ग्रह स्थिति एवं व्यापार

ग्रह स्थिति एवं व्यापार  

गोचर फल विचार मासारंभ में सूर्य व शनि का समसप्तक योग में होना तथा मंगल का राशि संबंध में रहना तथा सिंह राशि में राहु व गुरु का राशि संबंध तथा उन पर मंगल के साथ स्थित शनि का दृष्टिगत होना यह योग नए-नए रोगों से आम जनता में भय की स्थिति को बनाए रखेगा। उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों में हिंसक घटनाओं और सांप्रदायिक हिंसा, अग्निकांड जैसी घटनाओं का संकेत देता है। आम जनता के द्वारा सत्ता पक्ष का विरोध और शासकीय परिवर्तन का योग बनाता है। इन योगों के कारण सीमावर्ती क्षेत्रों में भी विशेष हलचल बनी रहेगी। दैनिक उपयोगी वस्तुओं में कमी और अत्यधिक महंगाई के कारण भी जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। वक्री मंगल का तुला राशि में प्रवेश करना तथा शनि से द्विद्र्वादश योग में आना आतंकवादी घटनाओं में बढ़ावा देकर लोगों में भय का माहौल बनाए रखेगा। इस मास में उत्तर-पश्चिमी राज्यों में गर्म हवाओं के साथ कहीं-कहीं पर हल्की वर्षा का योग बनाएगा और प्राकृतिक प्रकोप से जन धन हानि का योग भी बनाता है। गोचर ग्रह परिवर्तन व नक्षत्र वेध मासारंभ में 2 जून को गुरु ग्रह पूफा. नक्षत्र के तृतीय चरण में प्रवेश करेगा। 3 जून को राहु पू.फा. नक्षत्र के तृतीय चरण में व केतु पू. भा. के प्रथम चरण में प्रवेश करेगा। 4 जून को वक्री मंगल ग्रह विशाखा नक्षत्र में प्रवेश कर सर्वतोभद्र चक्र में धनिष्ठा नक्षत्र को तथा दक्षिण वेध से कृतिका नक्षत्र का वेध करेगा। इसी दिन बुध कृतिका नक्षत्र में प्रवेश कर श्रवण नक्षत्र का वेध करेगा। 6 जून को चंद्र दर्शन सोमवार के दिन 15 मुहूर्ती में होगा। 7 जून को सूर्य व शुक्र एक साथ मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश कर उ. षा. नक्षत्र का वेध करंेगे। 8 जून को बुध वृष राशि में आकर सूर्य व बुध के साथ राशि संबंध बनाएगा। 13 जून को शुक्र ग्रह मिथुन राशि में आकर मंगल से दृष्टिगत होगा। 14 जून को सूर्य भी मिथुन राशि में आकर शुक्र के साथ राशि संबंध बना लेगा तथा आषाढ़ संक्रांति 30 मुहूर्ती में होगी। 15 जून को बुध रोहिणी नक्षत्र में आकर अभिजित नक्षत्र का वेध करेगा। 17 जून को वक्री मंगल तुला राशि में प्रवेश करेगा। 18 जून को शुक्र आद्र्रा नक्षत्र में आकर पू. षा. नक्षत्र का वेध करेगा। 21 जून को सूर्य आद्र्रा नक्षत्र में प्रवेश कर पू. षा., हस्त व, उ. भा. नक्षत्रों का वेध करेगा। 23 जून को बुध मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश कर उ.षा. नक्षत्र का वेध करेगा। 25 जून को बुध ग्रह पूर्व में अस्त होगा। 27 जून को बुध मिथुन राशि में आकर सूर्य व शुक्र के साथ राशि संबंध बनाएगा। 29 जून को मंगल ग्रह मार्गी होगा तथा इसी दिन शुक्र पुनर्वसु नक्षत्र में प्रवेश कर मूल नक्षत्र का वेध करेगा। 30 जून को बुध आद्र्रा नक्षत्र में प्रवेश कर पूफा. नक्षत्र का वेध करेगा। सोना व चांदी मासारंभ में 2 जून को सोना व चांदी के बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद मंदी का वातावरण बनाएगा। 4 जून को बाजारों में तेजी का रूझान बना देगा। 6 जून को सोने के बाजारों में तेजी व चांदी के बाजारों में मंदी का योग दर्शाता है। 7 जून को बाजारांे में पूर्वरूख को ही बनाएगा। 8 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी की लहर को ही चलाएगा। 13 जून को बाजारों में पूर्वरूख को ही बनाएगा। 14 जून को बाजारांे में तेजी का दायक ही बनाएगा। 15 से 17 जून तक बाजारों में तेजी के रूख का माहौल बना देगा। 18 जून को बाजारों में कुछ मंदी का रूख दर्शाता है। 21 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 23 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव का रूख ही बनाएगा। 25 जून को बाजारों में पूर्वरूख का दायक ही बनाएगा। 27 जून को विशेषतया उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का ही वातावरण बनाएगा। 29 और 30 जून को बाजारों में पूर्व रूख के चलते तेजी का योग बनाए रखेगा। गुड़ व खांड़ मासारंभ में 2 और 3 जून को गुड़ व खांड़ के बाजारों में मंदी का ही माहौल बनाएगा। 4 जून को बाजारांे में उतार-चढ़ाव के बाद मंदी का रूख ही बनाएगा। 7 जून को बाजारांे में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 8 जून को भी बाजारों में तेजी का योग दर्शाता है। 13 और 14 जून को बाजारों में पूर्वरूख के चलते तेजी का ही योग बनाएगा। 17 जून को बाजारों में तेजी की लहर को ही चलाएगा। 18 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव की विशेष स्थिति का योग दर्शाता है। 21 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का रूख बरकरार रखेगा। 23 जून को बाजारों में पूर्वरूख का माहौल बनाएगा। 25 जून को बाजारों में तेजी का दायक ही बनाएगा। 27 जून से 30 जून तक बाजारों में उतार-चढ़ाव के चलते रूख तेजी की तरफ ही बनाएगा। अनाजवान एवं दलहन मासारंभ में 2 जून को जौ, चना, ज्वार-बाजरा इत्यादि अनाजवानों तथा मूंग, मौठ, मसूर, अरहर इत्यादि दलहन के बाजारों में तेजी की तरफ रूख बनाएगा। 4 जून को बाजारों में कुछ मंदी का माहौल ही दर्शाता है। 7 जून को बाजारों में पुनः तेजी की लहर को ही आगे चलाएगा। 8 जून को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 13 जून को बाजारांे में तेजी का योग ही दर्शाता है। 14 जून को बाजारों में विशेषतया उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का योग ही बनाएगा। 15 जून को बाजारों में पूर्वरूख ही बनाएगा। 17 जून को बाजारों में तेजी का दायक ही बना देगा। 18 जून को बाजारों में मंदी का माहौल ही बनाएगा। 23 जून को बाजारों में पुनः तेजी की लहर को ही आगे चलाएगा। 25 जून व 27 जून को बाजारों में तेजी का ही योग बना रहेगा। उसके बाद मासान्त तक तेजी का रूझान बना रहेगा। घी व तेलवान मासारंभ में घी व तेलवान के बाजारांे में 2 जून को कुछ मंदी का रूझान ही बनाएगा। 3 जून से 6 जून तक बाजारों में कुछ रूख मंदी की तरफ ही बनाएगा। 8 जून तक बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी की लहर को आगे चलाएगा। 13 और 14 जून को बाजारों में तेजी का ही योग दर्शाता है। 14 जून से 18 जून तक बाजारों में कुछ मंदी का ही माहौल बनाएगा। 21 जून को बाजारांे में तेजी का ही वातावरण बनाएगा। 23 जून को भी बाजारों में तेजी की स्थिति को ही बनाएगा। 25 जून को बाजारों में पूर्वरूख का दायक ही बना देगा। 27 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 29 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद रूख तेजी का ही बना देगा। 30 जून को घी व तेलवान के बाजारों में तेजी का रूख ही बरकरार रखेगा।


हनुमत आराधना एवं शनि विशेषांक  जून 2016

फ्यूचर समाचार के जून माह के हनुमत आराधना एवं शनि विशेषांक में अति विशिष्ट व रोचक ज्योतिषीय व आध्यात्मिक लेख दिए गये हैं। कुछ लेख जो इसके अन्तर्गत हैं- श्री राम भक्त हनुमान एवं शनि देव, प्रेम की जीत, शनि देव का अनुकूल करने के 17 कारगर उपाय, वाट्सएप और ज्योतिष, शनि ग्रह का गोचर विचार आदि। इनके अतिरिक्त स्थायी स्तम्भ में जो लेख प्रकाशित होते आए हैं। स्थायी स्तम्भ में भी पूर्व की भांति ही लेख सम्मिलित हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.