घर में फलदार वृक्ष एवं पीपल कलह एवं अशांति का कारण

घर में फलदार वृक्ष एवं पीपल कलह एवं अशांति का कारण  

घर में फलदार वृक्ष एवं पीपल कलह एवं अशांति का कारण पं. गोपाल शर्मा (बी.ई.) कुछ माह पूर्व पंडित जी गुड़गांव के एक व्यापारी के यहां वास्तु परीक्षण करने गए थे। उनसे मिलने पर उन्होंने बताया कि जब से उन्होंने अपना नया घर बनाया है तभी से व्यापार में हानि एवं सभी कार्यों मंे रुकावटें व विलंब होता रहता है। उनका स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता है। बच्चों की पढ़ाई में भी गिरावट होनी शुरु हो गई है। बड़ा बेटा अपनी मनमानी करता है और उससे वैचारिक मतभेद की वजह से घर में मानसिक तनाव बना रहता है। वास्तु परीक्षण करने पर पाए गए वास्तु दोष - उनके घर का उत्तर-पूर्व कोना कटा हुआ था जो कि आर्थिक हानि, पारिवारिक उन्नति एवं सुख-समृद्धि में बाधक होता है। - दक्षिण-पश्चिम में शौचालय होना घर के मालिक के स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों तथा अनावश्यक खर्चों का कारण होता है। - पूर्व में सीढियां विकास में बाधक होती हैं (मुख्यतः बच्चों के) तथा छाती संबंधी रोग होने की आशंका रहती है। - रसोई में उत्तर-पूर्व में गैस तथा दक्षिण-पूर्व में पानी होना घर में वैचारिक मतभेद होने का कारण होता है। - बड़े पुत्र का शयन कक्ष दक्षिण-पश्चिम में होने की वजह से वह अपने पिता पर हावी रहता है। - घर में फलदार वृक्ष (आम, जामुन) तथा पीपल होना अशुभ होता है जिससे कलह व अशांति बनी रहती है। सुझाव - उत्तर-पर्वू म ंे कट े काने े का े मटै ल का परगाले ा बनाकर ठीक करने को कहा, जिससे घर आयताकार हो सके। - दक्षिण-पश्चिम में बने शौचालय को पश्चिम के कोने में बनाने को कहा गया। - पूर्व में बनी सीढ़ियां हटवाने को कहा और उत्तर-पश्चिम में बनी सीढ़ियों को ही इस्तेमाल करने को कहा गया। - रसोई में गैस को दक्षिण-पूर्व तथा सिंक को उत्तर-पूर्व में स्थानांतरित करने को कहा। - बेटे को पश्चिम में बने कमरे में तथा उनको दक्षिण-पश्चिम के कमरे में रहने को कहा गया। - उनके घर में लगे आम, जामुन व पीपल के पेड़ (जो कि अभी ज्यादा बड़े नहीं हुए थे) को हटवाकर सार्वजनिक पार्क में लगवाने को कहा गया। पंडित जी ने उनको आश्वासन दिया कि सभी सुझावों को कार्यान्वित करने के पश्चात उन्हें अवश्य लाभ मिलेगा।



दीपावली विशेषांक  October 2017

फ्यूचर समाचार का अक्टूबर का विशेषांक पूर्ण रूप से दीपावली व धन की देवी लक्ष्मी को समर्पित विशेषांक है। इस विशेषांक के माध्यम से आप दीपावली व लक्ष्मी जी पर लिखे हुए ज्ञानवर्धक आलेखों का लाभ ले सकते हैं। इन लेखों के माध्यम से आप, लक्ष्मी को कैसे प्रसन्न करें व धन प्राप्ति के उपाय आदि के बारे में जान सकते हैं। कुछ महत्वपूर्ण लेख जो इस विशेषांक में सम्मिलित किए गये हैं, वह इस प्रकार हैं- व्रत-पर्व, करवा चैथ व्रत, दीपावली एक महान राष्ट्रीय पर्व, दीपावली पर ‘श्री सूक्त’ का विशिष्ट अनुष्ठान, धन प्राप्त करने के अचूक उपाय, दीपावली पर करें सिद्ध विशेष धन समृद्धि प्रदायक मंत्र एवं उपाय, आपका नाम, धन और दिवाली के उपाय, दीपावली पर कैसे करें लक्ष्मी को प्रसन्न, शास्त्रीय धन योग आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.