फ़रवरी 2009

शेयर एवं वास्तु बाजार आधारित विशेषांक में शेयर बाजार, मेदिनीय ज्योतिष एवं शेयर बाजार, भारत में सेंसेक्स का भविष्य, व्यक्ति विशेष के लिये लाभदायक उत्पादों का चयन, शेयर बाजार में सफल व्यक्तियों की कुंडलियों संबंधित जानकारी प्राप्ति की जा सकती है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.