विदेशों में प्रचलित टोने-टोटके

विदेशों में प्रचलित टोने-टोटके  

विदेशों में प्रचलित टोने-टोटके नवीन राहूजा टोने-टोटकों के बारे में जानने के लिए आपको आस्तिक बनकर विश्वास करना होगा कि यह एक ऐसी शक्ति है जो हम सबको परिचालित करती है। यह शक्ति मंत्र में निहित होती है। इसके विपरीत नास्तिकों से किसी भी प्रकार की श्रद्धा एवं विश्वास की अपेक्षा नहीं की जाती है। दूसरी ओर अत्यधिक आस्तिकता एक अंधविश्वास में परिणत हो जाती है। मानव समाज में अंधविश्वास आदिकाल से ही बहुत प्रचलित रहे हैं। भारत या विश्व का कोई भी देश या समाज ऐसा नहीं है जो अंधविश्वास न करता हो। प्राकृतिक घटनाओं एवं सामाजिक जीवन से संबंधित अनेक अंधविश्वास सभी समाजों में पाए जाते हैं। शकुन और अपशकुन और अपशकुन का गणित सभी समाजों में लगाया जाता है। अंधविश्वासों की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि कोई भी व्यक्ति स्वयं को अंधविश्वासी स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं होता जबकि सभी लोग यह मानते हैं कि दूसरों में अंधविश्वास पाया जाता है। इसी प्रकार विदेशों में प्रचलित कुछ अंधविश्वास इस प्रकार से हैं- मिस्र के निवासियों की यह धारणा थी कि जब नील नदी के कीचड़ पर सूरज की किरणें पड़ती हैं तो उसमें मेढक, चूहे, सांप और मगरमच्छ उत्पन्न होते हैं। इंग्लैंड के निवासी अंक 13 को शुभ मानते हैं, जबकि क्रिकेट में वह अंक 87 का स्कोर को अशुभ कहते हैं। न्यूजीलैंड के निवासी मरे हुए व्यक्ति के हाथ बांधकर उसे कब्र में गाड़ते हैं। इसके पीछे उनकी यह धारणा है कि कहीं वह कब्र से बाहर न निकल आए। ऐस्किमो लोग हवा की दिशा बदलने के लिए हमेशा ढोल बजाते हैं। इंग्लैंड की स्त्रियां घर का कूड़ा-करकट मुखय द्वार से नहीं निकालतीं, उनका विश्वास है कि ऐसा करने से घर से शुभता एवं लक्ष्मी चली जाती है। यूनान में दुष्ट आत्माओं से नवजात शिशु की रक्षा करने के लिए उसके झूले को तीन बार उल्टा करके आग के पास ले जाने की प्रथा है। ग्रीनलैंड के निवासी बच्चे के शव के साथ एक कुत्ते को भी दफनाते हैैं। उनकी धारणा है कि वह कुत्ता परलोक में बच्चे का मार्गदर्शन करेगा। जापान में लोग यात्रा पर जाने से पहले अपने नाखून नहीं काटते। प्राचीन काल में रूसी सेना का नायक भूरे रंग के घोड़े पर बैठकर युद्ध में जाता था। स्पेन के निवासी जहाज में चढ़ते समय पहले दायां पैर रखते हैं। अरब के लोग तेज आंधी आने पर 'लोहा-लोहा' चिल्लाते हैं। उनका मत है कि ऐसा करने से तूफान शांत हो जाता है। क्यूबा के निवासी चांदनी रात को (पूर्णिमा) बुरा मानते हैं, इसलिए वे रात की चांदनी में नंगे सिर बाहर नहीं निकलते। आस्ट्रेलिया में (होलोइनडे) के दिन लोग अपने घर के मुखय द्वार के बाहर सीताफल में आदमी की शक्ल बनाकर रखते हैं और इस बात के पीछे उनका यह मानना है कि इससे उनके घर और परिवार की बुरी नजर व भूत-प्रेतों तथा ऊपरी हवाओं से रक्षा होती है। टोने-टोटके और अंधविश्वास में पर्याप्त अंतर होता है। किसी भी प्रकार की पुरानी परंपरा पर चलना और उससे किसी भी प्रकार का लाभ न होना अंधविश्वास की श्रेणी में आता है। लेकिन टोने-टोटके इससे अलग होते हैं। टोने-टोटके किसी परंपरा से नहीं जुड़े होते अपितु वे प्राचीन होते हैं तथा सही समय व विधि के अनुसार तथा गुरु आदेश से किये गये टोटके का अनुकूल परिणाम शीघ्र ही प्राप्त होता है।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
videshon men prachlit tone-totkenvin rahujatone-totkon ke bare menjanne ke lie apkoastik bankrvishvas karna hoga ki yah ekaisi shakti hai jo ham sabkoprichalit karti hai. yah shakti mantramen nihit hoti hai. iske vipritnastikon se kisi bhi prakar kishraddha evan vishvas ki apeksha nahin kijati hai.dusri or atyadhik astikta ekandhvishvas men parinat ho jati hai.manav samaj men andhvishvasadikal se hi bahut prachlit rahehain. bharat ya vishva ka koi bhi deshya samaj aisa nahin hai jo andhvishvasan karta ho.prakritik ghatnaon evan samajikjivan se sanbandhit anek andhvishvassbhi samajon men pae jate hain. shakunaur apshkun aur apshkun kagnit sabhi samajon men lagaya jatahai. andhvishvason ki sabse barivisheshta yah hai ki koi bhi vyaktisvayan ko andhvishvasi svikar karneke lie taiyar nahin hota jabkisbhi log yah mante hain ki dusron menandhvishvas paya jata hai. isiprakar videshon men prachlit kuchandhvishvas is prakar se hain- misra ke nivasiyon ki yah dharnathi ki jab nil nadi ke kicharapar suraj ki kirnen parti hain tousmen medhak, chuhe, sanp auramagaramachch utpann hote hain. inglaind ke nivasi ank 13 koshubh mante hain, jabki kriket menvah ank 87 ka skor ko ashubhkhte hain. nyujilaind ke nivasi mare huevyakti ke hath bandhakar use kabramen garte hain. iske piche unkiyah dharna hai ki kahin vah kabra sebahar n nikal ae. aiskimo log hava ki dishabdlne ke lie hamesha dholbjate hain. inglaind ki striyan ghar kakura-karakat mukhay dvar se nahinnikaltin, unka vishvas hai kiaisa karne se ghar se shubhta evanlakshmi chali jati hai. yunan men dusht atmaon se navjatshishu ki raksha karne ke lie uskejhule ko tin bar ulta karkeag ke pas le jane ki pratha hai. grinlaind ke nivasi bachche ke shavke sath ek kutte ko bhi dafnatehaiain. unki dharna hai ki vah kuttaprlok men bachche ka margadarshanakarega. japan men log yatra par jane sephle apne nakhun nahin katte. prachin kal men rusi sena kanayak bhure rang ke ghore par baithkryuddh men jata tha. spen ke nivasi jahaj men charhtesamay pahle dayan pair rakhte hain. arab ke log tej andhi ane par'loha-loha' chillate hain. unkamat hai ki aisa karne se tufanshant ho jata hai. kyuba ke nivasi chandni rat ko(purnima) bura mante hain, islie verat ki chandni men nange sir bahrnhin niklte. astreliya men (holoinde) ke dinlog apne ghar ke mukhay dvar kebahar sitafal men admi kishakla banakar rakhte hain aur isbat ke piche unka yah manna haiki isse unke ghar aur parivarki buri najar v bhut-preton tathaupri havaon se raksha hoti hai.tone-totke aur andhvishvas menparyapt antar hota hai. kisi bhiprakar ki purani paranpra par chalnaaur usse kisi bhi prakar ka labhan hona andhvishvas ki shreni menata hai. lekin tone-totke issealag hote hain. tone-totke kisipranpra se nahin jure hote apitu veprachin hote hain tatha sahi samay vavidhi ke anusar tatha guru adesh sekiye gaye totke ka anukulprinam shighra hi prapt hota hai.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


उपाय व टोटके विशेषांक  आगस्त 2011

टोने –टोटके तथा उपायों का जनसामान्य के लिए अर्थ तथा वास्तविकता व संबंधित भ्रांतियां. वर्तमान में प्रचलित उपायों – टोटकों की प्राचीनता, प्रमाणिकता, उपयोगिता एवं कारगरता. विभिन्न देशों में प्रचलित टोटकों का स्वरूप, विवरण तथा उनके जनकों का संक्षिप्त परिचय.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.